नई दिल्ली : केन्द्रीय मंत्री डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा है कि जनता को झूठे वायदों से गुमराह करने वाले मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पार्टी के बीच दिल्ली में यदि चुनावी गठबंधन होता है तो सबसे ज्यादा खुशी उन्हें होगी, क्योंकि इन दोनों दलों के कार्यकर्ता ही इनके प्रत्याशियों को हराने में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करेंगे। गत वर्षों में आम आदमी पार्टी और इसके नेताओं तथा कांग्रेस पार्टी एवं उसके नेताओं के बीच इतनी ज्यादा कटुता पैदा हुई है कि इसका खामियाजा दिल्ली की जनता को भुगतना पड़ा है।

यह वही केजरीवाल हैं जिन्होंने मुख्यमंत्री शीला दीक्षित के खिलाफ स्वयं संसद मार्ग थाने में जाकर उनके भ्रष्टाचारों की जांच करके उन्हें सजा दिलाने की मांग की थी। शीला दीक्षित के खिलाफ आज भी संसद मार्ग थाने में 400 पेज की प्रथम सूचना रिपोर्ट दर्ज है, जिसे स्वयं केजरीवाल तथा उनके वरिष्ठ सहयोगियों ने थाने जाकर दर्ज कराई थी।

डाॅ. हर्षवर्धन ने कहा यह वही केजरीवाल हैं, जिन्होंने अपने बच्चों की कसम खाकर कहा था कि वे कभी भी कांग्रेस पार्टी से समझौता नहीं करेंगे। दिल्ली के चुनाव जीतने के लिए आम आदमी पार्टी ने 70 सूत्रीय घोषणापत्र जारी किया था। घोषणापत्र में किए गए किसी भी वायदे को पूरा नहीं किया। घोषणापत्र में 500 नए स्कूल, 20 डिग्री काॅलेज खोलने का वायदा किया गया था, जो आज तक पूरा नहीं हुआ है।

कैबिनेट के फैसले के बाद दिल्ली की अनधिकृत कॉलोनियां नियमित की तरह चमकेंगी : हर्षवर्धन