BREAKING NEWS

आडवाणी, स्वराज ने शीला दीक्षित को दी श्रद्धांजलि ◾सोमवार को 2 बजकर 43 मिनट पर होगा चंद्रयान-2 का प्रक्षेपण◾LIVE : कांग्रेस मुख्यालय पहुंचा शीला दीक्षित का पार्थिव शरीर, निगमबोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार◾झारखंड : गुमला में डायन होने के शक में 4 लोगों की पीट-पीटकर हत्या◾कारगिल शहीदों की याद में दिल्ली में हुई ‘विजय दौड़’, लेफ्टिनेंट जनरल ने दिखाई हरी झंडी◾ आज सोनभद्र जाएंगे CM योगी, पीड़ित परिवार से करेंगे मुलाकात ◾शीला दीक्षित की पहले भी हो चुकी थी कई सर्जरी◾BJP को बड़ा झटका, पूर्व अध्यक्ष मांगे राम गर्ग का निधन◾पार्टी की समर्पित कार्यकर्ता और कर्तव्यनिष्ठ प्रशासक थीं शीला दीक्षित : रणदीप सुरजेवाला ◾सोनभद्र घटना : ममता ने भाजपा पर साधा निशाना ◾मोदी-शी की अनौपचारिक शिखर बैठक से पहले अगले महीने चीन का दौरा करेंगे जयशंकर ◾दीक्षित के बाद दिल्ली कांग्रेस के सामने नया नेता तलाशने की चुनौती ◾अन्य राजनेताओं से हटकर था शीला दीक्षित का व्यक्तित्व ◾जम्मू कश्मीर मुद्दे के अंतिम समाधान तक बना रहेगा अनुच्छेद 370 : फारुक अब्दुल्ला ◾दिल्ली की सूरत बदलने वाली शिल्पकार थीं शीला ◾शीला दीक्षित के आवास पहुंचे PM मोदी, उनके निधन पर जताया शोक ◾शीला दीक्षित कांग्रेस की प्रिय बेटी थीं : राहुल गांधी ◾जीवनी : पंजाब में जन्मी, दिल्ली से पढाई कर यूपी की बहू बनी शीला, फिर बनी दिल्ली की मुख्यमंत्री◾शीला दीक्षित ने दिल्ली एवं देश के विकास में दिया योगदान : प्रियंका◾शीला दीक्षित के निधन पर दिल्ली में 2 दिन का राजकीय शोक◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

AAP रिपोर्ट कार्ड : बनने थे 1000 मोहल्ला क्लिनिक, बने सिर्फ 191

आम आदमी पार्टी (आप) जिसे स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपने काम के लिए सराहा गया है, साढ़े चार साल के शासन के बाद भी अपने किए गए 1,000 मोहल्ला क्लिनिक के वादे पर खरी नहीं उतर पाई है, क्योंकि मार्च तक पार्टी केवल 191 क्लिनिक ही चालू करा सकी है। 

शुरुआत में, इस परियोजना में देरी हुई क्योंकि आप सरकार और उप-राज्यपाल का कार्यालय मोहल्ला क्लिनिक सहित पार्टी की विभिन्न प्रमुख परियोजनाओं की मंजूरी को लेकर आपस में भिड़ रहा था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जून 2016 में शहर में 1,000 क्लिनिकों का वादा किया, लेकिन सितंबर 2017 में ही इस परियोजना को उप-राज्यपाल (एलजी) की मंजूरी मिल सकी। 


4 जुलाई, 2018 तक दिल्ली के मंत्रिमंडल को अपने सभी निर्णयों के लिए राज्यपाल से अनुमोदन लेना पड़ता था। सर्वोच्च न्यायालय के 4 जुलाई के फैसले के बाद ही दिल्ली मंत्रिमंडल को अपने निर्णय लेने की शक्ति मिली। हालांकि, राज्यपाल से मंजूरी के बाद भी भूमि की अनुपलब्धता के कारण परियोजना पूरी तरह से लागू नहीं हो सकी है। 

डीडीए सहित विभिन्न भूमि-स्वामित्व एजेंसियां क्लिनिकों के लिए भूमि प्रदान करने के लिए तैयार नहीं हैं। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि 55 लाख से अधिक लोगों को क्लिनिक में सेवा दी गई है। विभाग के अनुसार, "प्रति दिन एक क्लिनिक का औसत स्तर लगभग 90 लोग हैं।" दिल्ली में फरवरी 2015 में आप सत्ता में आई थी और सरकार का कार्यकाल फरवरी 2020 में पूरा हो रहा है।