BREAKING NEWS

कमलेश तिवारी हत्याकांड की ATS ने 24 घंटे के भीतर सुलझायी गुत्थी, तीन षडयंत्रकर्ता गिरफ्तार◾FATF के फैसले पर बोले सेना प्रमुख- दबाव में पाकिस्तान, करनी पड़ेगी कार्रवाई◾हरियाणा विधानसभा चुनाव: भाजपा ने जवान, राफेल, अनुच्छेद 370 और वन रैंक पेंशन को क्यों बनाया मुद्दा?◾यूपी उपचुनाव: विपक्ष को कुछ सीटों पर उलटफेर की उम्मीद◾हरियाणा और महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिए आज थम जाएगा प्रचार, आखिरी दिन पर मोदी-शाह समेत कई दिग्गज मांगेंगे वोट◾INX मीडिया केस: इंद्राणी मुखर्जी का दावा- चिदंबरम और कार्ति को 50 लाख डॉलर दिए◾खट्टर बोले- प्रतिद्वंद्वियों ने पहले मुझे 'अनाड़ी' कहा, फिर 'खिलाड़ी' लेकिन मैं केवल एक सेवक हूं◾SC में बोले चिदंबरम- जेल में 43 दिन में दो बार पड़ा बीमार, पांच किलो वजन हुआ कम◾PM मोदी को श्रीकृष्ण आयोग की रिपोर्ट पर कार्रवाई करनी चाहिए : ओवैसी ◾हिन्दू समाज पार्टी के नेता की दिनदहाड़े हत्या : SIT करेगी जांच◾कमलेश तिवारी हत्याकांड : राजनाथ ने डीजीपी, डीएम से आरोपियों को तत्काल पकड़ने को कहा◾सपा-बसपा ने सत्ता को बनाया अराजकता और भ्रष्टाचार का पर्याय : CM योगी◾FBI के 10 मोस्ट वांटेड की लिस्ट में भारत का भगोड़ा शामिल◾करतारपुर गलियारा : अमरिंदर सिंह ने 20 डॉलर का शुल्क न लेने की अपील की ◾प्रफुल्ल पटेल 12 घंटे तक चली पूछताछ के बाद ईडी कार्यालय से निकले ◾फडनवीस के नेतृत्व में फिर बनेगी गठबंधन सरकार : PM मोदी◾प्रधानमंत्री पद के लिए नरेंद्र मोदी के आसपास कोई भी नेता नहीं : सर्वेक्षण ◾मोदी का विपक्ष पर वार : कांग्रेस के नेतृत्व वाली पूर्ववर्ती सरकारों ने केवल घोटालों की उपज काटी है◾ISIS के निशाने पर थे कमलेश तिवारी, सूरत से निकला ये कनेक्शन◾अमित शाह ने राहुल गांधी से पूछा, आदिवासियों के लिए आपके परिवार ने क्या किया ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

AAP रिपोर्ट कार्ड : बनने थे 1000 मोहल्ला क्लिनिक, बने सिर्फ 191

आम आदमी पार्टी (आप) जिसे स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपने काम के लिए सराहा गया है, साढ़े चार साल के शासन के बाद भी अपने किए गए 1,000 मोहल्ला क्लिनिक के वादे पर खरी नहीं उतर पाई है, क्योंकि मार्च तक पार्टी केवल 191 क्लिनिक ही चालू करा सकी है। 

शुरुआत में, इस परियोजना में देरी हुई क्योंकि आप सरकार और उप-राज्यपाल का कार्यालय मोहल्ला क्लिनिक सहित पार्टी की विभिन्न प्रमुख परियोजनाओं की मंजूरी को लेकर आपस में भिड़ रहा था। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जून 2016 में शहर में 1,000 क्लिनिकों का वादा किया, लेकिन सितंबर 2017 में ही इस परियोजना को उप-राज्यपाल (एलजी) की मंजूरी मिल सकी। 

4 जुलाई, 2018 तक दिल्ली के मंत्रिमंडल को अपने सभी निर्णयों के लिए राज्यपाल से अनुमोदन लेना पड़ता था। सर्वोच्च न्यायालय के 4 जुलाई के फैसले के बाद ही दिल्ली मंत्रिमंडल को अपने निर्णय लेने की शक्ति मिली। हालांकि, राज्यपाल से मंजूरी के बाद भी भूमि की अनुपलब्धता के कारण परियोजना पूरी तरह से लागू नहीं हो सकी है। 

डीडीए सहित विभिन्न भूमि-स्वामित्व एजेंसियां क्लिनिकों के लिए भूमि प्रदान करने के लिए तैयार नहीं हैं। स्वास्थ्य विभाग का दावा है कि 55 लाख से अधिक लोगों को क्लिनिक में सेवा दी गई है। विभाग के अनुसार, "प्रति दिन एक क्लिनिक का औसत स्तर लगभग 90 लोग हैं।" दिल्ली में फरवरी 2015 में आप सत्ता में आई थी और सरकार का कार्यकाल फरवरी 2020 में पूरा हो रहा है।