BREAKING NEWS

LIVE: BJP मुख्यालय लाया गया अरुण जेटली का पार्थिव शरीर◾व्यक्तिगत संबंधों के कारण से सभी राजनीतिक दलों में अरुण जेटली ने बनाये थे अपने मित्र◾अनंत सिंह को लेकर पटना पहुंची बिहार पुलिस, एयरपोर्ट से बाढ़ तक कड़ी सुरक्षा◾पाकिस्तान के राष्ट्रपति आरिफ अल्वी बोले- कश्मीर में आग से खेल रहा है भारत◾निगमबोध घाट पर होगा पूर्व वित्त मंत्री अरुण जेटली का अंतिम संस्कार◾भाजपा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लिए मुख्य संकटमोचक थे अरुण जेटली◾PM मोदी को बहरीन ने 'द किंग हमाद ऑर्डर ऑफ द रेनेसां' से नवाजा, खलीफा के साथ हुई द्विपक्षीय वार्ता◾मोदी ने जेटली को दी श्रद्धांजलि, बोले- सत्ता में आने के बाद गरीबों का कल्याण किया◾जेटली के आवास पर तीन घंटे से अधिक समय तक रुके रहे अमित शाह ◾भाजपा को हर कठिनाई से उबारने वाले शख्स थे अरुण जेटली◾राहुल और अन्य विपक्षी नेता श्रीनगर हवाईअड्डे पर रोके गये, सभी को भेजा वापिस ◾अरूण जेटली का पार्थिव शरीर उनके आवास पर लाया गया, भाजपा और विपक्षी नेताओं ने दी श्रद्धांजलि ◾वरिष्ठ नेता अरुण जेटली के निधन पर प्रधानमंत्री ने कहा : मैंने मूल्यवान मित्र खो दिया ◾क्रिेकेटरों ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरूण जेटली के निधन पर शोक व्यक्त किया ◾पूर्व केन्द्रीय मंत्री अरुण जेटली का निधन : राजनीतिक खेमे में दुख की लहर◾प्रधानमंत्री मोदी द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने के लिए UAE पहुंचे ◾बिहार के विवादास्पद विधायक अनंत सिंह ने दिल्ली की अदालत में आत्मसमर्पण किया ◾सत्य और न्याय की स्थापना के लिए हुआ श्रीकृष्ण का अवतार : योगी◾अर्थव्यवस्था की रफ्तार बढ़ाने के लिए कई उपायों की घोषणा, एफपीआई पर ऊंचा कर अधिभार वापस ◾आईएनएक्स मीडिया मामला : चिदम्बरम ने उच्चतम न्यायालय में नयी अर्जी लगायी ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

आखिरकार जिंदगी की जंग हार गया फरहान

नई दिल्ली : वेंटिलेंटर की सुविधा पाने के लिए हाईकोर्ट तक जाने वाला फरहान आखिरकार जिंदगी की जंग हार गया। तीन साल का फरहान 24 जनवरी को लोक नायक अस्पताल आया था। यहां जांच के दौरान उसकी हालत नाजुक बनी रही लेकिन उसे सात दिनों तक उसे अंबू बैग के सहारे जीना पड़ा। हालत यह हुई कि वेंटिलेंटर की सुविधा पाने के लिए उसे हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाना पड़ा।

करीब नौ दिनों बाद एक फरवरी को फरहान को वेंटिलेटर की सुविधा मिली, लेकिन लापरवाही के चलते बच्चे में इंफेक्शन बढ़ता रहा और आखिरकार रविवार सुबह उसने दम तोड़ दिया। बच्चे के परिजन का आरोप है कि यदि पहले दिन से अस्पताल प्रशासन से लापरवाही न बरती होती तो फरहान आज जिंदा होता।

फरहान के पिता अशफाक का कहना है कि बच्चे के उपचार के लिए काफी दिनों तक प्रयास करते रहे लेकिन अस्पताल प्रशासन ने हमारी सुनवाई नहीं की। अस्पताल वाले उसे ब्रेन डेड बताते रहे। उन्होंने कहा कि यदि बच्चे का सही से उपचार किया गया होता तो वह ठीक हो सकता था।

वहीं पिता के साथ आए अन्य परिजनों ने बताया कि बच्चे को बचाने के लिए माता-पिता दोनों दिन रात अंबू बैग से सांस देते रहे। इस दौरान ही यदि उसे वेंटिलेंटर की सुविधा मिल जाती तो वह आसानी से ठीक हो सकता था लेकिन ऐसा नहीं हुआ। उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली सरकार बेहतर सुविधा देने का दावा करती है लेकिन यहां बच्चे को बेहतर उपचार तक नहीं मिला।

बच्चे को बचाना था मुश्किल लोकनायक अस्पताल के डाक्टरों ने बताया कि बच्चा का ब्रेन डैड हो चुका था, उसे बचाने का प्रयास मुश्किल था। परिजनों को इस संबंध में पहले ही बता दिया गया था। ऐसे में बच्चे के उपचार में लापरवाही का आरोप गलत है। उन्होंने कहा कि अस्पताल हर व्यक्ति को जरूरत के आधार पर बेहतर सुविधाएं उपलब्ध करवा रहा है। रही बात वेंटिलेटर की तो उसकी संख्या सीमित है। उन्होंने कहा कि बच्चे के शरीर के ऑर्गन्स ने धीरे-धीरे काम करना बंद कर दिया था।