BREAKING NEWS

जिनके घर शीशे के होते हैं, वो दूसरों पर पत्थर नहीं फेंका करते.....सिद्धू का केजरीवाल पर तंज ◾उमर अब्दुल्ला ने कांग्रेस की चुप्पी पर उठाए सवाल, बोले- अनुच्छेद 370 की बहाली के लिए NC अपने दम पर लड़ेगी◾चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने कहा- भविष्य में युद्ध जीतने के लिए नई प्रतिभाओं की भर्ती की जरूरत◾शशि थरूर की महिला सांसदों सग सेल्फी हुई वायरल, कैप्शन लिखा- कौन कहता है लोकसभा आकर्षक जगह नहीं?◾ओवैसी बोले- CAA को भी रद्द करे मोदी सरकार..पलटवार करते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा- इनको कोई गंभीरता से नहीं लेता◾ 'ओमीक्रोन' के बढ़ते खतरे के चलते जापान ने विदेशी यात्रियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की◾IND VS NZ के बीच पहला टेस्ट मैच हुआ ड्रा, आखिरी विकेट नहीं ले पाई टीम इंडिया ◾विपक्ष को दिया बड़ा झटका, एक साथ किया इतने सारे सांसदों को राज्यसभा से निलंबित◾तीन कृषि कानून: सदन में बिल पास कराने से लेकर वापसी तक, जानिये कैसा रहा सरकार और किसानों का गतिरोध◾कृषि कानूनों की वापसी पर राहुल का केंद्र पर हमला, बोले- चर्चा से डरती है सरकार, जानती है कि उनसे गलती हुई ◾नरेंद्र तोमर ने कांग्रेस पर लगाया दोहरा रुख अपनाने का आरोप, कहा- किसानों की भलाई के लिए थे कृषि कानून ◾ तेलंगाना में कोविड़-19 ने फिर दी दस्तक, एक स्कूल में 42 छात्राएं और एक शिक्षक पाए गए कोरोना संक्रमित ◾शीतकालीन सत्र में सरकार के पास बिटक्वाइन को करेंसी के रूप में मान्यता देने का कोई प्रस्ताव नहीं: निर्मला सीतारमण◾विपक्ष के हंगामे के बीच केंद्र सरकार ने राज्यसभा से भी पारित करवाया कृषि विधि निरसन विधेयक ◾कृषि कानूनों की वापसी का बिल लोकसभा में हुआ पारित, टिकैत बोले- यह तो होना ही था... आंदोलन रहेगा जारी ◾बिना चर्चा कृषि कानून बिल वापसी को विपक्ष ने बताया लोकतंत्र के लिए काला दिन, मिला ये जवाब ◾प्रदूषण के मद्दे पर SC ने अपनाया सख्त रुख, कहा- राज्य दिशानिर्देश नहीं मानेंगे, तो हम करेंगे टास्क फोर्स का गठन ◾कांग्रेस का केंद्र पर निशाना -बिल वापसी नहीं हुई चर्चा क्योंकि सरकार को हिसाब और जवाब देना पड़ता◾पीएम मोदी ने निभाया किसानों को दिया वादा, लोकसभा में हंगामे के बीच पास हुआ कृषि कानून वापसी बिल ◾प्रधानमंत्री मोदी की अपील का नहीं हुआ विपक्ष पर असर, हंगामेदार हुई दोनों सदनों की शुरुआत ◾

दिल्ली में अपने आधार के विस्तार की कोशिश में लगी AIMIM, कहा- मुसलमानों को देंगे हैदराबाद जैसा मजबूत विकल्प

असदुद्दीन ओवैसी के नेतृत्व वाली पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अपने आधार का विस्तार करने की कोशिश कर रही है, और यहां उसने अपने संगठनात्मक ढांचे को मजबूत करना शुरू कर दिया है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष कलीमुल हाफीज ने कहा कि पार्टी दिल्ली के मुसलमानों के लिए एक व्यावहारिक विकल्प बनेगी, क्योंकि आप ऐसा करने में विफल रही और कांग्रेस अल्पसंख्यकों से संबंधित मुद्दों पर प्रतिबद्ध नहीं है।

दिल्ली में एमआईएम अनुसूचित जाति समुदाय के साथ गठबंधन करने और राष्ट्रीय राजधानी में दलित-मुस्लिम गठबंधन बनाने की कोशिश कर रही है। हाफीज ने कहा कि दिल्ली मेट्रो है और हैदराबाद भी है और हैदराबाद में मजलिस के बिना कोई भी नगर पालिका नहीं चल सकती। यह पूछे जाने पर कि पार्टी क्यों सोचती है कि दलित उनके साथ आएंगे, उन्होंने कहा कि पार्टी नेता ओवैसी की राजनीति अंबेडकर पर आधारित है। उन्होंने कहा, वह अपने भाषणों में केवल बाबासाहेब को उद्धृत करते हैं और उनके अलावा किसी नेता को नहीं। वह बाबा साहब के विचारों पर भरोसा करते हैं।

पार्टी ने महाराष्ट्र में अम्बेडकरवादियों के साथ गठबंधन किया है और चुनावी रूप से सफल रही है। पार्टी दिल्ली में एमसीडी के 272 वाडरें में 70 सीटों पर चुनाव लड़ने का इरादा रखती है और पार्टी के अनुसूचित जाति के सदस्यों को 30 सीटें देगी। यह उन वाडरें में चुनाव लड़ने की योजना बना रहा है जहां मुस्लिम मतदाता 5,000 से अधिक हैं। पार्टी ने कहा कि वह पूर्वी दिल्ली नगर निगम के लिए एक दलित मेयर उम्मीदवार की घोषणा करेगी क्योंकि ईडीएमसी में मुसलमानों और दलितों की संख्या सबसे अधिक है।

पार्टी ने अनुसूचित जाति के वोटों को लुभाने के लिए दो दलित नेताओं को शामिल किया है, जो एक बड़ी आबादी है। हफीज ने कहा कि अगर दलित और मुसलमान एकजुट हो जाते हैं, तो यह हिस्सा लगभग 30 प्रतिशत से अधिक हो जाएगा, और फिर कांग्रेस और आप दोनों मुस्लिमों के मुद्दों को उठाने के लिए मजबूर हो जाएंगे।  यह जवाब देते हुए कि वे 'वोट कटवा' हैं या भाजपा को लाभ पहुंचाने के लिए मुस्लिम वोटों को विभाजित कर रहे हैं, उन्होंने कहा कि 2019 के लोकसभा चुनाव में कोई एमआईएम नहीं था, लेकिन आप और कांग्रेस के कुल वोट भाजपा से कम थे। तो इसका मतलब है कि वे सिर्फ एमआईएम को निशाना बना रहे हैं क्योंकि यह देश में मुस्लिम मुद्दों को उठा रहा है।

हाफीज ने कहा कि कांग्रेस और आप हिंदुओं के दूर जाने के डर से मुसलमानों से दूर भाग रहे हैं क्योंकि उन्होंने राबिया सैफी के मामले का हवाला दिया, जो सिविल डिफेंस में थीं और उनके परिवार में कोई बड़ा नेता नहीं पहुंचा, लेकिन वही राहुल गांधी और अरविंद केजरीवाल इसी तरह के मामले में पश्चिमी दिल्ली में एक पीड़ित से मिलने के लिए गए।

कलीमुल हफीज पहले आप में थे। उन्होंने कहा कि वह एक पदाधिकारी नहीं थे, लेकिन मुसलमानों के लिए स्कूल स्थापित करने के लिए समिति का नेतृत्व कर रहे थे। उन्होंने आरोप लगाया, जब हम एक स्कूल खोलने वाले थे और शिक्षकों, प्रिंसिपल और डिप्टी डायरेक्टर को शॉर्टलिस्ट किया गया, तो केजरीवाल ने बहुमत के वोट खोने के डर से उन्हें रोक दिया, इसलिए मैंने पार्टी छोड़ने और एमआईएम में शामिल होने का फैसला किया।

एमआईएम उत्तर प्रदेश में लगभग 100 सीटों पर चुनाव लड़ रही है, और मुस्लिम बेल्ट में पैठ बनाने की कोशिश कर रही है। बिहार में 5 विधानसभा सीटों पर जीत हासिल करने वाली पार्टी बिहार में महागठबंधन की हार का एक प्रमुख कारण थी, हालांकि पार्टी पश्चिम बंगाल में ज्यादा कुछ नहीं कर सकी जहां अल्पसंख्यकों ने तृणमूल कांग्रेस को वोट दिया। हाफीज ने हालांकि इसका काउंटर करते हुए कहा कि इसका कारण यह था कि पार्टी बहुत कम सीटों पर लड़ी थी और राज्य प्रमुख ने चुनाव से ठीक पहले पार्टी छोड़ दी थी।