BREAKING NEWS

उम्मीद है कि कश्मीर में आतंकी हमले रोकने के लिए उचित कार्रवाई होगी : कांग्रेस ◾संसद की रणनीति बनाने सोनिया के आवास पर कांग्रेसी नेताओं की बैठक ◾कोटा के बीजेपी सांसद ओम बिड़ला होंगे लोकसभा के नए स्पीकर◾बिहार में चमकी बुखार से 107 बच्चों की मौत, आज मुजफ्फरपुर का दौरा करेंगे CM नीतीश◾J&K : अनंतनाग मुठभेड़ में एक जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर ◾अगर तीन दिन से ज्यादा किसी अधिकारी ने रोकी फाइल, तो होगी सख्त कार्रवाई : योगी◾कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त होने के बाद बोले नड्डा- कार्यकर्ता के तौर पर BJP को करुंगा मजबूत◾जम्मू-कश्मीर : अनंतनाग में आतंकवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़ शुरू◾WORLD CUP 2019, WI VS BAN : साकिब के शतक से बांग्लादेश ने वेस्टइंडीज को सात विकेट से हराया ◾दिल्ली में बढ़ा हुआ ऑटो किराया मंगलवार से लागू होगा, अधिसूचना जारी ◾मिस्र के पूर्व राष्ट्रपति मुर्सी का अदालत में सुनवाई के दौरान निधन ◾ममता बनर्जी से मिलने के बाद बंगाल के चिकित्सकों ने हड़ताल खत्म की ◾जे पी नड्डा भाजपा के कार्यकारी अध्यक्ष नियुक्त किये गये ◾पुलवामा में आतंकवादियों ने किया IED विस्फोट, 5 जवान घायल ◾कांग्रेस ने बिहार में दिमागी बुखार से बच्चों की मौत को लेकर सरकार पर निशाना साधा ◾Top 20 News - 17 June : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें ◾बैंकों ने जेट एयरवेज को फिर खड़ा करने की कोशिश छोड़ी, मामला दिवाला कार्रवाई के लिए भेजने का फैसला ◾लोकसभा में साध्वी प्रज्ञा के शपथ लेने के दौरान विपक्ष ने किया हंगामा ◾ममता बनर्जी और डॉक्टरों की बैठक को कवर करने के लिए 2 क्षेत्रीय न्यूज चैनलों को मिली अनुमति◾बिहार : बच्चों की मौत मामले में हर्षवर्धन और मंगल पांडेय के खिलाफ मामला दर्ज◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

हवा और जल बुनियादी मानवाधिकार : राजेंद्र सिंह

वाटरमैन ऑफ इंडिया के नाम से विख्यात राजेंद्र सिंह ने कहा है कि ताजा हवा और शुद्ध पानी हर व्यक्ति का सबसे बुनियादी मानव अधिकार है और यह उसे मिलना चाहिए। श्री राजेंद्र सिंह ने दिल्ली विश्वविद्यालय के कालिंदी कॉलेज के पत्रकारिता विभाग द्वारा‘हाशिये के समुदाय के मानवाधिकार: एक कदम सुरक्षा की ओर’पर आयोजित दो दिवसीय राष्ट्रीय सेमिनार में यह बात कही। सेमिनार का उद्देश्य युवाओं को समाज के हाशिए के वर्गों और समानता के अधिकार की आवश्यकताओं के प्रति संवेदनशील बनाना था।

कालिंदी कॉलेज की प्रधानाचार्या डॉ। अनुला मौर्या ने सेमिनार का उद्घाटन किया और विशिष्ट अतिथियों का स्वागत किया जिसमें शोधकर्ता, मीडियाकर्मी और मानवाधिकार कार्यकर्ता शामिल रहे। इस अवसर पर वाटरमैन ऑफ इंडिया के नाम से विख्यात राजेंद्र सिंह, आईसीएसएसआर के निदेशक डॉ। अजय गुप्ता, बालाजी कॉलेज ऑफ एजुकेशन के निदेशक डॉ जगदीश चौधरी और मीडिया पेशेवर पंजाब केसरी के वरिष्ठ पत्रकार परविंदर शारदा, महताब आलम, यूनीवार्ता के राजेश राय और दिनेश तिवारी ने अपने विचार व्यक्त किये।

डॉ। मौर्या ने पत्रकारिता विभाग के प्रयासों की सराहना की और छात्राओं को आत्मनिर्भर होने के लिए प्रोत्साहित किया ताकि वे निडर होकर जीवन की बाधाओं का सामना कर सकें। डॉ। अजय गुप्ता ने जाति, लिंग और अक्षमता पर आधारित समाज में मौजूद हाशिए के लोगों के मानव अधिकारों पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने पैरालम्पिक्स के उदाहरण देते हुए समझाया कि कैसे दिव्यांग खिलाड़यिं ने हाल के वर्षों में अच्छा प्रदर्शन किया है।

डॉ। जगदीश चौधरी ने वैज्ञानिक सोच बनाने की आवश्यकता पर बल दिया और कहा कि मनुष्य अन्य प्रजातियों से बेहतर है क्योंकि उसके पास चुनाव का अधिकार है। जल संरक्षक और पर्यावरणविद, राजेंद्र ने कहा, 'ताजा हवा और शुद्ध पानी हर व्यक्ति का सबसे बुनियादी मानव अधिकार है।' उन्होंने बेहतर संसाधनों के लिए प्राकृतिक संसाधनों, विशेष रूप से नदियों को बचाने की आवश्यकता पर बल दिया।  श्री शारदा ने हाल ही में नोबेल शांति पुरस्कार विजेता नादिया मुराद का उदाहरण देते हुए कहा कि कैसे राजनीतिक रूप से अस्थिर क्षेत्रों के लोग आत्मशक्ति और प्रेरणा के साथ अपने अधिकारों का दावा कर सकते हैं।

मीडिया पेशेवर आलम ने छत्तीसगढ़ के बस्तर क्षेत्र में काम कर रहे पत्रकारों के मानवाधिकारों के संघर्ष और कमी पर प्रकाश डाला और पत्रकारों की रक्षा के लिए कानून बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। युवा छात्रों को प्रेरित करते हुए दिनेश तिवारी ने कहा कि बदलाव लाने के लिए पहल करनी होगी। राजेश राय ने कहा, 'समाज में कुछ सही करने के लिए मानवाधिकारों के प्रति सोच बदलनी होगी तभी एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति को समान नजर से देख पायेगा।

इस बदलाव में युवा पत्रकारों की महत्वपूर्ण भूमिका है क्योंकि उनमें समाज की सोच बदलने का दम है लेकिन उन्हें सोशल मीडिया की लहर से खुद को बचाना होगा।' दो-दिवसीय सेमिनार में अकादमिक शोधकर्ता और छात्रों ने लिंग, कानून, मीडिया, हाशिए के समुदायों के मानवाधिकारों और सामाजिक समावेश के मुद्दों पर व्यापक भागीदारी दिखाई। डॉ। मौर्या ने एक सफल कार्यक्रम आयोजित करने के लिए संगोष्ठी की संयोजिका डॉ सुनीता मंगला और सह-संयोजक मनीषा और पत्रकारिता विभाग को बधाई दी।