BREAKING NEWS

बीजेपी का खेला : शिवसेना को कमजोर करना चाहती है भाजपा, शिंदे को मुख्यमंत्री बना ‘क्षेत्रीय भावनाओं’ पर कब्जे की कोशिश◾जानिए ! देवेंद्र से पहले भी ये नेता CM रहने के बाद जूनियर पद कर चुके है स्वीकार , फडणवीस ऐसे करने वाले चौथे नेता◾उद्धव ठाकरे ने नये मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे , उप मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को दीं शुभकामनाएं ◾सतारा के रहने वाले महाराष्ट्र के चौथे सीएम हैं एकनाथ , शरद पवार ने शिंदे को दी बधाई ◾CM Swearing Ceremony : शीर्ष नेतृत्व के कहने पर देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी चीफ मिनिस्टर◾सुरक्षा एजेंसियों का दावा : जिहाद को निर्यात करने वाले पाकिस्तानी संगठन ने राजस्थान से एकत्रित किया था 20 लाख का चंदा ◾ एकनाथ शिंदे व फडणवीस को प्रधानमंत्री मोदी ने ट्वीट कर दी बधाई ◾CM Swearing Ceremony: एकनाथ शिंदे ने ली महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएम◾ IND vs ENG: BCCI ने किया बड़ा ऐलान, इंग्लैंड के खिलाफ पांचवें टेस्ट में जसप्रीत बुमराह होगें कप्तान◾शिंदे मंत्रिमंडल में शामिल होंगे फडणवीस: नड्डा◾चार जुलाई को अल्लूरी सीताराम राजू की प्रतिमा का अनावरण करेंगे पीएम मोदी ◾ उद्धव के सामने चुनौतिया का पहाड़, संगठन में मजबूती व हिंदुत्व की पहचान पाने में करनी होगी मेहनत◾ UP News: आजमगढ़ से नवनिर्वाचित सांसद निरहुआ के बड़े भाई कार हादसे में गंभीर रूप से घायल◾Maharashtra Political News: महाराष्ट्र के नए मुख्यमंत्री होंगे एकनाथ शिंदे, देवेंद्र फडणवीस ने किया खुलासा◾Inflation: इतने नकली आंसू कैसे बहा लेते हैं, प्रधानमंत्री जी? महंगाई के मुद्दे पर राहुल ने साधा केंद्र पर निशाना ◾ manipur landslide: पीएम मोदी ने की मणिपुर सीएम से बात, आपदा के हालात की समीक्षा ◾Uttar Pradesh: हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगा रोजगार... CM योगी ने किया बड़ा ऐलान, जानें क्या कहा ◾Arunachal landslide:18 के पार पहुंची भूस्खलन में मरने वाले लोगों की संख्या, एक शव और निकाला गया ◾दिल्ली में विधायकों के वेतन में 66 प्रतिशत की वृद्धि, जल्द मिलेगी 90 हजार रुपए सैलरी◾ मणिपुर में भूस्खलन के कारण दो लोगों की मौत, कई लापता◾

दिल्ली के सभी अस्पतालों को सतर्क रहने की सलाह, स्वास्थ्य मंत्री जैन बोले- अभी चिंता की कोई बात नहीं

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के मद्देनजर दिल्ली के सभी अस्पतालों को सतर्क रहने की सलाह दी गयी है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने शुक्रवार को यह जानकारी देते हुए कहा कि वे स्थिति से निपटने के लिये पूरी तरह तैयार हैं।  

सरकार स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए है 

एक आधिकारिक बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सरकार स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए है। उन्होंने जोर देकर कहा, “अस्पताल में दाखिले नहीं बढ़ रहे हैं, इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है। अभी चिंता की कोई बात नहीं है।” दिल्ली में बृहस्पतिवार को कोविड-19 संक्रमण के 325 नए मामले सामने आए जबकि संक्रमण दर 2.39 प्रतिशत थी। राष्ट्रीय राजधानी में कोविड संक्रमण दर एक सप्ताह में 0.5 प्रतिशत से बढ़कर 2.7 प्रतिशत हो गई है। 

बयान में मंत्री जैन के हवाले से कहा गया, “दिल्ली सरकार स्थिति पर करीब से नजर रखे हुए है और सरकार कोई जोखिम नहीं लेना चाहती है। हमने अपने स्वास्थ्य ढांचे को पूरी तरह से बदल दिया है। इसके साथ ही दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच सभी अस्पतालों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है।” उन्होंने यह भी कहा कि दिल्ली सरकार संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए मरीजों का संपर्क में आए लोगों का पता लगा रही है।  

स्वास्थ्य मंत्री की लोगों को खास सलाह- 

स्वास्थ्य मंत्री के हवाले से कहा गया, “साथ ही जरूरत पड़ने पर आरटीपीसीआर जांच भी बढ़ाई जाएगी। कोरोना को फैलने से रोकने के लिए दिल्ली सरकार ‘टेस्ट, ट्रेस और ट्रीट’ (जांच, संपर्क में आए लोगों का पता लगाने और उपचार) के सिद्धांत पर काम कर रही है।” स्वास्थ्य मंत्री ने लोगों को बाहर निकलते समय मास्क पहनने और जल्द से जल्द टीका लगवाने की भी सलाह दी। उन्होंने कहा, “इलाज से बचाव बेहतर है। जिन लोगों ने अभी तक टीका नहीं लिया है या केवल पहली खुराक ली है, उन्हें पूर्ण टीकाकरण के लिए जल्द से जल्द अपने नजदीकी स्वास्थ्य केंद्र में जाना चाहिए।”  

दिल्ली में लगभग 37,000 कोविड बेड और 10,594 कोविड आईसीयू बेड तैयार किए गए हैं 

यह देखते हुए कि विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा एक्सई संस्करण को “वेरिएंट्स ऑफ कंसर्न” (चिंताजनक) की सूची में शामिल नहीं किया गया है, उन्होंने कहा कि घबराने की जरूरत नहीं है। सरकार के बयान में कहा गया है कि दिल्ली में लगभग 37,000 कोविड बेड और 10,594 कोविड आईसीयू बेड तैयार किए गए हैं।  

सरकारी बयान में कहा गया, “अगर संक्रमण फैलता है, तो सरकार ने दो सप्ताह के भीतर दिल्ली के हर वार्ड में 100 ऑक्सीजन बेड बढ़ाने की योजना बनाई है। ऐसे में, दिल्ली सरकार 65,000 बेड तैयार करने की योजना बना रही है, ताकि किसी भी व्यक्ति को आपातकालीन स्थिति में बेड की कमी का सामना न करना पड़े।” अगर मामले फिर बढ़ेंगे तो घर पर पृथकवास की व्यवस्था लागू की जाएगी।