राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (RSS) को लेकर मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने एक बयान दिया है उन्होंने कहा कि जितने भी हिंदू धर्म वाले आतंकवादी पकड़े गये हैं सभी संघ के कार्यकर्ता रहे हैं। दिग्विजय के इस बयान पर आरएसएस ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। आरएसएस को लेकर दिग्विजय का ये पहला बयान नहीं है इससे से पहले भी वह बयान दे चके है। दिग्विजय ने झाबुआ में कहा कि महात्मा गांधी की हत्या करने वाले नाथूराम गोडसे भी आरएसएस का हिस्सा थे।

उन्होंने कहा कि यह विचारधारा नफरत फैलाती है, नफरत हिंसा की ओर ले जाती है और हिंसा आतंकवाद की ओर ले जाती है। इससे पहले भी दिग्विजय सिंह आरएसएस पर निशाना साध चुके हैं। पिछले दिनों सागर में दिग्विजय सिंह ने कहा था कि मैंने हिंदू आतंकवाद नहीं, बल्कि संघी आंतकवाद की बात कही है। उन्होंने कहा कि मैंने कई मामले उठाए, जिसमें सजा भी हुई है।

हिन्दू शब्द का जिक्र वेदों और पुराणों में भी नहीं है। दिग्विजय सिंह ने यह भी कहा था कि लोग मुझ पर आरोप लगाते हैं कि मैं मुस्लिम परस्त हूं और हिन्दू विरोधी हूं। मैं पूछना चाहता हूं कि एक बीजेपी नेता ऐसा बता दे जिसने नर्मदा, ओंकारेश्वर और गोवर्धन परिक्रमा की हो या एकादशी का व्रत रखा हो। उन्होंने कहा कि मैंने जितनी धार्मिक यात्राएं की और हिन्दू धर्म का पालन किया उतना बीजेपी के एक भी नेता ने नहीं किया है।

हमारी मुख्य खबरों के लिए यहाँ क्लिक करें।