दिल्ली में आम आदमी पार्टी (आप) का कांग्रेस के साथ गठबंधन क्या संभव है? यह पूछे जाने पर आप प्रमुख अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उनकी पार्टी देश को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से बचाने के लिए कुछ भी करने को तैयार है।

लोकसभा चुनाव के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी के मुद्दे को लेकर विपक्षी दलों की बैठक के बाद मीडिया से बातचीत में केजरीवाल ने देश को खतरे में बताया। संसदीय चुनाव में ईवीएम के ठीक तरीके से काम नहीं करने के मुद्दे पर विपक्षी पार्टियों के साथ चर्चा करने के बाद केजरीवाल यहां एक पत्रकार वार्ता को संबोधित कर रहे थे।

दिल्ली के मुख्यमंत्री ने कहा, “देश खतरे में है और इसे मोदी-शाह की जोड़ी से बचाने के लिए हम कुछ भी करने को तैयार हैं। कोशिशें आखिरी वक्त तक जारी रहेंगी।” दिल्ली में कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन के लिए बातचीत अभी भी जारी है। आप का हरियाणा और चंडीगढ़ में भी गठबंधन पर जोर है।

Congress_AAP

शाह गृहमंत्री बने तो लिंचिंग आम बात हो जाएगी : केजरीवाल

इस मौके पर कांग्रेस नेता एवं वरिष्ठ वकील कपिल सिब्बल भी मौजूद थे। उन्होंने आप के साथ गठबंधन पर सवाल को टाल दिया और यह कहते हुए गेंद केजरीवाल के पाले में डाल दी कि ‘‘वह बेहतर जानते हैं।” सिब्बल ने कहा, “आप गठबंधन के बारे में उनसे पूछिए। वह हम से बेहतर जानते हैं।” वहीं कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा, “आप कांग्रेस का रूख जानते हैं। दिल्ली में तकरीबन गठबंधन हो गया था लेकिन इसे दूसरे राज्यों के साथ जोड़ना ठीक नहीं है।”

 कुछ वक्त से कांग्रेस और आप के बीच गठबंधन पर अनिश्चिता बनी हुई है। दिल्ली और हरियाणा में सीट बंटवारे को लेकर सहमति नहीं बनने के बाद दोनों पार्टियों की बातचीत पटरी से उतर गई थी। कांग्रेस के दिल्ली प्रभारी पीसी चाको ने शुक्रवार को कहा था कि कांग्रेस दिल्ली में अकेले चुनाव लड़ेगी, क्योंकि आप ने ‘अव्यावहारिक रूख’ अपना लिया है।