BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में मरने वालों की संख्या 27 पर पहुंची, हालात अभी भी तनावपूर्ण ◾कांग्रेस ने प्रधानमन्त्री मोदी पर कसा तंज, कहा- अगर शाह पर भरोसा नहीं तो बर्खास्त क्यों नहीं करते◾दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾

विस सदस्यता मामला : कपिल को हलफनामा दाखिल करने के निर्देश

नई दिल्ली : दिल्ली हाईकोर्ट ने आप पार्टी के विधायक कपिल मिश्रा की दिल्ली विधानसभा सदस्यता रद्द करने के स्पीकर के फैसले को चुनौती देने वाली याचिका पर सुनवाई को 4 सितंबर तक के लिए टाल दी है। जस्टिस विभू बाखरू ने कपिल मिश्रा को अपने आरोपों को लेकर हलफनामा दाखिल करने का निर्देेश देते हुए इस सुनवाई को टाला है। मिश्रा को हलफनामा दाखिल करने का दो सप्ताह का समय दिया गया है। 

कपिल मिश्रा ने जस्टिस विभू बाखरू की बेंच के आगे कहा कि दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष महोदय ने लॉ ऑफ नेचुरल जस्टिस के खिलाफ जाकर निर्णय सुनाया। कपिल मिश्रा ने कहा कि विधानसभा अध्यक्ष ने सुप्रीम कोर्ट के फैसलों और गाइडलाइंस का उल्लंघन किया और विधानसभा अध्यक्ष ने सुनवाई का मौका नहीं दिया। यहां तक कि क्रॉस एग्जामिनेशन और गवाह को तथ्य रखने का मौका भी नहीं दिया। 

मिश्रा के वकील ने कहा कि 27 जनवरी को जिस तारीख से स्पीकर ने सदस्यता रद्द करने का निर्णय दिया, उसके बाद दिल्ली विधानसभा का बजट सत्र भी हुआ था जिसमें कपिल मिश्रा ने विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा भी लिया। सदन में सरकार को गिराने और व्हिप का उल्लंघन करने की कोई नीयत नहीं दिखाई गई। 

इसलिए विधानसभा अध्यक्ष के फैसले को रद्द कर दिया जाए। जिसका विरोध करते हुए स्पीकर के वकील सुधीर नंदन ने कहा कि कपिल मिश्रा के आरोप गलत हैं। उन्हें नोटिस दिया था और साथ ही कई मौके दिए। लेकिन उनका कोई उत्तर नहीं मिला।