BREAKING NEWS

PM लॉकडाउन पर फैसला तब लेंगे, जब बंगाल में चुनाव खत्म होंगे: संजय राउत ◾शांतिपुर में अमित शाह का रोडशो, ममता पर लगाया मृत्य पर तुष्टिकरण की राजनीति का आरोप◾सीबीएसई बोर्ड ने सर्कुलर किया जारी, प्रियंका गांधी ने शिक्षा मंत्री को लिखा पत्र◾कांग्रेस का केंद्र पर वार, कहा- सरकार की नीतियों के कारण भारतीयों पर कहर बरपा रहा है कोरोना ◾वैक्सीन उत्सव : PM मोदी ने देशवासियों को महामारी से लड़ने के लिए दिया चार सूत्रीय फॉर्मूला ◾दिल्ली में कोरोना की स्थिति चिंताजनक, अस्पतालों में बेड्स कम पड़े तो लगाना पड़ जाएगा लॉकडाउन : CM केजरीवाल◾महाराष्ट्र : भ्रष्टाचार केस में CBI ने अनिल देशमुख के निजी सहायकों को भेजा समन◾कूचबिहार फायरिंग को लेकर प्रधानमंत्री और गृहमंत्री पर भड़कीं ममता, EC को लिया आड़े हाथों◾PM मोदी ने की टीका उत्सव की शुरुआत, देश की जनता से 'ईच वन वैक्सीनेट वन' का किया आग्रह ◾देश में कोरोना का अबतक का सबसे बड़ा विस्फोट, एक दिन में 1.50 लाख से ज्यादा केस ◾ कृषि कानून के खिलाफ किसानों ने केएमपी हाइवे को 24 घंटे के लिए बंद करने के बाद आज सुबह खोला◾विश्व में कोरोना का आंकड़ा 13.5 करोड़ के पार, अमेरिका है दुनिया का सबसे प्रभावित देश ◾Delhi Corona : पिछले 24 घंटे के दौरान 7897 नए मामलों की पुष्टि, पॉजिटिविटी रेट बढ़कर 10.21 फीसदी हुई ◾शोपियां में सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ में 3 आतंकवादियों को मार गिराया, सर्च ऑपरेशन जारी◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, वीकेंड लॉकडाउन के दौरान सड़कों और बाजारों में पसरा सन्नाटा ◾आज का राशिफल (11 अप्रैल 2021)◾‘गुरू’ धोनी पर भारी पड़ा ‘शिष्य’ पंत, दिल्ली कैपिटल्स ने चेन्नई को हराया ◾कोविड-19: दिल्ली सरकार ने सभी तरह की सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक सभाओं पर रोक लगायी ◾बंगाल में चुनाव के दौरान पांच लोगों की हत्या के बाद राजनीतिक तूफान ◾पूर्वी लद्दाख : सैनिकों के पीछे हटने पर हुई वार्ता के नवीनतम दौर में चीन ने नहीं दिखाया कोई लचीलापन ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

भाजपा उम्मीदवार भारती घोष ने गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगाने के लिए सुप्रीम कोर्ट का किया रुख

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भाजपा की उम्मीदवार एवं पूर्व आईपीएस अधिकारी भारती घोष ने उनके खिलाफ जारी गिरफ्तारी वारंट पर रोक लगाने और प्राथमिकी रद्द कराने के लिए सोमवार को उच्चतम न्यायालय का रुख किया।

भाजपा ने पिछले हफ्ते घोष को पश्चिम मेदिनीपुर जिले की डेबरा सीट पर तृणमूल कांग्रेस प्रत्याशी हुमायूं कबीर के खिलाफ चुनाव मैदान में उतारा था। कबीर भी भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी रह चुके हैं। न्यायमूर्ति यू यू ललित और न्यायमूर्ति के. एम. जोसफ की पीठ ने इस मामले को मंगलवार को सुनवाई के लिए सूचीबद्ध किया है।

घोष ने अधिवक्ता समीर कुमार के मार्फत दायर अपनी अर्जी में कहा है कि 19 फरवरी 2019 को उनके (घोष के) खिलाफ दर्ज सिलसिलेवार झूठे मामलों में शीर्ष न्यायालय ने उन्हें किसी तरह की कठोर कार्रवाई से राहत प्रदान की थी, इसके बावजूद भी उन्हें नये मामलों में फंसाया जा रहा है।

उन्होंने कहा, ‘‘इस तरह की प्राथमिकी को यथासंभव लंबे समय तक गुप्त रखा जाता है और याचिकाकर्ता को प्रताड़ित करने के लिए अचानक ही उसे सामने ला दिया जाता है ताकि वह हर समय अदालती कार्यवाही में फंसी रहे और उन्हें अपना राजनीतिक करियर बनाने से रोका जा सके।’’

उन्होंने केशपुर पुलिस थाने में दर्ज एक प्राथमिकी का ब्योरा दिया। यह मामला 12 मई 2019 को संसदीय चुनाव के दौरान दर्ज किया गया था। घोष ने कहा कि वह पिछले लोकसभा चुनाव में घाटल संसदीय सीट से भाजपा की उम्मीदवार थी। उन्होंने आरोप लगाया कि तृणमूल कांग्रेस के गुंडों ने उन पर हर मतदान केंद्र पर हमला किया और पुलिस मूकदर्शक बनी रही।

उन्होंने कहा कि केशपुर प्राथमिकी को हाल के समय तक पुलिस की वेबसाइट पर नहीं डाला गया था और उनके पास सीआरपीसी की धारा 75 के तहत गिरफ्तारी का एक वारंट आने तक इस बारे में उन्हें कोई जानकारी नहीं थी। कभी राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की करीबी माने जाने वाली घोष ने दावा किया कि पुलिस ने उनके खिलाफ एक दर्जन से अधिक प्राथमिकी दर्ज की है।

गौरतलब है कि एक अक्टूबर 2018 को उच्चतम न्यायालय ने उन्हें कथित वसूली और सोना के लिए प्रतिबंधित नोट अवैध तरीके से बदलने को लेकर गिरफ्तारी से राहत प्रदान की थी। घोष, चार फरवरी 2019 को भाजपा में शामिल हुई थीं। वह छह साल से अधिक समय तक पश्चिम मेदिनीपुर में पुलिस अधीक्षक रही थीं।