नई दिल्ली : हार के डर से भाजपा दिल्ली में लाखों लोगों के वोटर लिस्ट से नाम कटवा रही है। यह कहना है मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का। शुक्रवार को केंद्रीय चुनाव आयुक्त से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों के बाद दिल्ली में वोटर लिस्ट में बड़े स्तर पर छेड़छाड़ की गई है। लगभग 10 लाख लोगों के नाम मतदाता सूची से काट दिए गए हैं। जब हमने अपने स्तर पर उनकी जांच की तो पता चला इस सूची से काटे गए ज्यादातर नाम उन लोगों के हैं जो आम आदमी पार्टी के वोटर हैं।

इसमें विधायक के परिवार के सदस्य भी शामिल हैं। उन्होंने कहा कहा कि भाजपा चुनाव जीतने के लिए पहले ईवीएम से छेड़छाड़ कर रही थी अब मतदाता सूची में गड़बड़ कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमने चुनाव आयोग को नौ व्यक्तियों के नाम की एक लिस्ट दी जिनके नाम मतदाता सूची से काट दिए गए थे। इनकी जांच में पाया गया कि बीएलओ ने घर बैठकर ही सूची से नाम काट दिए। हमारी चुनाव आयोग से यह मांग है कि जिन लोगों के नाम मतदाता सूची से काटे गए हैं उन सभी के नामों की लिस्ट वेबसाइट पर डाली जाए, ताकि जिन लोगों के नाम गलती से काट दिए गए हैं, अधिकारी लोग उनके घर जाकर जांच पड़ताल करके उनके नाम दोबारा से मतदाता सूची में चढ़ा सके।

उन अधिकारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए जिन्होंने ऐसा किया है। सीएम ने ट्वीट कर कहा कि भाजपा आप और कांग्रेस के वोट कटवा रही है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि भाजपा दिल्ली में हार रही है। इसलिए 10 लाख वोट कटवा दिए। इनमें अधिकतर आम आदमी पार्टी और कांग्रेस के वोट हैं। कांग्रेस नींद से जाग गयी हो तो अपने वोट संभाल ले। सीएम ने जनता से अपील की कि वह जल्दी अपने नामों को देख ले हो सकता है कि उनका नाम भी सूची से काट दिया गया हो। चुनाव आयोग को कहा गया है कि वह जल्दी काटे गए नामों की सूची तैयार करके वेबसाइट पर डाली जाए ताकि जिन लोगों के नाम कटे हैं वह लोग अपने नाम को दोबारा से मतदाता सूची में चढ़ा सके।

वोटर लिस्ट में लापरवाही बरतने पर 3 बीएलओ निलंबित