मिशन 2019 के तहत बीजेपी ने राष्ट्रीयता का माहौल पैदा करने के लिए लाल किले के पास राष्ट्रीय रक्षा महायज्ञ आयोजित करने का फैसला किया है। इस महायज्ञ से पहले यज्ञ कुंडों के निर्माण के लिए देश के कोने-कोने से जल और मिट्टी लाई जाएगी। इसके लिए आज ‘जल-मिट्टी रथ यात्रा’ निकाली गई। ‘जल-मिट्टी रथ यात्रा’ को केंद्र गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने हरी झंडी दिखाई।

राजनाथ सिंह ने इस मौके पर कहा, ‘हम दूसरे देशों में रहने वाले लोगों के दिलों में दहशत पैदा करने के लिए बलवान नहीं बनना चाहते हैं बल्कि हम विश्व गुरु बनना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि इस रथ यात्रा के जरिये देश की सीमाओं की मिट्टी और चार धाम का जल लेकर आएंगे। हम देश की एकता और अखण्डता के लिए ये सब कर रहे हैं। हम पूरे विश्व के कल्याण के लिए भी काम करते हैं। उन्होंने कहा कि हमारा देश विश्व में वसुधैव कुटुम्बकम की बात करता है। राष्ट्रीय रक्षा महायज्ञ के लिए 108 यज्ञ कुंडों का निर्माण किया जाएगा।

बीजेपी की यह यात्रा देश सीमाओं से जाकर मिट्टी और जल इकट्ठा करेगी और इससे ही यज्ञ कुंड तैयार होगा। यज्ञ कुंड के लिए जम्मू-कश्मीर के बॉर्डर और डोकलाम से भी मिट्टी और जल लाया जाएगा। देश के प्रत्येक कोने से मिट्टी-जल इकट्ठा करने के बाद दिल्ली के लाल किले में बीजेपी राष्ट्रीय रक्षा महायज्ञ का आयोजन करेगी।

जानकारी के मुताबिक 108 महायज्ञ कुंड में 1111 ब्राह्मण 2.25 करोड़ मंत्रों का उच्चारण करेंगे। सूत्रों की मानें तो कई वर्षों बाद बड़े स्तर पर इस तरह के यज्ञ का आयोजन किया जा रहा है। देशभर के साधु-संतों के यज्ञ में हिस्सा लेने की संभावना जताई जा रही है। साथ ही आम जनता से लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और नेताओं तक को आमंत्रित किया गया है।

अधिक जानकारियों के लिए बने रहिये पंजाब केसरी के साथ।