आप ने दिल्ली सरकार के मंत्री कैलाश गहलोत के घर पर बुधवार को आयकर विभाग की छापेमारी को केन्द्रीय एजेंसियों का दुरुपयोग बताते हुये कहा है कि केन्द्र सरकार आप को डराने के लिये अपनी एजेंसियों का इस्तेमाल करती है।

आप की प्रवक्ता आतिशी ने बताया “गहलोत के घर और कुछ निजी प्रतिष्ठानों सहित 15 से 16 स्थानों पर आयकर विभाग ने छापेमारी की है। आप नेताओं, विधायकों और मंत्रियों के विरुद्ध केन्द्रीय एजेंसियों की छापेमारी की यह पहली घटना नहीं है। पिछले घटनाक्रम से साफ है कि केन्द्र सरकार अपनी सभी एजेंसियों का उपयोग आप को डराने के लिये करती है।”

आतिशी ने कहा कि इससे पहले सीबीआई ने दिसंबर 2015 में मुख्यमंत्री कार्यालय में, उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया के आवास पर जून 2017 में तथा मंत्री सत्येन्द्र जैन के घर और कार्यालय में 30 मई तथा इससे पहले भी कई बार छापेमारी हुई। आप के 28 विधायकों के खिलाफ दिल्ली पुलिस ने विभिन्न मामले दर्ज किये।

गहलोत के परिसरों पर आयकर छापों के बाद केजरीवाल ने कहा- माफी मांगें प्रधानमंत्री

उन्होंने कहा कि आप शायद देश की इकलौती पार्टी होगी जिसे लगभग दूसरे दिन आयकर विभाग का नोटिस थमा दिया जाता है। आतिशी ने कहा कि आप नेता इन मामलों में एक एक कर अदालत से निर्दोष साबित हो रहे हैं। उन्होंने कहा कि इन मामलों की अदालत जांच में सीबीआई से लेकर प्रवर्तन निदेशालय सहित अन्य केन्द्रीय एजेंसियों को न्यायालय की फटकार भी सुननी पड़ती है।

इससे साफ है कि केन्द्र सरकार अपनी एजेंसियों का आप के खिलाफ दुरुपयोग कर रही है। इसकी वजह बताते हुये आतिशी ने कहा कि लाभ के पद के मामले में आप के 20 विधायकों के खिलाफ चुनाव आयोग में चल रही सुनवाई में गहलोत पार्टी विधायकों का नेतृत्व कर रहे हैं। इसलिये इस बार गहलोत केन्द्र सरकार के निशाने पर आ गये है।

इसके अलावा दिल्ली के लोगों को घर बैठे सरकारी सुविधायें पहुंचाने की योजना को गहलोत प्रशासनिक सुधार विभाग के माध्यम से कारगर बनाने में लगे है। उन्होंने कहा कि इस योजना को कामयाब बनाने से रोकने के लिये गहलोत को निशाना बनाया जा रह है।