BREAKING NEWS

नकवी और आरसीपी सिंह ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा ; स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला इस्पात मंत्रालय◾एकनाथ शिंदे ने शरद पवार से मुलाकात का किया खंडन ◾दक्षिणी राज्यों की चार दिग्गज हस्तियां राज्यसभा के लिये मनोनीत◾देवी काली विवाद : Twitter ने निर्देशक का Tweet हटाया, महुआ मोइत्रा के खिलाफ FIR दर्ज◾PM मोदी 12 जुलाई को देवघर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, एम्स का करेंगे उद्घाटन ◾राष्ट्रपति ने नकवी और इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह के इस्तीफे को किया मंजूर◾Lalu Yadav Health : लालू को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के एम्स लाया जा रहा है - तेजस्वी ◾'भारत में रोजाना विमान संबंधी करीब 30 घटनाएं घटती हैं, अधिकतर में कोई सुरक्षा संबंधी परिणाम नहीं'◾ शिवसेना की टीम ठाकरे ने लोकसभा में बदला पार्टी का चीफ व्हिप, भावना गवली की जगह राजन विचारे हुए नामित◾COVID-19: कोविड-19 टीके की दूसरी एवं एहतियाती खुराक के बीच अंतराल घटाकर छह माह किया गया◾ Farooq Abdullah News: अपने घर रखना... 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला का अजीबों खरीब बयान◾Kerala resigns News: केरल के मंत्री साजी चेरियन ने मुख्यमंत्री को दिया अपना इस्तीफा, जानें- ऐसा क्यों किया? ◾ Rajasthan Politics: राजस्थान में चढ़ा सियासी पारा, अशोक गहलोत ने बताया क्यों कहते हैं सचिन पायलट को 'निकम्मा'◾LPG Price Hike: जनता के बजट पर महंगाई का बुलडोजर चला रही केंद्र....., कांग्रेस ने साधा BJP पर निशाना ◾Shiv Sena Crisis: शिंदे होंगे बाला साहेब के उत्तराधिकारी? बागी विधायक ने किया बड़ा दावा, जानें क्या कहा ◾ मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने कैबिनेट पद से किया रिजाइन, PM मोदी से मुलाकात बाद लिया ये फैसला◾पीएम बोरिस जॉनसन की सरकार को जोरदार झटका! मंत्रियों ने छोड़े अपने पद, जानें- इसके पीछे की मिस्ट्री◾Umesh Kolhe murder case: अमरावती मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान पहले भी जा चुका हैं जेल, रेप केस में हुई थी गिरफ्तार ◾Rajasthan: भाजपा की हिंदुत्व नीति ने लोगों को भड़काने का काम किया........., गहलोत का केंद्र सरकार पर तंज ◾Kaali Poster Row: काली पर टिप्पणी कर फंसी मोइत्रा, पार्टी ने छोड़ा साथ.. BJP कर रही गिरफ्तारी की मांग ◾

उच्चतर शिक्षा के सफर को आसान बनाता मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग मेधावृति योजना

पटना : भारत के किसी कोने में भी बिहार की मेधा अपनी पहचान बनाए हुए है। देश के बाहर विदेशों में भी कई बिहारी अपनी गौरवगाथा लिख रहे हैं। इसकी मूल वजह यहां के छात्र मेहनती हैं, ओजस्वी हैं, जिनकी क्षमता को सही दिशा देने के लिए राज्य सरकार अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन करते हुए उनके लिए कई योजनाओं का बेहतर संचालन कर रही है। सरकार ने राज्य के छात्र-छात्राओं को प्रोत्साहित करने के लिए अनेक योजनाएं चलायी हैं ताकि वे बिना किसी आर्थिक दबाव के अपनी उच्चतर शिक्षा को भी प्राप्त कर सकें। बालिकाओं की शुरुआती पढ़ाई से लेकर स्नातक तक की पढ़ाई के लिए सरकार पोशाक, पुस्तक, साईकिल, मेधावृति, फीस की माफी सहित अन्य कई तरह की सुविधाएं उपलब्ध करा रही है।

अत्यंत पिछड़े वर्गए पिछड़े वर्ग, अल्पसंख्यक वर्ग, अनुसूचित जाति - अनुसूचित जनजाति के छात्रों को सरकार शिक्षित कर समाज की अगली पंक्ति में लाने के लिए प्रयासरत है। बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग छात्रवृत्ति योजना का शुभारम्भ कर एक कारगर कदम उठाया है। इस योजना के अंतर्गत मेधावी विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति दिए जाने का प्रावधान है। इस योजना के अंतर्गत राज्य सरकार दसवीं कक्षा के अत्यंत पिछड़ा वर्ग मेधावी विद्यार्थियों को 10.000 रुपये छात्रवृत्ति के तौर देती है।

मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग मेधावृत्ति योजना का उद्देश्य अंतर्गत मेघावी छात्रों को छात्रवृत्ति प्रदान करना है। जो बच्चे गरीबी के कारण बच्चों को पढाई छोडऩी पड़ती है और बच्चों का भविष्य अंधकार में चला जाता है इसलिए बिहार सरकार ने मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग मेधावृत्ति योजना को शुरु किया है। इस योजना का लाभ लेने के लिए पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को bcebcwelfare.bih.nic.in पर ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म भरकर छात्रवृत्ति प्रदान की जाती है। इस योजना के तहत दी जाने वाली छात्रवृति राशि जिलों के माध्यम से मेधावी छात्रों तक पहुंच जाती है।

वर्ष 2017 में दसवीं की परीक्षा प्रथम श्रेणी से उत्तीर्ण करने वाले अत्यंत पिछड़ा वर्ग के छात्र- छात्राओं को छात्रवृति की राशि उपलब्ध करायी गई है। सभी जिला कल्याण पदाधिकारियों को बैंक के खाते में आरटीजीएस के माध्यम से छात्रवृति भुगतान कराया जाता है। जो राशि खर्च नहीं होगी उसे विभाग को वापस करना होता है। इस योजना के लिए निर्धारित योग्यता: आवेदक इस योजना के बारे में अधिक जानकारी के लिए इस वेबसाइट में जा सकता है bcebcwelfare.bih.nic.in लाभार्थी बिहार का रहने वाला हो।

आवेदक के पास बैंक अकाउंट होना अनिबार्य है। आवेदक ने मैट्रिक की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की हो। इस योजना के तहत पात्र 10वीं कक्षा में प्रथम श्रेणी में पास विद्यार्थी है। इस योजना का लाभ लेने के लिए पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों को छात्रवृत्ति के लिए ऑनलाइन एप्लीकेशन फॉर्म बरना होगा। मुख्यमंत्री अत्यंत पिछड़ा वर्ग मेधावृत्ति योजना के लिए दस्तावेज? आवेदक का जाति प्रमाण.पत्र। आवेदक प्रवेश पत्र। विद्यार्थियों अंक पत्र। आवासीय प्रमाण.पत्र। आधार कार्ड संख्या। बैंक खाता। बिहार विद्यालय परीक्षा समिति से उपलब्ध करायी गयी सूची के आधार पर आवश्यक कागजात की जांच की जाती है। उसके बाद छात्रवृत्ति के भुगतान के बाद समय पर महालेखाकार को उपयोगिता प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाता तथा उसकी एक प्रति विभाग को देने का प्रावधान है। इस प्रकार इस सुविधा को मुहैया कराने के लिए सरकार पूरी तरह से मुस्तैद है। इस योजना का लाभ बिहार के मेधावी छात्रों को मिल रहा है। इस मेधावृति योजना से प्रेरित होकर बच्चे हर वर्ष अधिक से अधिक प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होने के लिए कठिन से कठिन परिश्रम करने लगे हैं।

आर्थिक रुप से यह योजना इस वर्ग के लोगों को लाभान्वित तो करती ही है साथ ही उनमें आत्मविश्वास की भी वृद्धि कर रही है। मैट्रिक की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद विद्यार्थियों के लिए आगे की पढ़ाई के लिए एक नया अध्याय की शुरुआत होती है। जिसमें वह मेडिकल, इंजीनियरिंग, स्न्नातक ,प्रतिष्ठा मैनेजमेंट आदि के लिए अपने कदम को आगे बढ़ाते हैं। बिहार के बाहर भी ये बच्चे आत्मविश्वास को लेकर निकलते हैं। उसमें यह मेधावृति योजना आगे के उनके सफर को और सुगम बनाता है।