BREAKING NEWS

राहुल गांधी ने लॉकडाउन को फिर बताया फेल, ट्विटर पर शेयर किया ग्राफ ◾महाराष्ट्र में कोरोना का कहर जारी, आज सामने आए 2,436 नए मामले, संक्रमितों का आंकड़ा 80 हजार के पार◾लद्दाख तनाव : कल सुबह 9 बजे मालदो में होगी भारत और चीन के बीच ले. जनरल स्तरीय बातचीत ◾पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा : मुंह में गहरे घावों के कारण दो हफ्ते भूखी थी गर्भवती हथिनी, हुई दर्दनाक मौत◾केंद्रीय गृह मंत्रालय की मीडिया विंग में भारी फेरबदल, नितिन वाकणकर नये प्रवक्ता नियुक्त किये गए ◾भाजपा नेता और टिक टोक स्टार सोनाली फोगाट ने हिसार मंडी समिति के सचिव को पीटा , वीडियो वायरल ◾सैन्य बातचीत से पहले बोला चीन-भारत के साथ सीमा विवाद को उचित ढंग से सुलझाने के लिए प्रतिबद्ध◾PM मोदी के 'आत्मनिर्भर भारत' के ऐलान को कपिल सिब्बल ने बताया 'जुमला'◾दिल्ली के पीतमपुरा में एक मेड से 20 लोगों को हुआ कोरोना, 750 से ज्यादा लोग हुए सेल्फ क्वारंटाइन◾कोरोना संकट पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला, नई योजनाओं पर मार्च 2021 तक लगी रोक◾गुजरात में कांग्रेस को तीसरा झटका, एक और विधायक ने दिया इस्तीफा◾दिल्ली मेट्रो में हुई कोरोना की एंट्री, 20 कर्मचारियों में संक्रमण की पुष्टि◾'विश्व पर्यावरण दिवस' पर PM मोदी का खास सन्देश, कहा- जैव विविधता को संरक्षित रखने का संकल्प दोहराएं◾उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ में ट्रक और स्कॉर्पियो की भीषण टक्कर, 9 लोगों की मौत◾World Corona : दुनिया में पॉजिटिव मामलों की संख्या 66 लाख के पार, अब तक करीब 4 लाख लोगों की मौत ◾कोविड-19 : देश में 10 हजार के करीब नए मरीजों की पुष्टि, संक्रमितों का आंकड़ा 2 लाख 27 हजार के करीब ◾Coronavirus : अमेरिका में संक्रमितों का आंकड़ा 19 लाख के करीब, अब तक एक लाख से अधिक लोगों की मौत ◾अदालती आदेश का अनुपालन नहीं करने पर CM केजरीवाल के खिलाफ कोर्ट में अवमानना याचिका दायर ◾महाराष्ट्र : निसर्ग तूफान पर मुख्यमंत्री ठाकरे ने की समीक्षा बैठक, दो दिन में नुकसान की रिपोर्ट पूरी करने के दिए निर्देश ◾वंदे भारत मिशन के शुरू होने से अबतक विदेश में फंसे 1.07 लाख से ज्यादा भारतीय स्वदेश वापस आए : विदेश मंत्रालय ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कांग्रेस में घमासान : चाको के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान

नई दिल्ली : दिल्ली कांग्रेस के इतिहास में शायद यह पहली बार होगा जब दिल्ली कांग्रेस का एक बड़ा धड़ा प्रदेश अध्यक्ष (प्रस्तावित) के साथ-साथ प्रदेश प्रभारी पीसी चाको के खिलाफ खड़े हो गए हैं। कांग्रेस दिल्ली में बड़े स्तर पर दोनों के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाया जा रहा है। इस अभियान में पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों, जिलाध्यक्षों, ब्लॉक अध्यक्षों, पूर्व नगर निगम पार्षद व कांग्रेस के नेता इस अभियान के तहत हस्ताक्षर कर रहे हैं। 

गौरतलब है कि प्रदेश अध्यक्ष शीला दीक्षित के निधन के बाद से ही शीला समर्थित गुट पीसी चाको को हटाने की लगातार मांग कांग्रेस आलाकमान से कर रहे हैं। उनका आरोप है कि चाको ने दिल्ली में कांग्रेस को हाशिए पर पहुंचा दिया है। यहां तक की शीला दीक्षित के निधन के पीछे भी चाको द्वारा दी जा रही मानसिक तनाव को उन्होंने जिम्मेदार ठहराया है। हाल ही में शीला दीक्षित के पुत्र संदीप दीक्षित ने एक पत्र लिख कर यह बात भी उठाई थी, बाद में यह पत्र मीडिया में लीक हो गई जिसके बाद कांग्रेस के भीतर घमासान छिड़ गया। 

कांग्रेस का एक गुट चाको को पद से हटाने की मांग को लेकर गत शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेंस तक कर दी। उसके बाद मामला और गंभीर हो गया। कांग्रेस के इस गुट का कहना है कि पीसी चाको ने प्रदेश में कांग्रेस के संगठन को खड़ा करने के स्थान पर गुटबाजी को हवा दी है। उनका कहना है कि प्रदेश प्रभारी का काम होता है ​कि संगठन में गुटबाजी को हावी न होने दें, सभी गुटों को साथ लेकर चलें, लेकिन चाको ने स्वंय ही गुटबाजी खड़ी कर दी। 

यहां यह बता दें कि चाको पर पूर्व अध्यक्ष अजय माकन गुट को समर्थन देने का लगातार आरोप लगते रहे हैं। यह बात लोकसभा चुनाव में खुलकर सामने आ गई जब कांग्रेस और आप पार्टी के बीच गठबंधन से चुनाव लड़ने की बात सामने आने लगी थी। चाको पर अजय माकन के गुट को बढ़ाने की मोहर लगी हुई है। दिल्ली के राजनीतिक इतिहास में यह पहली बार है जब किसी प्रदेश प्रभारी के खिलाफ हस्ताक्षर अभियान चलाने की जरूरत पड़ी है।

प्रदेश अध्यक्ष के नाम की घोषणा भी खटाई में... जिस दिन कांग्रेस के एक गुट ने प्रेस कांफ्रेंस की थी उसी दिन प्रदेश अध्यक्ष की आधिकारिक घोषणा होनी थी, लेकिन इस विवाद को देखते हुए उसे फौरी तौर पर टाल दिया गया। बताया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष के नाम के रूप में कीर्ति आजाद का नाम फाइनल हो गया था। लेकिन अब प्रदेश अध्यक्ष की घोषणा भी ​खटाई में पड़ गई है। कांग्रेसियों का यह गुट पीसी चाको के साथ-साथ कीर्ति आजाद को भी प्रदेश अध्यक्ष नहीं चाहते हैं। वैसे कीर्ति आजाद पर प्रदेश के दूसरे गुट के नेता भी पूरी तरह से सहमत नहीं है। 

यानी की दिल्ली की पूरी कांग्रेस कीर्ति आजाद के नाम से संतुष्ट नहीं हैं। उनका तर्क है कि अध्यक्ष दिल्ली का ही होना चाहिए, जिन्हें दिल्ली के बारे में, संगठन के बारे में जानकारी नहीं उन्हें अध्यक्ष नहीं बनाया जाना चाहिए। साथ ही कीर्ति आजाद पर आरोप लगाया जा रहा है कि वह संघ विचारधारा से जुड़े रहे हैं, ऐसे में कांग्रेस की अलग विचारधारा को वह स्वीकार नहीं कर पाएंगे?