नई दिल्ली : दिल्ली सरकार के मंत्री और आम आदमी पार्टी (आप) के नेता राजेन्द्र पाल गौतम ने लोकसभा चुनाव में मुस्लिम वोटरों के कन्फ्यूज होने की बात कही है। जिसके चलते कुछ वोट कांग्रेस की ओर चला गए। उन्होंने कहा कि मुस्लिम वोटर्स को बांटने की भरसक कोशिश की गई जिसके चलते कांग्रेस के पक्ष में कुछ वोट शिफ्ट हो गया लेकिन दिल्ली की सातों सीटों पर अब भी आप की ही जीत होगी लेकिन जीत का अंतर कुछ कम यानि एक से डेढ़ लाख के बीच रह सकता है। जबकि पहले यह अंतर तीन से चार लाख के बीच होता। गौतम ने यह भी दावा किया कि मुख्य मुकाबला तो आप और भाजपा के बीच होगा कांग्रेस तो तीसरे स्थान पर रहेगी।

राजेन्द्र पाल गौतम ने आरोप लगाया कि वोटिंग से पहले रात को गरीब वोटरों को पैसे बांटे गए। वोटर्स एवं पार्टी के कार्यकर्ताओं ने उन्हें स्वयं यह बात बताई। कुछ वोट इस कारण से भी ट्रांसफर हुए हैं। गौतम ने बताया कि मतदाताओं को यह समझाने की कोशिश की गई कि अरविंद केजरीवाल तो केवल दिल्ली में ही काम कर सकते हैं। अरविंद केजरीवाल और आप बाहर कुछ काम नहीं कर सकते।

यहां बता दें कि राजेन्द्र पाल गौतम सीमापुरी विधानसभा से विधायक हैं जो उत्तर-पूर्वी दिल्ली लोकसभा का हिस्सा है। रविवार 12 मई को छठवें चरण में दिल्ली की सात लोकसभा सीटों में से उत्तरी-पूर्वी दिल्ली लोकसभा सीट पर सबसे ज्यादा वोटिंग हुई थी। यहां पर 63.39 फीसदी लोगों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया था।