नयी दिल्ली : कांग्रेस ने रविवार को आरोप लगाया कि तेलंगाना में मतदाता सूची में करीब 70 लाख विसंगतियां हैं और कहा कि अगर ‘‘दोषपूर्ण और गलत’’ मतदाता सूची पर चुनाव हुए तो यह देश के लोगों के साथ ‘‘धोखा’’ होगा। कांग्रेस प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि पार्टी ने इस बारे में निर्वाचन आयोग से भी ‘‘सख्त तरीके’’ से हस्तक्षेप की मांग की है। उन्होंने आरोप लगाया कि प्रदेश में सत्तारूढ़ तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने तेलंगाना विधानसभा को समयपूर्व भंग कराया ताकि मतदाता सूची में ‘‘छेड़छाड़’’ के जरिये चुनाव को अपने पक्ष में किया जा सके।

सूत्रों ने संकेत दिये कि मतदाता सूची में इन कथित विसंगतियों के मुद्दे पर कांग्रेस अदालत भी जा सकती है कि राज्य में चुनाव से पहले इन्हें दुरूस्त किया जाए। कांग्रेस ने पहले ही उच्चतम न्यायालय में राजस्थान और मध्य प्रदेश में मतदाता सूचियों में कथित विसंगतियों को लेकर एक याचिका दायर की है। इन दोनों राज्यों में साल के अंत में चुनाव होने हैं। सिंघवी ने आरोप लगाया कि कुल 70 लाख विसंगतियों में से करीब 30 लाख मतदाताओं के नामों का दोहरीकरण है जबकि 20 लाख नामों को यह कहकर मतदाता सूची से हटा दिया गया है कि वे आंध्र प्रदेश जा चुके हैं। उन्होंने दावा किया कि आंध्र प्रदेश की मतदाता सूची में इन नामों को नहीं जोड़ा गया है।