BREAKING NEWS

पेट्रोल के दाम में वृद्धि पर आज लगा ब्रेक, डीजल के भाव भी स्थिर◾पूर्वोत्तर और बिहार में बाढ़ से 70 लाख लोग प्रभावित, अब तक 44 की मौत◾अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री से मुलाकात की ◾ओवैसी बोले- डराइए मत, शाह बोले- अगर डर जेहन में है तो क्या करें ◾मोदी ने असम के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की, बाढ़ का हाल पूछा ◾Top 20 News -15 July : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रह सकते है कर्नाटक के बागी विधायक ◾ बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 55 प्रखंड के 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित ◾उदयपुर में बढ़ा तनाव : उग्र भीड़ ने दो रोडवेज बसें फूंकी, पुलिसकर्मियों पर किया पथराव◾लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक 2019 को मिली मंजूरी◾सिद्धू के इस्तीफे पर बोले कैप्टन - यदि वह अपना काम नहीं करना चाहते, तो मैं कुछ नहीं कर सकता◾NIA कानून का इस्तेमाल शुद्ध रूप से आतंकवाद को खत्म करने के लिए ही करेंगे : अमित शाह ◾हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल नियुक्त हुए कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत को भेजा गया गुजरात ◾ओवैसी को शाह की नसीहत, बोले - सुनने की भी आदत डालिए साहब, इस तरह से नहीं चलेगा◾बीजेपी ने CM कुमारस्वामी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की ◾सूरत रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की आसाराम की जमानत याचिका◾इलाहाबाद हाई कोर्ट से अगवा हुए युवक-युवती फतेहपुर से बरामद, अपहरणकर्ता गिरफ्तार ◾इलाहाबाद HC का आदेश, BJP विधायक की बेटी साक्षी और अजितेश को मिलेगी सुरक्षा◾बागी कर्नाटक विधायकों ने फिर लिखा पुलिस को पत्र, कहा- कांग्रेसी नेताओं से खतरा ◾हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत ढही , 6 जवान समेत सात लोगों की मौत◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

सेंट स्टीफंस कॉलेज के फैसले पर विवाद

नई दिल्ली : दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के सेंट स्टीफंस कॉलेज में सुप्रीम काउंसिल सदस्यों को एडमिशन इंटरव्यू पैनल में शामिल करने के निर्णय की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने कड़ी निंदा की है। कॉलेज प्रशासन से इस निर्णय को वापस लेने की मांग करते हुए एबीवीपी ने कहा कि शिक्षा क्षेत्र से असंबद्ध व्यक्ति या संस्था का शैक्षणिक संस्थान में आकस्मिक हस्तक्षेप को किसी भी पैमाने पर सही नहीं ठहराया जा सकता है।

एबीवीपी दिल्ली के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि इस निर्णय से अनावश्यक रूप से चर्च का हस्तक्षेप शिक्षण व्यवस्था में बढ़ेगा जो शैक्षणिक संस्थान में धर्मनिरपेक्ष वातावरण पर सीधा आघात है। यह निर्णय सेंट स्टीफंस कॉलेज के संविधान में वर्णित नियमों की भी अवहेलना करता है। कॉलेज इस निर्णय को वापस लेते हुए प्रवेश प्रक्रिया पर पहले जैसी स्थिति सुनिश्चित करें और प्राध्यापक को इस निर्णय का विरोध करने पर दिए गए नोटिस को वापस ले। एबीवीपी ने उग्र आंदोलन करने की बात कही है।

प्राचार्य ने दी तीन शिक्षकों को चेतावनी, लिखा पत्र सेंट स्टीफंस के प्राचार्य प्रो. जॉन वर्गीस ने प्रो. नंदीता समेत दो अन्य शिक्षकों को चेतावनी देते हुए पत्र लिखा है। प्राचार्य ने प्रो. नंदीता के चर्च के प्रतिनिधियों को साक्षात्कार के पैनल में शामिल करने की बात को प्राचार्य की घोषणा बताए जाने के दावे को भी गलत करार दिया है। पत्र में उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जिस निर्णय को प्रो. नंदीता प्राचार्य द्वारा घोषणा की बात कह रही हैं। वह दरअसल कॉलेज की सुप्रीम काउंसिल ​का फैसला है। कॉलेज क्रिंश्चन अल्पसंख्यक संस्थान है और सुप्रीम काउंसिल के पास कॉलेज की एडमिशन पॉलिसी पर फैसला लेने की पूरी पावर है।