BREAKING NEWS

BJP के पूर्व सांसद और वरिष्ठ पत्रकार अश्विनी कुमार चोपड़ा जी का आज होगा अंतिम संस्कार◾करनाल से बीजेपी के पूर्व सांसद अश्विनी कुमार चोपड़ा के निधन पर राजनाथ सिंह समेत इन नेताओं ने जताया शोक ◾अश्विनी कुमार की लेगब्रेक गेंदबाजी के दीवाने थे टॉप क्रिकेटर◾PM मोदी ने वरिष्ठ पत्रकार और पूर्व सांसद अश्विनी चोपड़ा के निधन पर शोक प्रकट किया ◾पंजाब केसरी दिल्ली के मुख्य संपादक और पूर्व भाजपा सांसद श्री अश्विनी कुमार जी को भावपूर्ण श्रद्धांजलि ◾निर्भया गैंगरेप: अपराध के समय दोषी पवन नाबलिग था या नहीं? 20 जनवरी को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾सीएए पर प्रदर्शनों के बीच CJI बोबड़े ने कहा- यूनिवर्सिटी सिर्फ ईंट और गारे की इमारतें नहीं◾कमलनाथ सरकार के खिलाफ धरने पर बैठे MLA मुन्नालाल गोयल, घोषणा पत्र में किए गए वादों को पूरा नहीं करने का लगाया आरोप ◾नवाब मलिक बोले- अगर भागवत जबरदस्ती पुरुष की नसबंदी कराना चाहते हैं तो मोदी जी ऐसा कानून बनाए◾संजय राउत ने सावरकर को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना, बोले- विरोध करने वालों को भेजो जेल, तब सावरकर को समझेंगे'◾दोषियों को माफ करने की इंदिरा जयसिंह की अपील पर भड़कीं निर्भया की मां, बोलीं- ऐसे ही लोगों की वजह से बच जाते हैं बलात्कारी◾पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾

सेंट स्टीफंस कॉलेज के फैसले पर विवाद

नई दिल्ली : दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू) के सेंट स्टीफंस कॉलेज में सुप्रीम काउंसिल सदस्यों को एडमिशन इंटरव्यू पैनल में शामिल करने के निर्णय की अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने कड़ी निंदा की है। कॉलेज प्रशासन से इस निर्णय को वापस लेने की मांग करते हुए एबीवीपी ने कहा कि शिक्षा क्षेत्र से असंबद्ध व्यक्ति या संस्था का शैक्षणिक संस्थान में आकस्मिक हस्तक्षेप को किसी भी पैमाने पर सही नहीं ठहराया जा सकता है।

एबीवीपी दिल्ली के प्रदेश मंत्री सिद्धार्थ यादव ने कहा कि इस निर्णय से अनावश्यक रूप से चर्च का हस्तक्षेप शिक्षण व्यवस्था में बढ़ेगा जो शैक्षणिक संस्थान में धर्मनिरपेक्ष वातावरण पर सीधा आघात है। यह निर्णय सेंट स्टीफंस कॉलेज के संविधान में वर्णित नियमों की भी अवहेलना करता है। कॉलेज इस निर्णय को वापस लेते हुए प्रवेश प्रक्रिया पर पहले जैसी स्थिति सुनिश्चित करें और प्राध्यापक को इस निर्णय का विरोध करने पर दिए गए नोटिस को वापस ले। एबीवीपी ने उग्र आंदोलन करने की बात कही है।

प्राचार्य ने दी तीन शिक्षकों को चेतावनी, लिखा पत्र सेंट स्टीफंस के प्राचार्य प्रो. जॉन वर्गीस ने प्रो. नंदीता समेत दो अन्य शिक्षकों को चेतावनी देते हुए पत्र लिखा है। प्राचार्य ने प्रो. नंदीता के चर्च के प्रतिनिधियों को साक्षात्कार के पैनल में शामिल करने की बात को प्राचार्य की घोषणा बताए जाने के दावे को भी गलत करार दिया है। पत्र में उन्होंने स्पष्ट कहा है कि जिस निर्णय को प्रो. नंदीता प्राचार्य द्वारा घोषणा की बात कह रही हैं। वह दरअसल कॉलेज की सुप्रीम काउंसिल ​का फैसला है। कॉलेज क्रिंश्चन अल्पसंख्यक संस्थान है और सुप्रीम काउंसिल के पास कॉलेज की एडमिशन पॉलिसी पर फैसला लेने की पूरी पावर है।