नई दिल्ली : पूर्वांचल के महापर्व छठ पूजा की तैयारी को लेकर निगम ने कमर कस रखी है। दिल्ली में निगम की ओर से इससे संबंधित कार्यों को अंजाम देने की प्रक्रिया तेजी से चल रही है। दिवाली से पूर्व ही छठ पूजा की तैयारी के मद्देनजर छठ घाटों पर सफाई का काम किया कर दिया गया था। कुछ स्थानों पर सरकारी तो अन्य पर निजी खर्चे पर सफाई कराई जा रही है। कई जगहों पर घाटों का निर्माण भी किया जा रहा है। निगमों ने इस त्योहार के लिए अपनी तरफ से सभी तैयारियां सुनिश्चित की है ताकि लोगों को कोई असुविधा न हो। इस कड़ी में ईस्ट एमसीडी ने प्रत्येक घाट के लिए 10,000 रुपए के आवंटन की घोषणा की है।

इस संबंध में महापौर बिपिन बिहारी सिंह ने छठ घाटों तक जाने वाली सड़कों पर प्रकाश व्यवस्था एवं अन्य कार्यों के क्रियान्वयन के लिए इस राशि के आवंटन का ऐलान किया है। महापौर बिपिन बिहारी सिंह ने कहा कि किसी भी छठ घाट पर निगम की ओर दी जाने वाली सुविधाओं में कोई कमी नहीं की जाएगी। सभी छठ घाटों पर पर्याप्त रोशनी, सफाई व्यवस्था एवं अन्य सुविधाएं उपलब्ध कराई जाएंगी। इससे पहले छठ पर्व के मद्देनजर महापौर शाहदरा साउथ जोन में विभिन्न छठ घाटों का दौरा करने पहुंचे थे। इस कड़ी में नॉर्थ एमसीडी स्टैंडिंग कमेटी चेयरपर्सन वीना विरमानी और महापौर आदेश गुप्ता भी निरीक्षण करने पहुंचे।

विरमानी ने भलस्वा झील और हैदरपुर नहर का दौरा किया तो वहीं, महापौर ने कुदेशिया घाट का जायजा लिया। भलस्वा झील के निरीक्षण के दौरान स्थानीय लोगों ने विरमानी को बताया कि झील में गोबर बहकर आने के चलते इससे काफी दुर्गंध आती है। जिस पर विरमानी ने डीडीए के अधिकारियों को कहा है कि वे झील में चूना डालकर या अन्य उचित तरीके से इस समस्या का समाधान करें।

छठ पूजा : दूसरे दिन खरना करने की है परंपरा