BREAKING NEWS

कूचबिहार फायरिंग मामला : ममता ने आत्मरक्षा वाली दलील पर जताया संदेह, कहा- सरकार कराएगी सीआईडी जांच◾UP के इटावा में भीषण सड़क हादसा, श्रद्धालुओं से भरी गाड़ी पलटी, 11 लोगों की मौत◾जावड़ेकर बोले- महाराष्ट्र को टीके की 1.10 करोड़ खुराकें मिल चुकी, 1121 वेंटिलेटर दिए जाएंगे ◾चुनाव में हार सुनिश्चित देख हिंसा के पुराने खेल पर उतर आई हैं ममता: PM मोदी ◾MP: कोरोना के बढ़ते केसों के चलते कई शहरों में लॉकडाउन, कुछ जगहों पर बढ़ाई गई अवधि ◾कर्नाटक में कोरोना का कहर : बेंगलुरु सहित कर्नाटक के 7 जिलों में आज से नाइट कर्फ्यू लागू ◾राहुल गांधी ने देश में कोविड की दूसरी लहर पर गहरी चिंता व्यक्त की◾देश में कोरोना से संक्रमित मरीजों में से 72 % से अधिक महज पांच राज्यों में : स्वास्थ्य मंत्रालय◾कूचबिहार हिंसा मामले में ममता ने केंद्रीय गृह मंत्री का मांगा इस्तीफा, कहा- लोगों की मौत के पीछे अमित शाह ◾CISF की गोलीबारी में चार लोगों की मौत के बाद EC ने सीतलकूची के मतदान केंद्र पर बंद कराई वोटिंग◾कूचबिहार हिंसा के दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करे EC, ‘दीदी’ और उनके गुंडों में हार की है बौखलाहट : PM मोदी◾सोनिया का आरोप- कोरोना महामारी में मोदी सरकार ने किया कुप्रबंधन, टीके की देश में होने दी कमी ◾दिल्ली में नहीं होगा लॉकडाउन, जल्द लगाए जाएंगे नए प्रतिबंध : CM केजरीवाल◾बंगाल चुनाव में स्थानीय लोगों के हमले के बाद केंद्रीय बलों ने की फायरिंग, चार लोगों की मौत◾मोदी हैं सर्वश्रेष्ठ, लोगों को बेवकूफ बनाने के लिए TMC से जुड़े प्रशांत किशोर : लॉकेट चटर्जी◾विफल नीतियों के चलते दोबारा पलायन को मजबूर हैं प्रवासी, सरकार को अच्छे सुझावों से ‘एलर्जी’ : राहुल गांधी ◾वायरल हुई प्रशांत किशोर की ऑडियो, अमित मालवीय बोले- TMC ने भी माना बंगाल में है मोदी लहर ◾हुगली में BJP नेता लॉकेट चटर्जी के काफिले पर हमला, मीडिया वाहनों में हुई तोड़फोड़◾पश्चिम बंगाल : चौथे चरण में अब तक 16.65 फीसदी मतदान, 44 सीटों पर तेजी से चल रही है वोटिंग ◾किसानों ने केएमपी एक्सप्रेस वे को किया बंद, ट्रॉली और चारपाई लेकर हाइवे पर बैठे प्रदर्शनकारी ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली हिंसा : फटकारते हुए कोर्ट ने ताहिर हुसैन की जमानत याचिका की खारिज, बताया दंगों का 'सरगना'

दिल्ली की एक अदालत ने गुरुवार को आम आदमी पार्टी के पूर्व पार्षद ताहिर हुसैन द्वारा तीन मामलों में दायर जमानत याचिकाओं को खारिज कर दिया है। कोर्ट ने दिल्ली के दंगों में उनकी सक्रिय भूमिका के सबूत के आधार पर याचिकाओं को खारिज कर दिया और यह भी कहा कि उन्होंने धन और अपने राजनीतिक रसूख का इस्तेमाल करते हुए 'सरगना' की तरह हिंसा की योजना बनाई। 

पूर्व राजनीतिक नेता ने दिल्ली दंगों के मामले से संबंधित तीन मामलों में जमानत की मांग की थी। इन तीनों के अलावा हुसैन सांप्रदायिक दंगों के आठ अन्य मामलों में भी अभियुक्त माने गए हैं। गौरतलब है कि फरवरी में हुई हिंसा में सीएए समर्थकों और सीएए विरोधी प्रदर्शनकारियों के बीच झड़पों के कारण स्थिति नियंत्रण से बाहर हो गई थी। हिंसा में 53 लोग मारे गए और 748 लोग घायल हुए थे। 

उनकी तीन याचिकाओं को खारिज करते हुए एडिशनल सेशंस न्यायाधीश विनोद यादव ने कहा, 'यह स्पष्ट है कि उन्होंने अपने धन और राजनीतिक दबदबे का इस्तेमाल सांप्रदायिक संघर्ष की योजना बनाने, उकसाने और उन्हें भड़काने में सरगना के रूप में काम किया। मुझे लगता है कि रिकॉर्ड में पर्याप्त तथ्य मौजूद हैं, जो साबित करते हैं कि आवेदक मौके पर मौजूद था और दंगाइयों को उकसा रहा था।' 

केजरीवाल ने पंजाब के CM पर ड्रामा करने और लोगों को बेवकूफ बनाने का आरोप लगाया

कोर्ट ने आगे कहा कि हुसैन ने दंगाइयों को 'मानव हथियारों' के रूप में इस्तेमाल किया, जो उनके इशारे पर किसी को भी मार सकते थे। न्यायाधीश ने आगे कहा, "दिल्ली दंगा 2020, बड़ी वैश्विक शक्ति बनने की आकांक्षा वाले देश की अंतरात्मा में एक गहरा घाव है। आवेदक के खिलाफ आरोप अत्यंत गंभीर हैं।"

कोर्ट ने कहा कि स्वतंत्र गवाहों के रूप में पर्याप्त साक्ष्य हैं, जिनका यह मानना है कि आवेदक अपराध के स्थान पर मौजूद था और दंगाइयों को प्रेरित कर रहा था। उन्होंने आगे कहा, "मुझे एक प्रसिद्ध अंग्रेजी उद्धरण की याद आ रही है, जिसमें कहा गया है कि जब आप अंगारे से खेलना चाहते हैं, तो आप हवा को दोष नहीं दे सकते कि चिंगारी थोड़ी दूर तक ही जाए और आग फैल जाए। ऐसे में आवेदक का यह कहना कि उसने शारीरिक तौर पर दंगे में भाग नहीं लिया, इसलिए दंगों में उसकी कोई भूमिका नहीं है, यह उचित नहीं है।"

अतिरिक्त सत्र न्यायाधीश ने आगे कहा, "यह रिकॉर्ड किया जाए कि इन मामलों में सार्वजनिक गवाह एक ही इलाके के निवासी हैं और यदि इस समय आवेदक को जमानत पर रिहा किया जाता है, तो आवेदक द्वारा उनको धमकी देने या उन्हें डराने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता है। मामले के तथ्यों और परिस्थितियों को देखते हुए, मुझे जमानत देना उपयुक्त नहीं लग रहा।"

मुख्य सचिव अंशु प्रकाश से मारपीट के मामले में दिल्ली HC ने निचली अदालत के फैसले को किया रद्द

वरिष्ठ अधिवक्ता के.के. मेनन और अधिवक्ता उदित बाली ने हुसैन का प्रतिनिधित्व करते हुए तर्क दिया था कि उनके मुवक्किल को 'जांच एजेंसी और उनके राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों द्वारा कानून का दुरुपयोग करके उन्हें परेशान करने के उद्देश्य से' झूठे मामलों में फंसाया जा रहा है। 

विशेष लोक अभियोजक (एसपीपी) मनोज चौधरी ने तीनों जमानत याचिकाओं का विरोध किया और कहा कि हुसैन के कॉल डिटेल रिकॉर्ड घटनाओं की तारीखों पर अपराध स्थल पर और उसके आसपास दर्ज हुए हैं, जो उनकी मौजूदगी की पुष्टि करते हैं।