BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर हुआ 22, संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾शाहीन बाग मुद्दे को लेकर 23 अप्रैल को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾

कालकाजी थाने में लगी अदालत, सुनाया फैसला

दक्षिणी दिल्ली : तुगलकाबाद में बुधवार को संत गुरु रविदास मंदिर को गिराए जाने को लेकर बवाल मचाने वाले प्रदर्शनकारियों में जिन 96 लोगों को हिरासत में लिया गया था। उनके केस की सुनवाई के लिए गुरुवार को सुरक्षा कारणों से कालकाजी थाने में ही अदालत लगाई गई। थाने में मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पहुंचे और वकीलों की दलिलों के बीच केस की करीब डेढ़ घंटे तक चली सुनवाई के बाद गिरफ्तार किए गए चन्द्रशेखर सहित सभी 96 लोगों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। 

इससे पहले कालकाजी थाने में हिरासत में लिए गए आरोपियों के खिलाफ दंगा भड़काने, सरकारी व निजी सम्पत्ति को नुकसान पहुंचाने, आर्म्स एक्ट और पुलिसकर्मियों पर हमला करने समेत विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया। खास बात यह है कि गिरफ्तार किए गए लोगों में दिल्ली के महज 3 लोग हैं। बाकी सभी हरियाणा और पंजाब से आए थे। 

पुलिस सूत्रों ने बताया कि बुधवार को हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने तुगलकाबाद इलाके में पुलिस से झड़प के दौरान जमकर तोड़-फोड़, पत्थरबाजी और आगजनी की थी। जिसमें कुछ पुलिस अधिकारियों समेत 1 दर्जन से ज्यादा पुलिसकर्मी और सैकड़ों लोग जख्मी हुई थे। बाद में पुलिस ने प्रदर्शनकारियों ने प्रदर्शनकारियों को काबू करते हुए पूरे इलाके को छावनी में तब्दील कर दिया था।

इलाका पुलिस छावनी में तब्दील... गुरुवार को किसी हंगामे की सूचना तो नहीं मिली। फिर भी पूरे इलाके को पुलिस के घेरे में रखा गया।​ किसी भी परिस्थिति से निटपने के लिए पूरे इलाके में दिल्ली पुलिस और अर्धसैनिक बलों के जवान और अधिकारी समेत 1200 सुरक्षाकर्मियों को चप्पे-चप्पे पर तैनात किया गया है। बुधवार से ही दक्षिणी-रेंज के संयुक्त पुलिस आयुक्त देवेशचंद श्रीवास्तव ने खुद ही मोर्चा संभाल रखा था। 

देर रात फ्लैग मार्च के बाद सड़कों पर से बैरिकेड हटा लिए गए और यातायात सामान्य रूप से बहाल कर दिया गया। पुलिस ने मंदिर के पास एक किमी के दायरे में बैरिकेड लगाकर लोगों के आने-जाने पर प्रतिबंध लगा दिया। सुबह तक सड़कों पर टूटी हुई और जलाई गई गाड़ियां को भी हटा लिया गया। पुलिस और अर्धसैनिक बलों की तैनाती के अलावा किसी भी आपात स्थिति से निटपने के लिए इलाके में वाटर कैनन और फायर-ब्रिगेड की गाड़ियों को भी तैनात रखा गया। 

बुधवार को झड़प के दौरान गिरफ्तार किए गए 96 लोगों में सीआईएसएफ का एक जवान भी गिरफ्तार किया गया था। जिसकी पहचान सोमेन्द्र के तौर पर की गई है और जिसकी इन दिनों छत्तीसगढ़ के सुकमा जिले में तैनाती है। शुरुआती जांच में पता चला कि वह प्रदर्शन में शामिल होने के लिए छुट्टी लेकर पहुंचा था और भीम आर्मी प्रमुख के साथ ही मौजूद था। वह भीम आर्मी का सदस्य बताया जाता है। पुलिस ने उसकी गिरफ्तारी की बात संबंधित विभाग को भेज दी है। जिसके बाद उसपर विभागीय कार्रवाई हो सकती है।