BREAKING NEWS

ममता बनर्जी ने गोवा में गठबंधन के लिये सोनिया से किया था संपर्क - TMC◾कोरोना वायरस टीके की बूस्टर खुराक अब लोगों को दी जानी चाहिए - WHO◾स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ; को-विन पोर्टल से कोई डेटा लीक नहीं हुआ है◾कांग्रेस आलाकमान की हरी झंडी के बाद हरक सिंह रावत की पार्टी में हुई वापसी ◾अमेरिका-कनाडा सीमा पर 4 भारतीयों की मौत : विदेश मंत्री ने भारतीय राजदूतों से तत्काल कदम उठाने को कहा ◾अमर जवान ज्योति को लेकर गरमाई राजनीति, BJP ने साधा राहुल पर निशाना◾PM मोदी कल विभिन्न जिलों के DM के साथ करेंगे बातचीत , सरकारी योजनाओं का लेंगे फीडबैक ◾DELHI CORONA UPDATE: सामने आए 10756 नए केस, 38 की हुई मौत◾केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से नौसेना प्रमुख ने की मुलाकात, डीप ओशन मिशन के तौर-तरीकों पर हुई चर्चा◾गोवा: उत्पल पर्रिकर ने भाजपा छोड़ी, पणजी से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लड़ेंगे चुनाव ◾BJP ने 85 उम्‍मीदवारों की दूसरी लिस्ट जारी की, कांग्रेस छोड़कर आईं अदिति सिंह को रायबरेली से मिला टिकट◾उत्तर प्रदेश : मुख्‍यमंत्री योगी ने किया चुनावी गीत जारी, यूपी फ‍िर मांगें भाजपा सरकार◾ भारत सरकार ने पाक की नापाक साजिश को एक बार फिर किया बेनकाब, देश विरोधी कंटेंट फैलाने वाले 35 यूट्यूब चैनल किए बंद ◾भाजपा ने पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए 34 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी की ◾मणिपुर के 50 वें स्थापना दिवस पर पीएम ने दिया बयान, राज्य को भारत का खेल महाशक्ति बनाना चाहती है सरकार ◾15-18 आयु के चार करोड़ से अधिक किशोरों को मिली कोविड की पहली डोज, स्वास्थ्य मंत्रालय ने दी जानकारी ◾शाह ने साधा वाम दलों पर निशाना, कहा- कम्युनिस्टों का सियासी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ हिंसा का रहा इतिहास ◾UP चुनाव को लेकर बिहार में गरमाई सियासत, तेजस्वी शुरू करेंगे SP के समर्थन में प्रचार, BJP पर कसा तंज... ◾ कर्नाटक सरकार ने खत्म किया कोरोना का वीकेंड कर्फ्यू, लेकिन ये पाबंदी लागू ◾नेशनल वॉर मेमोरियल में जल रही लौ में मिली इंडिया गेट की अमर जवान ज्‍योति◾

दिल्ली दंगो से जुड़े पूर्व JNU छात्र उमर को कोर्ट ने FIR की कॉपी मुहैया करने का दिया आदेश

दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस को जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को उत्तर पूर्वी दिल्ली दंगों से संबंधित उस मामले की एफआईआर की प्रति सौंपने का निर्देश दिया है, जिसमें उन्हें गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही अदालत ने कहा कि कानून की स्थापित स्थिति है कि किसी भी व्यक्ति को बिना कारण बताए हिरासत में नहीं लिया जा सकता।

अदालत ने संविधान और आपराधिक कानून के प्रावधानों का उल्लेख किया और कहा कि गिरफ्तारी और हिरासत के खिलाफ सुरक्षा का मौलिक अधिकार अनुच्छेद 22 और दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 50 में वर्णित है, बशर्ते पुलिस अधिकारी द्वारा संबंधित व्यक्ति को गिरफ्तारी के लिए प्रासंगिक आधारों के बारे में सूचित किया जाए।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र खालिद को खजूरी खास इलाके में हुए दंगों से संबंधित मामले में 1 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। उससे पहले वह इस साल फरवरी में हुई सांप्रदायिक हिंसा की साजिश से जुड़े एक अन्य मामले में न्यायिक हिरासत में थे। अदालत ने पुलिस को उन्हें 1 अक्टूबर के रिमांड आवेदन और आदेश की प्रति सौंपने का भी निर्देश दिया, जिसके द्वारा उन्हें 3 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया था। इसके अलावा पुलिस हिरासत के दौरान कराई गई चिकित्सा जांच की रिपोर्ट भी देने को कहा गया है।

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पुरुषोत्तम पाठक ने कहा कि रिमांड आवेदन और रिमांड आदेश और मेडिकल रिपोर्ट में ऐसी कोई सामग्री नहीं है, जिसका खुलासा मामले की संवेदनशीलता के कारण या किसी अन्य वजह से नहीं किया जा सकता है।अदालत ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 22 (1) में यह व्यवस्था है कि कोई भी पुलिस अधिकारी किसी व्यक्ति को उसकी गिरफ्तारी का कारण बताए बिना गिरफ्तार नहीं कर सकता है। इसके साथ ही संविधान का अनुच्छेद 22 गिरफ्तारी और हिरासत के खिलाफ सुरक्षा के मौलिक अधिकार की गारंटी देता है।

अदालत ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 50 में प्रावधान है कि बिना किसी वारंट के किसी को गिरफ्तार करने के अधिकार वाला प्रत्येक पुलिस अधिकारी उस व्यक्ति को उस अपराध तथा गिरफ्तारी के लिए प्रासंगिक आधार के बारे में सूचित करेगा, जिसके लिए उसे गिरफ्तार किया जा रहा है। अदालत खालिद के वकील द्वारा दायर एक आवदेन की सुनवाई कर रही थी, जिसमें खजूरी खास हिंसा मामले से संबंधित एफआईआर, रिमांड के लिए पुलिस के आवेदन, रिमांड आदेश और मेडिकल रिपोर्ट की प्रतियां मुहैया कराने का अनुरोध किया गया है, ताकि गिरफ्तारी के आधार का पता चल सके।