BREAKING NEWS

लालू प्रसाद की बिगड़ी तबीयत पर बोले मुख्यमंत्री नीतीश- वे जल्द ठीक हों, मेरी शुभकामना उनके साथ◾असम में गरजे अमित शाह- कांग्रेस बताए इतने सालों तक रक्तरंजित क्यों रहा राज्य◾कृषि कानून को लेकर 60वें दिन आंदोलन जारी, 26 जनवरी पर ट्रैक्टर रैली की तैयारी में जुटे किसान ◾LAC विवाद : भारत और चीन के बीच कॉर्प्स कमांडर स्तर की बैठक मोल्डो में जारी ◾दिल्ली में आधी रात को लगे 'पाकिस्तान जिंदाबाद' के नारे, छह लोगों को पूछताछ के बाद छोड़ा◾गणतंत्र दिवस पर 2 बजे के बाद खुलेगी कनॉट प्लेस मार्केट, बंद रहेंगे ये 4 मेट्रो स्टेशन◾उत्तर भारत में सर्दी का सितम जारी, शीतलहर से फिर कांपेगी राजधानी दिल्ली ◾राहुल गांधी का तंज- जनता महंगाई से त्रस्त, मोदी सरकार टैक्स वसूली में मस्त◾CM उद्धव ठाकरे की साइन की हुई फाइल से छेड़छाड़, PWD इंजीनियर के खिलाफ जांच के दिए थे आदेश◾BJP सांसद साक्षी महाराज का आरोप-कांग्रेस ने कराई थी नेताजी की हत्या◾देश में कोरोना के 14849 नए मामलों की पुष्टि, पॉजिटिव केस 1 करोड़ 65 लाख के पार ◾TOP 5 NEWS 24 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 9.86 करोड़ तक पहुंचा◾ममता बनर्जी के लिये ‘जय श्री राम’ का नारा सांड को लाल कपड़ा दिखाने के समान है : अनिल विज◾ सात और राज्य अगले सप्ताह से स्वदेशी तौर पर विकसित ‘कोवैक्सीन’ टीका लगाएंगे : स्वास्थ्य मंत्रालय ◾ वायुसेना प्रमुख भदौरिया बोले- भारत पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों पर काम कर रहा है◾आज का राशिफल (24 जनवरी 2021)◾गुजरात में फरवरी में होंगे स्थानीय निकाय चुनाव ◾लालू प्रसाद यादव को दिल्ली के एम्स में भर्ती कराया गया ◾जय श्रीराम के नारों की नुसरत जहां ने की निंदा, कहा-राम का नाम गले लगाकर बोलें, गला दबाकर नहीं◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली दंगो से जुड़े पूर्व JNU छात्र उमर को कोर्ट ने FIR की कॉपी मुहैया करने का दिया आदेश

दिल्ली की एक अदालत ने पुलिस को जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर खालिद को उत्तर पूर्वी दिल्ली दंगों से संबंधित उस मामले की एफआईआर की प्रति सौंपने का निर्देश दिया है, जिसमें उन्हें गिरफ्तार किया गया है। इसके साथ ही अदालत ने कहा कि कानून की स्थापित स्थिति है कि किसी भी व्यक्ति को बिना कारण बताए हिरासत में नहीं लिया जा सकता।

अदालत ने संविधान और आपराधिक कानून के प्रावधानों का उल्लेख किया और कहा कि गिरफ्तारी और हिरासत के खिलाफ सुरक्षा का मौलिक अधिकार अनुच्छेद 22 और दंड प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) की धारा 50 में वर्णित है, बशर्ते पुलिस अधिकारी द्वारा संबंधित व्यक्ति को गिरफ्तारी के लिए प्रासंगिक आधारों के बारे में सूचित किया जाए।

जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) के पूर्व छात्र खालिद को खजूरी खास इलाके में हुए दंगों से संबंधित मामले में 1 अक्टूबर को गिरफ्तार किया गया था। उससे पहले वह इस साल फरवरी में हुई सांप्रदायिक हिंसा की साजिश से जुड़े एक अन्य मामले में न्यायिक हिरासत में थे। अदालत ने पुलिस को उन्हें 1 अक्टूबर के रिमांड आवेदन और आदेश की प्रति सौंपने का भी निर्देश दिया, जिसके द्वारा उन्हें 3 दिन की पुलिस हिरासत में भेजा गया था। इसके अलावा पुलिस हिरासत के दौरान कराई गई चिकित्सा जांच की रिपोर्ट भी देने को कहा गया है।

मुख्य मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट पुरुषोत्तम पाठक ने कहा कि रिमांड आवेदन और रिमांड आदेश और मेडिकल रिपोर्ट में ऐसी कोई सामग्री नहीं है, जिसका खुलासा मामले की संवेदनशीलता के कारण या किसी अन्य वजह से नहीं किया जा सकता है।अदालत ने कहा कि संविधान के अनुच्छेद 22 (1) में यह व्यवस्था है कि कोई भी पुलिस अधिकारी किसी व्यक्ति को उसकी गिरफ्तारी का कारण बताए बिना गिरफ्तार नहीं कर सकता है। इसके साथ ही संविधान का अनुच्छेद 22 गिरफ्तारी और हिरासत के खिलाफ सुरक्षा के मौलिक अधिकार की गारंटी देता है।

अदालत ने कहा कि दंड प्रक्रिया संहिता की धारा 50 में प्रावधान है कि बिना किसी वारंट के किसी को गिरफ्तार करने के अधिकार वाला प्रत्येक पुलिस अधिकारी उस व्यक्ति को उस अपराध तथा गिरफ्तारी के लिए प्रासंगिक आधार के बारे में सूचित करेगा, जिसके लिए उसे गिरफ्तार किया जा रहा है। अदालत खालिद के वकील द्वारा दायर एक आवदेन की सुनवाई कर रही थी, जिसमें खजूरी खास हिंसा मामले से संबंधित एफआईआर, रिमांड के लिए पुलिस के आवेदन, रिमांड आदेश और मेडिकल रिपोर्ट की प्रतियां मुहैया कराने का अनुरोध किया गया है, ताकि गिरफ्तारी के आधार का पता चल सके।