BREAKING NEWS

भाजपा सरकार ने पूर्वोत्तर और बंगाल के बाद दिल्ली को भी जलने के लिए छोड़ दिया है : कांग्रेस◾उद्धव ने भाजपा पर निशाना साधने के लिए पीएम मोदी की चायवाले की पृष्ठभूमि याद दिलाई ◾जामिया नगर में हिंसक झड़पें, तनाव बरकरार◾हेटमेयर और होप के शतक, वेस्टइंडीज की दमदार जीत ◾दिल्ली पुलिस मुख्यालय के बाहर प्रदर्शन◾केजरीवाल ने LG से बात की, शांति बहाल करने के लिए हरसंभव कदम उठाने का किया अनुरोध◾ग्रेटर नोएडा में बिरयानी विक्रेता की पिटाई, सभी आरोपी गिरफ्तार ◾नागरिकता कानून का विरोध : दिल्ली में आगजनी, हिंसा : पुलिसकर्मी जख्मी, बसों में आग लगाई◾केजरीवाल ने नागरिकता अधिनियम पर शांति की अपील की ◾TOP 20 NEWS 15 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾गुवाहाटी में पुलिस गोलीबारी में घायल हुए 2 और लोगों की हुई मौत, अब तक 4 की गई जान◾नागपुर में बोले फडणवीस- सावरकर पर टिप्पणी के लिए माफी मांगें राहुल गांधी◾कांग्रेस ने नागरिकता कानून को लेकर बवाल खड़ा किया : PM मोदी◾महाराष्ट्र: प्रदर्शन के बाद PMC के जमाकर्ता हिरासत में, CM उद्घव ने मदद का दिलाया भरोसा◾नागरिकता कानून वापस लेने के लिए याचिका दायर करेगी BJP की सहयोगी असम गण परिषद◾वीर सावरकर पर बयान देकर मुश्किल में फंसे राहुल, पोते रंजीत ने की कार्रवाई की मांग◾सावरकर वाले बयान पर कांग्रेस पर हमलावर हुई मायावती, कहा- अब भी शिवसेना के साथ क्यों, यह आपका दोहरा चरित्र नहीं?◾नेपाल के सिंधुपलचौक में यात्रियों से भरी बस दुर्घटनाग्रस्त, 14 लोगों की दर्दनाक मौत◾भारतीय मुसलमान घुसपैठिए और शरणार्थी नहीं, डरना नहीं चाहिए : रिजवी◾निर्भया के दोषियों को फांसी देना चाहती हैं इंटरनेशनल शूटर वर्तिका, अमित शाह को खून से लिखा खत ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

अदालत का सेंट स्टीफंस में प्रवेश साक्षात्कार पर रोक की मांग वाली याचिका पर तत्काल सुनवाई से इंकार

 933

दिल्ली उच्च न्यायालय ने बुधवार को उस याचिका पर तत्काल सुनवाई से इंकार कर दिया जिसमें दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफंस कॉलेज के ईसाई छात्रों के दाखिले के लिये साक्षात्कार प्रक्रिया पर अंतरिम रोक की मांग की गई है। 

न्यायमूर्ति ज्योति सिंह और न्यायमूर्ति मनोज ओहरी की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि मामला दो जुलाई को एकल न्यायाधीश के सामने पहले से ही सूचीबद्ध है और इसलिए इस पर तत्काल सुनवाई की कोई जरूरत नहीं है। 

पीठ के नजरिये को देखते हुए याचिकाकर्ता एन पी एश्ले ने याचिका वापस ले ली। इस याचिका में एकल न्यायाधीश के साक्षात्कार प्रक्रिया में हस्तक्षेप नहीं करने के 12 जून के फैसले को चुनौती दी गई है। एश्ले शिक्षक और कॉलेज की संचालन समिति के सदस्य हैं।

 

एश्ले के वकील सुनील मैथ्यूज ने तत्काल सुनवाई की मांग की थी क्योंकि दाखिले के लिये साक्षात्कार 28 जून से शुरू होने हैं। हालांकि, पीठ ने इस पर तत्काल सुनवाई से इंकार किया। 

यह मामला ईसाई छात्रों के चयन के लिए साक्षात्कार समिति में संस्थान की सर्वोच्च परिषद के एक सदस्य को शामिल करने के खिलाफ कॉलेज के तीन शिक्षकों द्वारा दायर याचिका से जुड़ा है।