BREAKING NEWS

पेट्रोल-डीजल के बढ़ते दामों के खिलाफ CM ममता का अनूठा विरोध, ई-स्कूटर पर बैठकर पहुंचीं सचिवालय◾महाराष्ट्र में बेकाबू हुआ कोविड-19, एक हॉस्टल में 229 छात्र कोरोना से संक्रमित पाए गए ◾BJP अध्यक्ष नड्डा ने लॉन्च किया 'सोनार बांग्ला' कैंपेन, 2 करोड़ लोगों से संपर्क साधेगी पार्टी◾पुडुचेरी में विधानसभा चुनाव से पहले PM मोदी ने लोगों को दी विभिन्न विकास परियोजनाओं की सौगात ◾आम आदमी पर महंगाई की मार, 1 महीने में तीसरी बार LPG सिलेंडर के दामों में हुआ इजाफा ◾टूलकिट मामला : शांतनु मुलुक की गिरफ्तारी पर नौ मार्च तक लगी रोक◾Coronavirus : देश में 1 महीने बाद दर्ज हुए 15 हजार से ज्यादा नए केस, 138 मरीजों ने गंवाई जान◾ट्रेन यात्रियों को लगा झटका, रेलवे ने अनावश्यक यात्राओं में कमी लाने के लिए किराए में वृद्धि की◾दिल्ली में बीते 15 साल में सबसे गर्म दिन रहा बुधवार, अधिकतम तापमान 32.5 डिग्री सेल्सियस रहा ◾असदुद्दीनद्दीन ओवैसी की कोलकाता में होने वाली रैली के लिए पुलिस ने इजाजत देने से किया इनकार ◾TOP - 5 NEWS 25 FEBRUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾किसान प्रदर्शन के 3 महीने पूरे होने पर 26 फरवरी को कृषि मंत्रालय का करेंगे घेराव : कांग्रेस ◾कांग्रेस ने हमेशा मतदाताओं और चयन की उनकी आजादी का सम्मान किया : कपिल सिब्बल ◾निजीकरण के लिए प्रतिबद्ध है केंद्र, व्यवसाय करना सरकार का काम नहीं : PM मोदी ◾आज का राशिफल (25 फरवरी 2021)◾1 मार्च से 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को लगेगा टीका , जानें ! क्या हैं नए नियम ◾ममता ने PM मोदी को खत लिख सबके लिए टीके खरीदने में मदद मांगी ◾सिर्फ मोटेरा स्टेडियम का नामकरण मोदी पर हुआ, परिसर पटेल के ही नाम पर रहेगा : सरकार ◾मोटेरा स्टेडियम का नाम PM मोदी के नाम पर रखना उनकी दूरदृष्टि को सम्मान देने का प्रयास : जे पी नड्डा ◾CM योगी आदित्यनाथ से नीति आयोग के उपाध्यक्ष ने मुलाकात की ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कोरोना वैक्सीन : राजधानी दिल्ली के 6 सरकारी अस्पतालों में पहुंचा कोवैक्सीन का टीका

दिल्ली सरकार ने राष्ट्रीय राजधानी में कोरोना वायरस के खिलाफ बड़े पैमाने पर टीकाकरण अभियान शुरू करने के लिए अंतिम रूप से 81 अस्पतालों में स्टॉक किए गए 2 कोविड-19 टीके की खेप को 6 सरकारी अस्पतालों में भेजा है। हालांकि, वितरण पैटर्न ने कई लोगों की नाराजगी बढ़ा दी है, भारत बायोटेक का कोवैक्सीन अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) सफदरजंग और राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) सहित केवल 6 केंद्र संचालित अस्पतालों में आवंटित किया गया है। दिल्ली सरकार द्वारा आवंटित टीकों के साथ अस्पतालों की एक सूची से इस बात का खुलासा हुआ है।

इस बीच, 75 अस्पताल जिनमें राज्य-संचालित और निजी अस्पताल शामिल हैं, को सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (एसआईआई) के साथ ऑक्सफोर्ड/एस्ट्राजेनेका द्वारा विकसित कोविशील्ड मिलेगा, जो देश में अपने विपणन और उत्पादन को संभाल रहा है। हालांकि, वैक्सीन के वितरण पैटर्न के पीछे दिल्ली सरकार द्वारा कोई आधिकारिक स्पष्टीकरण या कारण प्रस्तुत नहीं किया गया है, लेकिन राज्य के स्वास्थ्य विभाग के एक शीर्ष अधिकारी ने बताया कि यह केंद्र के निर्देश पर किया गया।

अधिकारी ने कहा वैक्सीन और इसकी खुराक केंद्र सरकार के विशेष निर्देशों के अनुसार आवंटित की गई है। हालांकि, इस कदम से विवाद की आशंका है क्योंकि स्वास्थ्य कर्मियों के पास पहले से ही भारत बायोटेक की कोवैक्सीन को लेकर आशंका है जिसे तीसरे चरण के ट्रायल की प्रभावकारिता की डेटा प्रस्तुत किए बिना भारत के ड्रग रेगुलेटर द्वारा आपातकालीन उपयोग के लिए अनुमोदन मिला। 

कई स्वास्थ्य कर्मियों ने बताया कि उन्होंने कोवैक्सीन के प्रति अपनी आशंकाओं को प्रकट किया। केंद्र संचालित लेडी हार्डिग मेडिकल कॉलेज (एलएचएमसी) के एक ईएनटी विशेषज्ञ ने कहा, मैं टीका लगवाने के लिए तैयार हूं लेकिन कोवैक्सीन नही लगवाऊंगा। एलएचएमसी के स्वास्थ्यकर्मियों को कोवैक्सीन दी जाएगी क्योंकि इसके संबद्ध अस्पताल कलावती सरन को 6 केंद्र संचालित अस्पतालों में सूचीबद्ध किया गया है जो भारत बायोटेक का टीका प्राप्त करेंगे।

सफदरजंग के कम्युनिटी मेडिसिन विभाग के प्रोफेसर और प्रमुख जुगल किशोर ने कहा कि किसी भी विवाद से बचने के लिए सभी केंद्रों पर एक वैक्सीन कैंडीडेट उपलब्ध कराया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, बेहतर होता कि सरकार सभी केंद्रों पर एक वैक्सीन कैंडीडेट उपलब्ध कराती ताकि लोगों के मन में कोई भ्रम न पैदा हो। कोवैक्सीन विवादों में रहा है क्योंकि केंद्रीय औषधि मानक नियंत्रण संगठन (सीडीएससीओ) की विषय विशेषज्ञ समिति द्वारा प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग के लिए सिफारिश की गई थी। बाद में, इसे कोविड टीकाकरण कार्यक्रम में रोल-आउट के लिए 3 जनवरी को मंजूरी दी गई।