BREAKING NEWS

दिल्ली हिंसा में शामिल 106 लोग गिरफ्तार सहित 18 एफआईआर दर्ज, दिल्ली पुलिस ने जारी किए हेल्पलाइन नंबर◾मुख्यमंत्री केजरीवाल ने किया हिंसाग्रस्त उत्तर-पूर्वी दिल्ली का दौरा ◾अपने दौरे के बाद एनएसए डोभाल ने गृह मंत्री अमित शाह को उत्तर पूर्वी दिल्ली में मौजूदा हालात की जानकारी दी◾एनएसए डोभाल ने किया दंगा प्रभावित क्षेत्रों का दौरा, बोले- उत्तर पूर्वी दिल्ली में हालात नियंत्रण में ◾TOP 20 NEWS 26 February : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾शहीद हेड कांस्टेबल रतन लाल के परिवार को 1 करोड़ और एक सदस्य नौकरी देंगे - अरविंद केजरीवाल ◾दिल्ली HC ने पुलिस को भड़काऊ बयान देने वाले BJP नेताओं पर FIR करने की दी सलाह◾दिल्ली हिंसा में मरने वालों का आंकड़ा बढ़कर हुआ 22, संवेदनशील इलाकों में भारी सुरक्षा बल तैनात◾दिल्ली हिंसा : IB अफसर अंकित शर्मा का मिला शव, हिंसा ग्रस्त इलाको में जारी है तनाव ◾हिंसा पर दिल्ली हाई कोर्ट सख्त, कहा-देश में एक और 1984 नहीं होने देंगे◾दिल्ली हिंसा पर PM मोदी की लोगों से अपील, ट्वीट कर लिखा-जल्द से जल्द बहाल हो सामान्य स्थिति◾दिल्ली हिंसा : हाई कोर्ट ने कपिल मिश्रा का वीडियो क्लिप देख कर पुलिस को लगाई कड़ी फटकार ◾सीएए हिंसा पर प्रियंका गांधी ने लोगों से की अपील, बोली- हिंसा न करें, सावधानी बरतें ◾सोनिया गांधी ने दिल्ली हिंसा को बताया सुनियोजित, गृहमंत्री से की इस्तीफे की मांग◾दिल्ली हिंसा : हेड कांस्टेबल रतनलाल को दिया गया शहीद का दर्जा, पत्नी को नौकरी के साथ मिलेंगे 1 करोड़ ◾सुप्रीम कोर्ट ने सीएए हिंसा को बताया दुर्भाग्यपूर्ण, याचिकाओं पर सुनवाई से किया इनकार ◾दिल्ली में हुई हिंसा के बाद यूपी में हाई अलर्ट, संवेदनशील जिलों में पुलिस बलों के साथ पीएसी तैनात ◾राजस्थान के बूंदी में नदी में बस गिरने से 24 लोगों की मौत, मृतकों में 3 बच्चे शामिल◾दिल्ली के तनावपूर्ण इलाके छावनी में तब्दील, सुरक्षा बलों के फ्लैगमार्च के साथ स्पेशल सीपी ने किया दौरा◾शाहीन बाग मुद्दे को लेकर 23 अप्रैल को सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾

घर में सिलेंडर ब्लास्ट, दो महिलाओं के उड़े परखच्चे

पूर्वी दिल्ली : नॉर्थ-ईस्ट डिस्ट्रिक्ट के करावल नगर इलाके में दशहरे के दिन सुबह एक घर में दर्दनाक हादसा हुआ। दरअसल वहां एलपीजी सिलेंडर में पहले रिसाव होने से आग लगी फिर एक के बाद एक दो सिलेंडर ब्लास्ट हो गए। इस हादसे में दो महिलाओं के शरीर के परखच्चे उड़ गए, जबकि एक युवक गंभीर रूप से झुलस गया। मृतक महिलाओं की पहचान रामश्री देवी (62) और उनकी बेटी हेमलता (38) के तौर पर हुई है। वहीं घायल मैकेनिक राजेश (42) सफदरजंग अस्पताल में उपचार जारी है। 

जांच में पता चला है कि हेमलता के घर के एलपीजी सिलेंडर से गैस रिसाव हो रहा था। हेमलता ने उसे ठीक करने के लिए मैकेनिक राजेश को बुलाया था। रिसाव को ठीक करने के दौरान हादसा हुआ। पुलिस ने शवों को पोस्टमार्टम मोर्चरी भेज दिया है। पुलिस केस दर्ज कर मामले की छानबीन कर रही है। पुलिस के मुताबिक, हेमलता परिवार सहित न्यू सभापुर, करावल नगर में रहती थी। करीब आठ वर्ष पूर्व इसके पति प्रवीन की मौत हो गई थी। हेमलता की एक बेटी कशिश (12) और बेटा अरुण (18) है। घर से कुछ दूर हेमलता का मायका है। 

वहां उसके पिता इंद्रपाल, मां रामश्री और भाई व बहन रहते हैं। मंगलवार को त्योहार होने के कारण हेमलता की मां रामश्री उसके घर प्रसाद लेकर आई थी। हेमलता भी रसोई में मां के लिए चाय बनाने लगी तो घर रसोई में रखे एलपीजी सिलेंडर से रिसाव होने लगा। हेमलता ने पास से ही राजेश को उसे ठीक करने को बुला लिया। रिसाव ठीक करने के दौरान अचानक सिलेंडर में आग लग गई। रसोई में उस समय मां-बेटी के अलावा राजेश भी था। 

इसी दौरान सिलेंडर फट गया। रसोई में रखा एक और सिलेंडर भी फट गया। हेमलता और रामश्री के परखच्चे उड़ गए। वहीं राजेश बुरी तरह झुलस गया। हादसे के समय हेमलता की बेटी अपनी मौसी सरिता के घर मंडोली गई हुई थी, जबकि बेटा अरुण अपने काम पर गया हुआ था। हेमलता भी मजदूरी करती थी। मंगलवार को दशहरा होने के कारण उसकी छुट्टी थी।

दमकल विभाग व एंबुलेंस पर देर से आने का आरोप

मंगलवार सुबह करीब सवा दस पर मामले की सूचना पुलिस को दी गई। पुलिस, दमकल व कैट्स एंबुलेंस ने तीनों को उपचार के लिए अस्पताल पहुंचाया। हालांकि स्थानीय लोगों व परिजनों का आरोप है कि दमकल विभाग और एंबुलेंस की गाड़ियों पर देर से पहुंचने का आरोप लगाया है। लोगों ने शुरुआत में खुद ही आग पर काबू पाने की कोशिश की। लेकिन बाद में मौके पर पहुंची दमकल की दो गाड़ियों ने आग पर काबू पाया। दमकल के अधिकारी गाड़ियों के देर से पहुंचने की बात से इंकार किया है।

बेटी के घर प्रसाद देने गई थी मां

बताया गया है कि मंगलवार को रामश्री के घर पर पूजा थी। वह पूजा का प्रसाद देने ही बेटी के घर गई थीं। वहीं हेमलता भी शाम के समय दशहरा में मेला जाने की तैयारी कर रही थी। हादसे की सूचना मिलते ही पूरा परिवार मौके पर पहुंच गया। मां-बेटी की मौत से पूरे परिवार में मातम का माहौल है। 

परिजनों का कहना है कि हेमलता ने शादी के बाद से ही काफी दुख झेला था। करीब आठ साल पूर्व जब उसके पति प्रवीन की मौत हुई तो उसके बच्चे छोटे थे। हेमलता ने हिम्मत नही हारी और मजदूरी कर अपने बच्चों को पालना और पढ़ाना शुरू कर दिया। खुद हेमलता डीएलएफ में एक जींस फैक्टरी में मजदूरी करती थी।