BREAKING NEWS

ड्रग्स केस: गोवा से मुंबई पहुंचीं दीपिका पादुकोण, शनिवार को NCB करेगी पूछताछ◾ KXIP vs RCB IPL 2020 : पंजाब ने बैंगलोर को दिया 207 रनों का टारगेट, केएल राहुल ने जड़ा शतक◾महाराष्ट्र में कोरोना के 19164 नए केस, 17185 मरीज हुए ठीक◾जाप ने जारी किया चुनावी घोषणा पत्र, बेरोजगारों को रोजगार देने का किया वादा ◾COVID-19 से संक्रमित मनीष सिसोदिया डेंगू से भी पीड़ित हुए, लगातार गिर रही है ब्लड प्लेटलेट्स◾कृषि और श्रम कानून को लेकर राकांपा का केंद्र पर तंज, कहा- ईस्ट इंडिया कंपनी स्थापित कर रही है सरकार ◾महिला अपराध पर सीएम योगी सख्त, छेड़खानी और बलात्कारियों के पोस्टर लगाने का दिया आदेश ◾कांग्रेस का बड़ा आरोप - केंद्र सरकार ने कृषि विधेयकों के जरिए नयी जमींदारी प्रथा का उद्घाटन किया◾IPL 2020 KXIP vs RCB: रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का किया फैसला◾कृषि बिल के विरोध पर बोले केंद्रीय मंत्री तोमर, कांग्रेस पहले अपने घोषणापत्र से मुकरने की करे घोषणा◾महीनों के लॉकडाउन के बाद भी नहीं थम रहा है कोरोना, जानिये भारत क्यों चुका रहा है भारी कीमत◾केंद्रीय मंत्री जावड़ेकर ने कहा- विपक्षी दलों की राजनीति हो गई है दिशाहीन ◾ICU में भर्ती डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया की हालत स्थिर, अगले कुछ दिनों में फिर होगा कोरोना टेस्ट ◾रेलवे ने जताई चिंता - 'रेल रोको आंदोलन' से जरूरी सामानों और राशन की आवाजाही पर पड़ेगा असर ◾महाराष्ट्र : एकनाथ शिंदे भी कोरोना वायरस से संक्रमित, संपर्क में आए लोगों से जांच करवाने की अपील की ◾कांग्रेस ने अमित शाह की रैली को बताया जनता का अपमान, कोरोना संकट में धनबल की राजनीति का लगाया आरोप◾Fit India Movement के एक वर्ष पूरा होने पर बोले PM मोदी-जितना फिट होगा इंडिया, उतना हिट होगा इंडिया◾कैग की रिपोर्ट में खुलासा: दिल्ली में लगे 44% CCTV कैमरे खराब, 20 साल पुरानी तकनीक के भरोसे पुलिस◾ श्रम कानून : राहुल गांधी ने सरकार पर साधा निशाना, बोले-किसानों के बाद मजदूरों पर किया वार ◾लफ्फाजी का लॉलीपॉप हो गए हैं राहुल गांधी : मुख्तार अब्बास नकवी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली के 12 अस्पतालों को बंद करने का फरमान

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमिटी (डीपीसीसी) ने दिल्ली के 12 अस्पतालों को बंद करने का नोटिस भेजा है। इन सभी अस्पतालों को सात दिन का समय दिया गया है। डीपीसीसी ने कहा गया है कि दी गई समय सीमा के भीतर इन अस्पतालों को अपने यहां भर्ती मरीजों से अस्पताल खाली करवाना होगा। डीपीसीसी ने यह आदेश बायो मेडिकल वेस्ट यानी जैव चिकित्सा अपशिष्ट का ट्रीटमेंट यानि निष्पादन नहीं किए जाने की वजह से दिया है। 

डीपीसीसी ने कहा कि बायो मेडिकल वेस्ट का ट्रीटमेंट नहीं किया जाना स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी समस्याओं को जन्म देता है। नोटिस में आगे कहा गया कि वेस्ट मैनेजमेंट नियम 2016 के मुताबिक स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को डीपीसीसी से इस वेस्ट के ट्रीटमेंट के अनुमति लेनी होती है। इसमें यह भी कहा गया है कि बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न कर रहे स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को कॉमन बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी (सीबीडब्ल्यूटीएफ) के साथ अनुबंध नहीं करना होता है। 

जो स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न नहीं कर रहे होते। उन्हें एक एफेडेविट देना होता है ताकि उन्हें ऑटो जेनेरेटेड अनुमित दी जा सके। डीपीसीसी का दावा है कि फरवरी 2019 से विभिन्न के प्रयासों से स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को बायो मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी (सीबीडब्ल्यूटीएफ) और इससे जुड़ी अनुमति के बारे में अवगत कराने के प्रयास किए हैं। डीपीसीसी अब अनुमति नहीं लेने वालों को खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। 

इस कार्रवाई के तहत बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न कर रहे। स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों के खिलाफ कदम उठाए जा रहे हैं लेकिन ऐसे केंद्रों में मरीजों के लिए बिस्तर होते हैं। कई बार इनमें भर्ती मरीजो की हालत गंभीर होती है और इसकी वजह से इन केंद्रों के खिलाफ सतर्कता के साथ कदम उठाए जा रहे हैं। 

इन केन्द्रों को खुद डीपीसीसी जाकर नोटिस दे रहा है ताकि उनके द्वारा ली गई अनुमति की ताजा स्थिति को जाना जा सके और ऐसे केन्द्रों के खिलाफ कार्रवाई न हो जिनके पास किसी भी तरह की अनुमति है। उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने का हर्जाना भी लगाया जाएगा।

प्रदूषण फैलाने वाली 13 फैक्ट्री की गई सील

उत्तरी दिल्ली के जिंदपुर और मुखमेलपुर गांव में नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए प्रदूषण फैलाने वाली 13 फैक्ट्रियों पर डीपीसीसी और एसडीएम ने सीलिंग की कार्रवाई की है। एनजीटी के आदेश पर डीपीसीसी और एसडीएम ने मौके का निरीक्षण कर इनपर न सिर्फ सीलिंग की कार्रवाई की, बल्कि उक्त फैक्ट्रियों पर 11.42 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है। 

वहीं इस दौरान डीपीसीसी ने बोरवेल पर सीलिंग और बिजली के कनेक्शन को काट दिया है कि ताकि दोबारा से इन फैक्ट्रियों में काम चालू न किया जा सके। बता दें कि, एनजीटी के पास पिछले कई दिनों से उत्तरी दिल्ली के अलीपुर डिवीजन स्थित जिंदपुर और मुखमेलपुर में अवैध फैक्ट्रियां संचालित करते हुए प्रदूषण फैलाने की शिकायत मिली थी। शिकायत मिलने के बाद एनजीटी ने डीपीसीसी और अलीपुर डिवीजन के एसडीएम को मौके का निरीक्षण कर कार्रवाई के आदेश दिए थे। 

आदेश मिलने के बाद शुक्रवार को डीपीसीसी और एसडीएम की टीम जब उक्त दोनों गांव पहुंची तो पाया कि 13 फैक्ट्रियां बगैर अनुमति के संचालित की जा रही हैं और इनमें डायनिंग, मनुफैक्चिरिंग सहित कई काम ऐसे किए जा रहे हैं। जोकि पर्यावरण को दोषित करने में सबसे ज्यादा सहयोगी साबित होते हैं। टीम ने तत्काल ही इन फैक्ट्रियों पर सीलिंग की कार्रवाई की और 11.42 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया।