BREAKING NEWS

राज्यसभा में पूर्वोत्तर की सभी पार्टियों ने नागरिकता विधेयक के पक्ष में वोट किया : गोयल ◾येचुरी ने सरकार पर लगाया आरोप कहा- भाजपा CAB के जरिए द्विराष्ट्र के सिद्धांत को फिर से जिंदा करने की कोशिश कर रही है ◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ जारी प्रदर्शनों के बीच मुख्यमंत्री के घर पर किया गया पथराव ◾नागरिकता संशोधन विधेयक को निकट भविष्य में अदालत में चुनौती दी जाएगी : सिंघवी ◾नागरिकता विधेयक को संसद की मंजूरी मिलने पर भाजपा ने खुशी जताई ◾सुप्रीम कोर्ट में खारिज हो जाएगा CAB : चिदंबरम ◾नागरिकता विधेयक पारित होना संवैधानिक इतिहास का काला दिन : सोनिया गांधी◾मोदी सरकार की बड़ी जीत, नागरिकता संशोधन बिल राज्यसभा में हुआ पास◾ राज्यसभा में अमित शाह बोले- CAB मुसलमानों को नुकसान पहुंचाने वाला नहीं◾कांग्रेस का दावा- ‘भारत बचाओ रैली’ मोदी सरकार के अस्त की शुरुआत ◾राज्यसभा में शिवसेना का भाजपा पर कटाक्ष, कहा- आप जिस स्कूल में पढ़ रहे हो, हम वहां के हेडमास्टर हैं◾CM उद्धव ठाकरे बोले- महाराष्ट्र को GST मुआवजा सहित कुल 15,558 करोड़ रुपये का बकाया जल्द जारी करे केन्द्र◾TOP 20 NEWS 11 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾कपिल सिब्बल ने राज्यसभा में कहा- विभाजन के लिए कांग्रेस को जिम्मेदार बताने पर माफी मांगें अमित शाह◾नागरिकता विधेयक के खिलाफ असम में भड़की हिंसा, पुलिस ने चलाई रबड़ की गोलियां◾चिदंबरम ने CAB को बताया 'हिन्दुत्व का एजेंडा', कानूनी परीक्षण में नहीं टिकने का जताया भरोसा◾इसरो ने किया डिफेंस सैटेलाइट रीसैट-2BR1 लॉन्च, सेना की बढ़ेगी ताकत ◾हैदराबाद एनकाउंटर: सुप्रीम कोर्ट ने जांच के लिए पूर्व न्यायाधीश को नियुक्त करने का रखा प्रस्ताव ◾पाकिस्तान : हाफिज सईद के खिलाफ आतंकवाद वित्तपोषण के आरोप तय◾मनमोहन सिंह की सलाह पर लाया गया है नागरिकता संशोधन विधेयक : भाजपा◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली के 12 अस्पतालों को बंद करने का फरमान

 hospital waste

नई दिल्ली : दिल्ली प्रदूषण कंट्रोल कमिटी (डीपीसीसी) ने दिल्ली के 12 अस्पतालों को बंद करने का नोटिस भेजा है। इन सभी अस्पतालों को सात दिन का समय दिया गया है। डीपीसीसी ने कहा गया है कि दी गई समय सीमा के भीतर इन अस्पतालों को अपने यहां भर्ती मरीजों से अस्पताल खाली करवाना होगा। डीपीसीसी ने यह आदेश बायो मेडिकल वेस्ट यानी जैव चिकित्सा अपशिष्ट का ट्रीटमेंट यानि निष्पादन नहीं किए जाने की वजह से दिया है। 

डीपीसीसी ने कहा कि बायो मेडिकल वेस्ट का ट्रीटमेंट नहीं किया जाना स्वास्थ्य से जुड़ी बड़ी समस्याओं को जन्म देता है। नोटिस में आगे कहा गया कि वेस्ट मैनेजमेंट नियम 2016 के मुताबिक स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को डीपीसीसी से इस वेस्ट के ट्रीटमेंट के अनुमति लेनी होती है। इसमें यह भी कहा गया है कि बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न कर रहे स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को कॉमन बायोमेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी (सीबीडब्ल्यूटीएफ) के साथ अनुबंध नहीं करना होता है। 

जो स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न नहीं कर रहे होते। उन्हें एक एफेडेविट देना होता है ताकि उन्हें ऑटो जेनेरेटेड अनुमित दी जा सके। डीपीसीसी का दावा है कि फरवरी 2019 से विभिन्न के प्रयासों से स्वास्थ्य सुविधा केन्द्रों को बायो मेडिकल वेस्ट ट्रीटमेंट फैसिलिटी (सीबीडब्ल्यूटीएफ) और इससे जुड़ी अनुमति के बारे में अवगत कराने के प्रयास किए हैं। डीपीसीसी अब अनुमति नहीं लेने वालों को खिलाफ कार्रवाई कर रहा है। 

इस कार्रवाई के तहत बायो मेडिकल वेस्ट उत्पन्न कर रहे। स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों के खिलाफ कदम उठाए जा रहे हैं लेकिन ऐसे केंद्रों में मरीजों के लिए बिस्तर होते हैं। कई बार इनमें भर्ती मरीजो की हालत गंभीर होती है और इसकी वजह से इन केंद्रों के खिलाफ सतर्कता के साथ कदम उठाए जा रहे हैं। 

इन केन्द्रों को खुद डीपीसीसी जाकर नोटिस दे रहा है ताकि उनके द्वारा ली गई अनुमति की ताजा स्थिति को जाना जा सके और ऐसे केन्द्रों के खिलाफ कार्रवाई न हो जिनके पास किसी भी तरह की अनुमति है। उल्लंघन करने वालों के खिलाफ पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने का हर्जाना भी लगाया जाएगा।

प्रदूषण फैलाने वाली 13 फैक्ट्री की गई सील

उत्तरी दिल्ली के जिंदपुर और मुखमेलपुर गांव में नियमों की धज्जियां उड़ाते हुए प्रदूषण फैलाने वाली 13 फैक्ट्रियों पर डीपीसीसी और एसडीएम ने सीलिंग की कार्रवाई की है। एनजीटी के आदेश पर डीपीसीसी और एसडीएम ने मौके का निरीक्षण कर इनपर न सिर्फ सीलिंग की कार्रवाई की, बल्कि उक्त फैक्ट्रियों पर 11.42 करोड़ रुपए का जुर्माना भी लगाया है। 

वहीं इस दौरान डीपीसीसी ने बोरवेल पर सीलिंग और बिजली के कनेक्शन को काट दिया है कि ताकि दोबारा से इन फैक्ट्रियों में काम चालू न किया जा सके। बता दें कि, एनजीटी के पास पिछले कई दिनों से उत्तरी दिल्ली के अलीपुर डिवीजन स्थित जिंदपुर और मुखमेलपुर में अवैध फैक्ट्रियां संचालित करते हुए प्रदूषण फैलाने की शिकायत मिली थी। शिकायत मिलने के बाद एनजीटी ने डीपीसीसी और अलीपुर डिवीजन के एसडीएम को मौके का निरीक्षण कर कार्रवाई के आदेश दिए थे। 

आदेश मिलने के बाद शुक्रवार को डीपीसीसी और एसडीएम की टीम जब उक्त दोनों गांव पहुंची तो पाया कि 13 फैक्ट्रियां बगैर अनुमति के संचालित की जा रही हैं और इनमें डायनिंग, मनुफैक्चिरिंग सहित कई काम ऐसे किए जा रहे हैं। जोकि पर्यावरण को दोषित करने में सबसे ज्यादा सहयोगी साबित होते हैं। टीम ने तत्काल ही इन फैक्ट्रियों पर सीलिंग की कार्रवाई की और 11.42 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया।