BREAKING NEWS

दक्षिण भारत में अपना प्रचार करने के दौरान बोले थरूर - कांग्रेस को युवाओं की पार्टी बनाना मकसद ◾66 बच्चों की मौत के बाद सिरफ के खिलाफ चलाया गया वापस लेने का अभियान◾कौन हिंदू बिना मूंछ दाढ़ी रखता हैं, रामायण के इस्लामीकरण पर 'आदिपुरूष' डायरेक्टर को लीगल नोटिस ◾एनी एरनॉक्स ने जीता नोबेल पुरस्कार, बाधाओं को उजागर करने वाली लेखनी के लिए दिया गया पुरस्कार◾कोर्ट से जमानत लेकर फरार हुआ यूटयूबर बॉबी कटारिया, हाथ पर हाथ धरी रह गई उत्तराखंड पुलिस की तैयारी◾बाजवा के बाद पाक सेना का जनरल कौन ? सेना को लेकर इमरान पर बरसे ख्वाजा आसिफ ◾उत्तराखंड हिमस्खलन त्रासदी : खराब मौसम के चलते रेस्क्यू ऑपरेशन में देरी, 9 लाश बरामद, बाकी की तलाश जारी ◾सचिन पायलट की खामोशी ने बढ़ाया सियासी सस्पेंस, किसके 'हाथ' है राजस्थान?◾TRS में टूट की अटकलें ? राष्ट्रीय पार्टी की घोषणा कार्यक्रम में नहीं पहुंची बेटी के कविता, सियासी हलचल तेज ◾Mexico News : मेक्सिको के सिटी हॉल में अंधाधुंध फायरिंग, मेयर समेत 18 की मौत◾शिवसेना सिंबल पर चुनाव आयोग का फैसला जल्द, शिंदे गुट की टिकी निगाह ◾मोहन भागवत के बयान पर भड़के लालू , कहा - सज्जन बिन मांगा ज्ञान बांटने चले आते है ◾बिहार उपचुनाव : दोनों सीटों पर महिलांए तय करेंगी भाजपा का भविष्य, जेडीयू ने अनंत सिंह की पत्नी पर खेला दांव ◾Mulayam Singh Health Update : हालत में बही भी कोई सुधार नहीं, CRRPT सपोर्ट पर रखा ◾नागपुर में संघ के हेडक्वार्टर को घेरने की कोशिश, ईलाके में धारा144 लागू, ◾थाईलैंड : चाइल्ड सेंटर में सामूहिक गोलीबारी, 32 लोगों की मौत, मृतकों में 22 बच्चे शामिल◾छत्तीसगढ़ : बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने की तीन साधुओं की बेरहमी से पिटाई◾महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की रैली के आगे फीकी पड़ी उद्धव ठाकरे की दशहरा रैली ◾उत्तर प्रदेश : मैनपुरी में B.SC छात्रा की रेप के बाद हुई हत्या, बहन ने कहा-गला घोंटाकर मारा गया ◾लालू प्रसाद यादव को बड़ा झटका, RJD प्रदेश अध्यक्ष के पद से जगदानंद सिंह दे सकते हैं इस्तीफा ◾

दिल्लीः कोरोना के मामलों में वृद्धि के बीच अस्पतालों में दो गुना बढ़ी मरीजों की संख्या, जानिए कितने बचे हैं बैड

राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामलों में वृद्धि के बीच अस्पतालों में भर्ती किए जाने वाले मरीजों की संख्या में करीब दो गुना इजाफा देखने को मिला है। इस बात पर अधिकारियों ने कहा है कि इनमें अन्य बीमारियों से ग्रस्त लोग भी भर्ती किए जा रहे हैं। वैसे तो कोविड-19 संक्रमण में वृद्धि एवं अस्पतालों में रोगियों की भर्ती की संख्या डरावनी स्थिति में नहीं है लेकिन विशेषज्ञों ने मास्क लगाने तथा कोविड-उपयुक्त अन्य व्यवहार के पालन की आवश्यकता एक बार फिर जरूरी बताई है। 

जानिए कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के बैड का हाल 

दिल्ली में कोरोना वायरस मरीजों के लिए उपलब्ध 9,405 बिस्तरों में एक अगस्त को 307 (यानी 3.26 प्रतिशत) भरे थे। वहीं, दो अगस्त को यह बढ़कर 3.75 प्रतिशत और उसके अगले दिन चार फीसदी हो गई। उसके बाद अधिकतर दिन यह आंकड़ा बढ़ता ही रहा और 16 अगस्त को 6.24 प्रतिशत पर पहुंच गया। छह अगस्त को अस्पतालों में पांच प्रतिशत तथा 11 अगस्त को 5.97 प्रतिशत कोविड-19 बिस्तर भरे थे। बारह अगस्त को यह आंकड़ा 6.13 प्रतिशत था जो अगले दिन आंशिक रूप से घटकर 5.99 प्रतिशत हुआ। 14 अगस्त को यह 6.21 प्रतिशत पर पहुंच गया तथा 15 अगस्त को 6.31 प्रतिशत रहा।

अस्पतालों में भर्ती मरीजों में बड़ा इजाफ़ा 

शालीमार बाग स्थित फोर्टिस अस्पताल के निदेशक और श्वास विज्ञान विभाग के प्रमुख डॉ. विकास मौर्य ने कहा कि पिछले एक सप्ताह और उसके बाद उन्हें इस वायरल संक्रमण के चलते अस्पतालों में भर्ती में इजाफा नजर आ रहा है। उन्होंने कहा, ‘‘ मरीजों में ज्यादातर ऐसे लोग हैं जिन्हें कई अन्य गंभीर बीमारियां हैं तथा उनमें कुछ ने तो टीके भी नहीं लिये हैं। कुछ मरीजों को फेफड़े की परेशानियां हैं जिसका मतलब है कि उन्हें विषाणुरोधी उपचार एवं अन्य कोविड दवाइयों की जरूरत है।’’

पिछले सप्ताह और उसके बाद मरीजों की संख्या में वृद्धि देखी गयीः डॉ. सुरेश कुमार 

सरकारी अस्पताल लोकनायक जयप्रकाश अस्पताल के निदेशक डॉ. सुरेश कुमार ने मौर्य की बात से सहमति जतायी। उन्होंने कहा, ‘‘ पिछले सप्ताह और उसके बाद मरीजों की संख्या में वृद्धि देखी गयी है। पहले हमारे यहां रोज चार से पांच मरीज आते थे लेकिन अब प्रति दिन आठ से दस मरीज आ रहे हैं।’’ मंगलवार को सरकार ने कहा कि अस्पतालों को सतर्क रखा गया है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने लोगों से टीके की एहतियाती खुराक लेने की अपील की थी क्योंकि इससे सुनिश्चित होता है कि लोग इस वायरस के विरूद्ध अधिक सुरक्षित है।

सिसोदिया ने कहा, ‘‘ अस्पतालों में भर्ती किये गये कोरोना मरीजों में 90 प्रतिशत ऐसे मरीज हैं जिन्होंने टीके की बस दो खुराक ली हैं। साथ ही, कोविड की तीसरी खुराक लेने के बाद महज दस प्रतिशत लोग कोरोना की चपेट में आये। इससे यह तो स्पष्ट है कि जिन्होंने एहतियाती खुराक ली है, वे कोरोना संक्रमण से सुरक्षित हैं।’’