BREAKING NEWS

चेन्नई सुपर किंग्स चौथी बार बना IPL चैंपियन◾बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार दशहरा देश भर में उल्लास के साथ मनाया गया◾सिंघु बॉर्डर : किसान आंदोलन के मंच के पास हाथ काटकर युवक की हत्या, पुलिस ने मामला किया दर्ज ◾कपिल सिब्बल का केंद्र पर कटाक्ष, बोले- आर्यन ड्रग्स मामले ने आशीष मिश्रा से हटा दिया ध्यान◾हिंदू मंदिरों के अधिकार हिंदू श्रद्धालुओं को सौंपे जाएं, कुछ मंदिरों में हो रही है लूट - मोहन भागवत◾जनरल नरवणे भारत-श्रीलंका के बीच सैन्य अभ्यास के समापन कार्यक्रम में शामिल हुए, दोनों दस्तों के सैनिकों की सराहना की◾अफगानिस्तान: कंधार में शिया मस्जिद को एक बार फिर बनाया गया निशाना, विस्फोट में कई लोगों की मौत ◾सिंघु बॉर्डर आंदोलन स्थल पर जघन्य हत्या की SKM ने की निंदा, कहा - निहंगों से हमारा कोई संबंध नहीं ◾अध्ययन में चौंकाने वाला खुलासा, दिल्ली में डेल्टा स्वरूप के खिलाफ हर्ड इम्युनिटी पाना कठिन◾सिंघु बॉर्डर पर युवक की विभत्स हत्या पर बोली कांग्रेस - हिंसा का इस देश में स्थान नहीं हो सकता◾पूर्व PM मनमोहन की सेहत में हो रहा सुधार, कांग्रेस ने अफवाहों को खारिज करते हुए कहा- उनकी निजता का सम्मान किया जाए◾रक्षा क्षेत्र में कई प्रमुख सुधार किए गए, पहले से कहीं अधिक पारदर्शिता एवं विश्वास है : पीएम मोदी ◾PM मोदी ने वर्चुअल तरीके से हॉस्टल की आधारशिला रखी, बोले- आपके आशीर्वाद से जनता की सेवा करते हुए पूरे किए 20 साल◾देश ने वैक्सीन के 100 करोड़ के आंकड़े को छुआ, राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान ने कायम किया रिकॉर्ड◾शिवपाल यादव ने फिर जाहिर किया सपा प्रेम, बोले- समाजवादी पार्टी अब भी मेरी प्राथमिकता ◾जेईई एडवांस रिजल्ट - मृदुल अग्रवाल ने रिकॉर्ड के साथ रचा इतिहास, लड़कियों में काव्या अव्वल ◾दिवंगत रामविलास पासवान की पत्नी रीना ने पशुपति पारस पर लगाए बड़े आरोप, चिराग को लेकर जाहिर की चिंता◾सिंघू बॉर्डर पर किसानों के मंच के पास बैरिकेड से लटकी मिली लाश, हाथ काटकर बेरहमी से हुई हत्या ◾कुछ ऐसी जगहें जहां दशहरे पर रावण का दहन नहीं बल्कि दशानन लंकेश की होती है पूजा◾एनसीबी ने अदालत में आर्यन को 'नशेड़ी' करार दिया, जेल में कैदी न. 956 बनकर पड़ेगा रहना ◾

दिल्ली बार काउंसिल ने हाईकोर्ट को दिया सुझाव, वकीलों को स्मार्ट कार्ड के जरिए अदालत परिसरों में मिले प्रवेश

दिल्ली के सभी वकीलों के संगठनों ने दिल्ली उच्च न्यायालय को मंगलवार को अक अच्छी सलाह दी कि अदालत परिसरों में वकीलों को डिजिटल चिप लगे स्मार्ट कार्ड के आधार पर ही प्रवेश दिया जाना चाहिए, ताकि उनकी पहचान का सत्यापन हो सके।

दिल्ली हाईकोर्ट बार एसोसिएशन (डीएचसीबीए) और दिल्ली बार काउंसिल ने रोहिणी अदालत कक्ष में हालिया गोलीकांड में तीन व्यक्तियों की मौत के मद्देनजर अदालत परिसरों में सुरक्षा व्यवस्था में सुधार को लेकर मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की खंडपीठ के समक्ष कहा कि ये स्मार्ट कार्ड उच्चतम न्यायालय परिसर में प्रवेश सुनिश्चित करने के लिए वकीलों को जारी होने वाले ‘प्रॉक्सिमिटी कार्ड’ की तरह ही होंगे।

रोहिणी अदालत में 24 सितम्बर को हुई थी गोलीबारी 

रोहिणी अदालत में 24 सितम्बर को हुई गोलीबारी की घटना के मद्देनजर अदालत परिसरों में सुरक्षा के संदर्भ में स्वत: संज्ञान मामले की सुनवाई कर रही थी। बता दें कि न्यायालय ने इससे पहले केंद्र और दिल्ली सरकार और विभिन्न अधिवक्ता संघों सहित सभी हितधारकों से इस मामले में अपनी राय देने को कहा था, ताकि उसे संबंधित आदेश में शामिल किया जा सके।

दिल्ली उच्च न्यायालय बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं वरिष्ठ अधिवक्ता मोहित माथुर ने कहा, ‘‘वकीलों को सुप्रीम कोर्ट के ‘प्रॉक्सिमिटी कार्ड’ की तरह के पहचान पत्र के जरिये प्रवेश की अनुमति दी जा सकती है। इन डिजिटलीकृत कार्ड की मेकेनिकल स्कैनिंग होगी।’’

वकीलों को चिप-युक्त नये कार्ड जारी किये जाएंगे

दिल्ली बार काउंसिल की ओर से पेश अधिवक्ता देवेंद्र सिंह ने कहा कि अदालत परिसरों में प्रवेश के नियमन के लिए वकीलों को चिप-युक्त नये कार्ड जारी किये जाएंगे। उन्होंने कहा कि सभी वकीलों को सुरक्षा जांच के नियमों का पालन करना चाहिए और ऐसा नहीं करने पर इसे कदाचार माना जायेगा।

डीएचसीबीए ने आगे सलाह दी कि वकीलों सहित सभी आगंतुकों की उन्नत मेटल डिटेक्टर्स का इस्तेमाल करके तलाशी ली जानी चाहिए तथा सभी वाहनों की जांच उच्च-तकनीक वाले उपकरणों से की जानी चाहिए। उसने सभी फेरीवालों का प्रवेश प्रतिबंधित करने की भी सलाह दी है। उसने कहा है कि केवल लाइसेंसधारक दुकानदारों को ही आने-जाने की अनुमति हो और उनके कर्मचारियों को भी पहचान-पत्र जारी किया जाना चाहिए।

अदालत परिसरों में अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाने चाहिए

बीसीडी ने तीन-स्तरीय सुरक्षा व्यवस्था की सलाह दी है, जिसमें अदालत कक्ष के अंदर सादे पोशाक में पुलिसकर्मियों को तैनात करना, 24-घंटे का नियंत्रण कक्ष स्थापित करना और अदालत परिसर में सुरक्षा की निगरानी के लिए अधिक सीसीटीवी कैमरे लगाना शामिल है।

दोनों वकीलों के निकायों का मत था कि विचाराधीन कैदियों को आभासी माध्यम (वर्चुअल मोड) से पेश किया जाना चाहिए और सुरक्षाकर्मियों की संख्या बढ़ाई जानी चाहिए। इस मुद्दे पर एक अलग याचिका दायर करने वाले वकील की ओर से पेश अधिवक्ता रॉबिन राजू ने कहा कि बार के सभी सदस्यों को अदालतों में सुरक्षा जांच में सहयोग के लिए एक परामर्श जारी किया जाना चाहिए।

भीड़भाड़ के कारण यह मसला और गंभीर होने वाला है-दिल्ली पुलिस 

दिल्ली पुलिस की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल चेतन शर्मा ने कहा कि उनके सुझाव ‘कमोबेश एक जैसे’ हैं। उन्होंने कहा, ‘‘ऐसा लगता है कि भीड़भाड़ के कारण यह मसला और गंभीर होने वाला है। अदालतें आसान लक्ष्य हैं।” मुख्य न्यायाधीश ने कहा, ‘कुल मिलाकर हमें व्यापक सुझाव मिले हैं।’ उन्होंने मामले की अगली सुनवाई के लिए 25 अक्टूबर की तारीख मुकर्रर की। 

जयशंकर ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से किया आतंकवाद के खिलाफ एकजुट होने का आह्वान, बोले- शत्रु की कसनी होगी नकेल

न्यायालय ने कहा, ‘हम उन प्रतिवादियों से भी बहुमूल्य सुझाव की उम्मीद करते हैं, जिन्होंने अब तक हलफनामा दाखिल नहीं किया है, ताकि अदालत परिसरों की सुरक्षा के लिए दिशानिर्देश जारी करके करके मामले को बंद किया जा सके।’