BREAKING NEWS

राष्ट्रपति चुनाव : मुर्मू संकल्प ले वह निर्वाचित होने के बाद ‘रबर स्टाम्प राष्ट्रपति’ नही होगी - यशवंत सिन्हा ◾राष्ट्रपति चुनाव : मुर्मू संकल्प ले वह निर्वाचित होने के बाद ‘रबर स्टाम्प राष्ट्रपति’ नही होगी - यशवंत सिन्हा ◾दिल्ली में दरिंदों ने की हदपार! लक्ष्मीनगर इलाके में 7 साल की बच्ची के साथ किया कुर्कम, पॉस्कों एक्ट के तहत दर्ज मामला◾ PM Modi security breach : पीएम मोदी की सुरक्षा में बड़ी चूक, चॉपर के उड़ान भरते ही आसमान में उड़ाए गए काले गुब्बारे ◾Punjab News: मान ने पंजाब कैबिनेट का किया विस्तार, इन पांच विधायकों ने ली मंत्री पथ की शपथ ◾मीडिया का परिदृश्य पिछले कुछ सालों में बदल गया......., बोले केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री अनुराग ठाकुर ◾RCP Singh: भाजपा को बड़ा झटका! केंद्रीय मंत्री आरसीपी सिंह BJP में नहीं हुए शामिल ◾आप आग से नहीं खेल सकते... नूपुर शर्मा को करें गिरफ्तार! CM ममता ने फिर उठाई कड़ी कार्रवाई की मांग ◾ खाली हाथ रह गया उद्धव गुट, अजीत पवार को चुना गया महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष ◾ ज्ञानवापी केस : जिला अदालत में सुनवाई टली, 12 को पक्ष रखेंगे मुस्लिम अधिवक्ता ◾Punjab Board Result 2022: पंजाब में कल छात्र-छात्राओं का अहम दिन, जारी होगा 10वीं का रिजल्ट, इस लिंक पर करें चेक◾ यशवंत सिन्हा की मुर्मू से अपील उनकी ओछी मानसिकता को दर्शाती है - सीटी रवि ◾शरद के बाद कांग्रेस ने भी शिंदे सरकार को लेकर की भविष्यवाणी, कहा - लंबे समय तक नही़ टिकेगी सरकार ◾महाराष्ट्र में 'कानून का शासन' नहीं, शिवसेना बोली- BJP का स्पीकर चुनाव जीतना हैरानी की बात नहीं... ◾राम रहीम को लेकर याचिकाकर्ता पर भड़का हाईकोर्ट, कहा - ये फिल्म चल रही है क्या ◾गुजरात को भी बनाएंगे दिल्ली और पंजाब मॉडल, केजरीवाल बोले- 300 यूनिट तक देंगे मुफ्त बिजली, भाजपा पर भी साधा निशाना◾दिल्ली में विधायकों के वेतन में 66 प्रतिशत की होगी वृद्धि, विधानसभा में पारित हुआ विधेयक ◾शिंदे के सीएम बनने पर दिग्विजय ने सिंधिया पर ली सियासी चुटकी ◾कन्हैयालाल, उमेश कोल्हे... अगला नबंर किसका? नागपुर में भी नूपुर शर्मा के समर्थन में युवक को मिली धमकियां, सदमें में परिवार◾Rahul Gandhi Fake Video: BJP कार्यकर्ताओं पर होगी कड़ी कार्रवाई, कांग्रेस बोली- झूठ नहीं करेंगे बर्दाश्त! ◾

किसके हाथ में आएगा राजधानी का कंट्रोल, विवाद को 5 सदस्यीय पीठ के पास भेजने पर फैसला लेगा SC

राष्ट्रीय राजधानी को लेकर केंद्र सरकार बनाम दिल्ली सरकार की लड़ाई एक बार फिर सामने आ गयी है। सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को लेकर आज हुई सुनवाई में कहा कि वह केंद्र की उस दलील पर निर्णय लेगा कि राष्ट्रीय राजधानी में सेवाओं के नियंत्रण को लेकर विवाद पांच सदस्यीय पीठ के पास भेजा जाए। इस याचिका का आम आदमी पार्टी की अगुवाई वाली दिल्ली सरकार ने कड़ा विरोध किया है। 

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने केंद्र सरकार की ओर से पेश हुए सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और दिल्ली सरकार की पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील ए एम सिंघवी की दलीलें सुनने के बाद कहा, ‘‘हम विचार करेंगे और जल्द से जल्द फैसला लेंगे।’’ 

सिंघवी ने कहा, ‘‘यह कोर्ट हर बार छोटी-सी बात को भी पीठ के पास भेजने के लिए नहीं बनी है। इससे क्या फर्क पड़ता है कि तीन या पांच न्यायाधीश हों। सवाल यह नहीं है कि क्यों नहीं, बल्कि क्यों है।’’ उन्होंने कहा कि 2018 की संविधान पीठ के फैसले में कोई दुविधा नहीं है लेकिन अगर कोई दुविधा है भी तो मौजूदा पीठ इस पर निर्णय कर सकती है। 

Center VS Kejriwal Government: तीखी हुई दिल्ली पर नियंत्रण की लड़ाई! समझिए क्या है पूरा माजरा

वहीं, सॉलिसिटर जनरल ने कहा कि इस मामले को संविधान पीठ के पास भेजने की आवश्यकता है क्योंकि पूर्व पांच सदस्यीय पीठ के फैसले में यह निर्णय करने के लिए ‘‘कोई रूपरेखा’’ नहीं दी गयी कि विवाद के तहत आने वाले विषयों से निपटने का अधिकार केंद्र के पास है या दिल्ली सरकार के पास। 

मेहता ने कहा , पीठ ने कहा है कि वृहद संविधान पीठ ने कुछ पहलुओं पर विचार नहीं किया और अतत: विवाद को संविधान पीठ के पास भेजने की आवश्यकता है। केंद्र सरकार ने बुधवार को सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि उसे दिल्ली में प्रशासनिक सेवाओं पर नियंत्रण करने की जरूरत इसलिए है क्योंकि वह राष्ट्रीय राजधानी और देश का चेहरा है। 

सॉलिसिटर जनरल ने यह भी कहा था कि दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र की शासन प्रणाली में विधानसभा और मंत्रिपरिषद होने के बावजूद, आवश्यक रूप से केंद्र सरकार की केंद्रीय भूमिका होनी चाहिए। मेहता ने कहा कि यह किसी विशेष राजनीतिक दल के बारे में नहीं है। 

यह याचिका 14 फरवरी 2019 के उस विभाजित फैसले को ध्यान में रखते हुए दायर की गयी है, जिसमें न्यायमूर्ति ए के सीकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की दो सदस्यीय पीठ ने भारत के तत्कालीन प्रधान न्यायाधीश को उसके विभाजित फैसले के मद्देनजर राष्ट्रीय राजधानी में सेवाओं के नियंत्रण के मुद्दे पर अंतिम फैसला लेने के लिए तीन सदस्यीय पीठ का गठन करने की सिफारिश की थी। 

दोनों न्यायाधीश अब सेवानिवृत्त हो गए हैं। न्यायमूर्ति भूषण ने तब कहा था कि दिल्ली सरकार के पास प्रशासनिक सेवाओं पर कोई अधिकार नहीं हैं। हालांकि, न्यायमूर्ति सीकरी ने इससे अलग फैसला दिया था।