BREAKING NEWS

गुजरात में भाजपा की प्रचंड जीत के बाद भूपेंद्र पटेल फिर से संभालेंगे मुख्यमंत्री पद, 12 दिसंबर को लेंगे शपथ ◾HP: 'मोदी लहर' में फैल हुए 'जयराम ठाकुर', कहा- मैं जनादेश का करता हूं सम्मान...राज्यपाल को सौंप रहा हूं इस्तीफा ◾ संजय सिंह ने कहा- 10 साल में राष्ट्रीय पार्टी का दर्जा हासिल किया, गुजरात के लोगों के शुक्रगुजार हैं ◾Gujarat Election: EVM में गड़बड़ी का आरोप लगाकर कांग्रेस प्रत्याशी भरत सोलंकी ने की आत्महत्या की कोशिश◾गुजरात चुनाव : AAP के मुख्यमंत्री पद के चेहरे इसुदान गढ़वी की हार, भाजपा को 18,000 मतों से मिली शिकस्त ◾मोदी गढ़ में फिर 'डबल इंजन' सरकार, शाह ने कहा- गुजरात की जनता ने 'फ्री की रेवड़ी' और 'खोखले वादों' को नकारा◾Gujarat: 'कमल' की जीत पर बोले पवार- गुजरात में चल गया 'मोदी मेजिक'... लेकिन 2024 में नहीं चलेगा ◾Tata स्टील को सुप्रीम कोर्ट से लगा बड़ा झटका, जानिए 35000 करोड़ का क्या है मामला◾Mainpuri: डिंपल यादव ने किया बड़ा फेर- बदल, जीत दर्ज कर ले गई लोकसभा सीट◾अखिलेश यादव ने शिवपाल को दिया समाजवादी पार्टी का झंडा, सपा में प्रसपा के विलय की तेज हुई अटकलें ◾'भारत जोड़ो यात्रा' पहुंचेगी पश्चिम बंगाल में..., राहुल औऱ प्रियंका निभाएंगे अहम भूमिका, जानें पूरी रणनीति◾आजम खान के गढ़ में हुआ बड़ा उलटफेर, रामपुर किला ढहाने की ओर भाजपा◾राजधानी में दिलदहला देने वाली घटना, एक नाले से सूटकेस में बंद महिला का मिला शव, जानें पुलिस ने क्या कहा◾गुजरात में BJP को मिली रिकॉर्ड तोड़ जीत, अब 12 दिसंबर को होगा शपथ ग्रहण◾Gujarat Election Result: गुजरात जीत पर राजनाथ सिंह, बोले- जनता करती है पीएम मोदी पर विश्वास◾CM नीतीश कुमार के लिए नन्हे से बच्चे ने गाया गीत, लगा दो आग गुलशन में, मेरे सरकार आए हैं◾Himachal Result: हिमाचल में BJP की हार का कारण बने ये बड़े मुद्दे, बड़े चेहरे भी हो गए फेल◾मैनपुरी सीट पर 'डिंपल' ने लहराया परचम, शिवपाल ने कहा- नेताजी के विकास की वजह से 'सपा' ने तोड़ा रिकार्ड◾हिमाचल में चला 'हाथ का पंजा', हरियाणा के पूर्व सीएम हुड्डा ने कहा- कांग्रेस राज्य में बनाएगी सरकार◾TALIBAAN नहीं आ रहा अपनी हरकतों से बाज़, भीड़ इकट्ठी कर एक और युवक को उतारा गया मौत के घाट◾

संक्रमण रोकने के लिए घर में पृथकवास का दिल्ली सरकार का मॉडल प्रभावी साबित हुआ

दिल्ली सरकार ने कोविड-19 लॉकडाउन के दौरान मरीजों को उनके घर में ही पृथकवास में रखने का एक मॉडल पेश किया था जो कि कोरोना वायरस के मामलों को रोकने के लिए एक प्रभावी तरीका साबित हुआ। इसके अलावा सरकार ने गंभीर रोगियों की जरूरतों को पूरा करने के लिए नामित अस्पतालों में बेड की संख्या को बढ़ाया और इसके लिए होटलों और बैंक्वेट हॉल को भी तैयार रखा। 

दिल्ली सरकार के इन उपायों ने राष्ट्रीय राजधानी में संक्रमण के प्रसार को रोकने में अहम भूमिका निभाई। दिल्ली में पहला कोविड-19 मामला एक मार्च को सामने आया था और जून 2020 में महामारी का पहला बड़ा उछाल आया था, जब राष्ट्रीय राजधानी में पहली बार एक दिन में 3,000 से अधिक मामले आए थे। 

आज देश में घातक कोरोना वायरस महामारी के प्रसार को रोकने के लिए लगाए गए राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन को ठीक एक साल पूरा हो गया, जिससे दिल्ली में अब तक 6.49 लाख से अधिक लोग संक्रमित हो चुके हैं और 10,967 लोगों की जान जा चुकी है।  मंगलवार को, राष्ट्रीय राजधानी में 1,101 मामले आए, जो इस वर्ष की उच्चतम दैनिक वृद्धि है और पहली बार 2021 में दिल्ली में दैनिक संक्रमण का आंकड़ा 1000 को पार कर गया। 

पिछले कई दिनों से मामले लगातार बढ़ रहे हैं। पिछले साल मार्च के अंत में लॉकडाउन लागू होने के तुरंत बाद दिल्ली सरकार ने कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए कई उपायों को लागू किया था, और उसके द्वारा उठाए गए अभिनव कदमों में से एक था बिना लक्षण और हल्के लक्षण वाले मरीजों को उनके घरों में ही पृथकवास में रखकर उपचार करना। 

आम नागरिकों की आवाजाही पर रोक के साथ ही लोग लॉकडाउन के दौरान अपने घरों से बाहर निकलने से डरते थे। सरकार की निगरानी में घर में पृथकवास के निर्णय ने ऐसे कई रोगियों को राहत दी, जो नहीं जाना चाह रहे थे। दिल्ली सरकार ने जून के बाद दैनिक जांच क्षमता को काफी बढ़ा दिया था और बाजारों, मुहल्ला क्लीनिकों और अन्य भीड़-भाड़ वाले स्थानों पर जांच करके मामलों का पता लगाने के प्रयास को काफी तेज कर दिया था। 

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने पिछले साल सितंबर में पीटीआई-भाषा को दिए एक साक्षात्कार में कहा था कि दिल्ली सरकार की गृह पृथकवास नीति जून में मामलों में उछाल को नियंत्रित करने में गेम चेंजर साबित हुई। यह रणनीति बाद में भी जारी रही। 

लॉकडाउन की पहली वर्षगांठ के आसपास संक्रमण के मामलों में फिर से वृद्धि होने के मद्देनजर, दिल्ली सरकार ने पहले से ही जांच बढ़ाने, संक्रमितों का पता लगाने और मरीजों को पृथकवास में रखने संबंधी उपायों को तेज करने के आदेश जारी किए हैं और गृह पृथकवास पर फिर से ध्यान केंद्रित किया है।