BREAKING NEWS

दुनियाभर में कोरोना वायरस का प्रकोप जारी, महामारी से मरने वालों का आंकड़ा 21 लाख से पार ◾असम विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए PM मोदी और अमित शाह आज राज्य का करेंगे दौरा ◾TOP 5 NEWS 23 JANUARY : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें ◾नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती आज, पीएम मोदी और अमित शाह ने किया नमन ◾सिंघु बॉर्डर से पकड़ा गया संदिग्ध, किसानों ने साजिश रचे जाने का आरोप लगाया◾आज का राशिफल (23 जनवरी 2021)◾अयोध्या में राम जन्मभूमि पर मंदिर का निर्माण कार्य फिर शुरू ◾दुनिया के कई देश भारत में बनी कोरोना वैक्सीन के प्रति इच्छुक◾रद्द हुए, तो कोई सरकार 10-15 साल तक इन कानूनों को लाने का साहस नहीं करेगी : नीति आयोग सदस्य◾दिल्ली पुलिस ने गणतंत्र दिवस के मद्देनजर सुरक्षा कड़ी की ◾मोदी के दौरे से पहले, आसु ने सीएए के खिलाफ प्रदर्शन के लिए असम में मशाल जुलूस निकाला ◾राम मंदिर के लिए दान के खिलाफ विधायक की टिप्पणी, भाजपा का तेलंगाना में विरोध प्रदर्शन ◾गुरुग्राम : टीका लगने के 130 घंटे बाद हेल्थ वर्कर की मौत, अधिकारियों ने कहा- टीके से कोई लेना-देना नहीं◾बिहार : सोशल मीडिया पर जारी आदेश को लेकर तेजस्वी ने CM नितीश को दी चुनौती, कहा- 'करो गिरफ्तार'◾पश्चिम बंगाल : ममता बनर्जी ने जगमोहन डालमिया की विधायक बेटी वैशाली को पार्टी से निष्कासित किया◾बैठक के बाद कृषि मंत्री तोमर बोले- कुछ ‘‘ताकतें’’ हैं जो अपने निजी स्वार्थ के लिए आंदोलन खत्म नहीं करना चाहती◾किसानों और सरकार के बीच की बैठक रही बेनतीजा, अगली वार्ता के लिए अभी कोई तारीख तय नहीं◾बंगाल चुनाव में सुरक्षा को लेकर कई दलों ने जताई चिंता : CEC सुनील अरोड़ा◾केसी वेणुगोपाल का ऐलान- जून 2021 तक मिल जाएगा निर्वाचित कांग्रेस अध्यक्ष◾पूर्व CJI रंजन गोगोई को मिली Z+ सिक्योरिटी, 500 साल पुराने मामले में सुनाया था ऐतिहासिक फैसला◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

कर्मचारियों को वेतन देने के लिए एमसीडी को 938 करोड़ रुपये देगी दिल्ली सरकार : सिसोदिया

दिल्ली सरकार एमसीडी के कर्मचारियों को वेतन देने के लिए स्थानीय निकायों को 938 करोड़ रुपये की राशि दे रही है। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को दावा किया कि राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली के पूर्वी और उत्तरी दिल्ली नगर निगम ‘कंगाल’ हो गए हैं और अपने कर्मचारियों को वेतन देने की स्थिति में भी नहीं है। संवाददाता सम्मेलन में सिसोदिया ने दावा किया कि स्थानीय निकायों को धन देने की दिल्ली सरकार की कोई जिम्मेदारी नहीं बनती है, लेकिन ‘एमसीडी के कर्मचारियों की तकलीफ’’ देखकर उसने धन देने का फैसला लिया है। 

उन्होंने कहा, ‘‘अपने सिमित संसाधन के बावजूद, दिल्ली सरकार ने अपने विभिन्न विभागों के बजट में कमी करके एमसीडी के कर्मचारियों का वेतन देने के लिए 938 करोड़ रुपये देने का फैसला लिया है।’’ उन्होंने कर्मचारियों से अनुरोध किया कि वह धन का पूरा-पूरा हिसाब रखें ताकि ‘भाजपा इसका गबन ना कर सके’। 

उत्तरी दिल्ली नगर निगम, दक्षिण दिल्ली नगर निगम और पूर्वी दिल्ली नगर निगम के तमाम कर्मचारी वेतन और पेंशन नहीं मिलने को लेकर पिछले सप्ताह से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं। स्थानीय निकायों के कर्मचारी संघों के मुखौटा संगठन कंफेडरेशन ऑफ एमसीडी इम्पलाइज यूनियन के तहत हड़ताल बुलाई गई है। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि यह देखना बहुत तकलीफदेह है कि राष्ट्रीय राजधानी के निवासी एमसीडी के कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा है। 

उन्होंने कहा, ‘‘यह कर्मचारियों की गलती नहीं है। अगर उन्होंने काम किया है, तो उन्हें वेतन मिलना चाहिए। इसलिए जहां से भी संभव हो, वहां से धन जुटाने का फैसला लिया गया। दिल्ली सरकार के पास धन की कमी है, कर के सिर्फ आधे पैसे आ रहे हैं। हमने कई योजनाएं रोक दी हैं... लेकिन तमाम जिम्मेदारियों के बावजूद एमसीडी के कर्मचारियों को वेतन देने के लिए 938 करोड़ रुपये दिए जा रहे हैं।’’ आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता ने संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘उत्तरी और पूर्वी दिल्ली नगर निगम कंगाल हो गए हैं, उनके बैंक खातों में क्रमश: 12 करोड़ और 99 लाख रुपये हैं। उन्हें दिल्ली सरकार को 6,276 करोड़ रुपये का ऋण चुकाना है। भाजपा ने दिल्ली नगर निगमों को कंगाल कर दिया है।’’ 

उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा, ‘‘14 साल के भ्रष्ट शासन में भाजपा ने एमसीडी को बर्बाद कर दिया है। नगर निगम अपने कर्मचारियों को वेतन देने तक की स्थिति में नहीं है। यहां तक कि भाजपा नेता भी मानते हैं कि एमसीडी में भ्रष्टाचार अपने चरम पर है।’’ दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन ने कहा, ‘‘दिल्ली सरकार के विभिन्न विभागों का बजट कम करने के बाद, एमसीडी कर्मचारियों को वेतन देने के लिए हम 938 करोड़ रुपये उन्हें दे रहे हैं।’’