BREAKING NEWS

आंग सान सू की को मिली चार साल की जेल, सेना के खिलाफ असंतोष, कोरोना नियमों का उल्लंघन करने का था आरोप ◾शिया बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी ने अपनाया हिंदू धर्म, परिवर्तन को लेकर दिया बड़ा बयान, जानें नया नाम ◾इशारों में आजाद का राहुल-प्रियंका पर तंज, कांग्रेस नेतृत्व को ना सुनना बर्दाश्त नहीं, सुझाव को समझते हैं विद्रोह ◾सदस्यों का निलंबन वापस लेने के लिए अड़ा विपक्ष, राज्यसभा में किया हंगामा, कार्यवाही स्थगित◾राज्यसभा के 12 सदस्यों का निलंबन के समर्थन में आये थरूर बोले- ‘संसद टीवी’ पर कार्यक्रम की नहीं करूंगा मेजबानी ◾Winter Session: निलंबन के खिलाफ आज भी संसद में प्रदर्शन जारी, खड़गे समेत कई सांसदों ने की नारेबाजी ◾राजनाथ सिंह ने सर्गेई लावरोव से की मुलाकात, जयशंकर बोले- भारत और रूस के संबंध स्थिर एवं मजबूत◾IND vs NZ: भारत ने न्यूजीलैंड को 372 रन से करारी शिकस्त देकर रचा इतिहास, दर्ज की सबसे बड़ी टेस्ट जीत ◾विपक्ष ने लोकसभा में उठाया नगालैंड का मुद्दा, घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया, बिरला ने कही ये बात ◾UP विधानसभा चुनाव में BSP बनाएगी पूर्ण बहुमत की सरकार, मायावती ने किया दावा ◾दिल्ली में हल्का बढ़ा पारा, 'बहुत खराब' श्रेणी में दर्ज हुई वायु गुणवत्ता, फ्लाइंग स्क्वॉड की कार्रवाई जारी ◾पीएम मोदी ने किया ट्वीट! लोगों से टीकाकरण अभियान की गति बनाए रखने की अपील की◾अमित शाह नगालैंड में गोलीबारी की घटना पर संसद में आज देंगे बयान, 1 जवान समेत 14 लोगों की हुई थी मौत ◾लोकसभा में कई अहम बिल होंगे पेश, साथ ही बहुत से विधेयकों को मिलेगी मंजूरी, जानें क्या हैं संभावित मुद्दे ◾देश में नए वेरिएंट के खतरे के बीच कोरोना के 8 हजार से अधिक संक्रमितों की पुष्टि, इतने मरीजों हुई मौत ◾World Coronavirus: 26.58 करोड़ हुआ संक्रमितों का आंकड़ा, 52.5 लाख से अधिक लोगों की मौत ◾देश में तेजी से फैल रहा है कोरोना का नया वेरिएंट ओमिक्रॉन, जानिए किन राज्यों में मिल चुके हैं संक्रमित मरीज ◾आज भारत पहुंचेंगे रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन, पीएम मोदी के साथ होगी शिखर वार्ता, ये होंगे मुद्दे ◾मथुरा में पुलिस का चप्पे-चप्पे पर पहरा, ड्रोन और सीसीटीवी से रखी जा रही नजर, अयोध्या में भी हाई अलर्ट ◾पंजाब सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने आप नेता के अवैध खनन के आरोप को किया खारिज◾

दिल्ली HC ने पतंजलि आयुर्वेद के खिलाफ जुर्माना लगाने की कार्यवाही पर लगाई रोक

दिल्ली हाई कोर्ट ने पतंजलि आयुर्वेद के अपने उत्पादों की बिक्री से कथित तौर पर 75 करोड़ रुपये मुनाफा कमाने के खिलाफ जुर्माना लगाने के लिये शुरू की गई कार्यवाही पर शुक्रवार को रोक लगा दी। हालांकि, अदालत ने इसके लिये यह शर्त भी निर्धारित की है कि यह उक्त राशि छह महीने की किस्त में उपभोक्तया कल्याण कोष में जमा करे।

न्यायमूर्ति मनमोहन और न्यायमूर्ति संजीव नरूला की पीठ ने राष्ट्रीय मुनाफा-रोधी प्राधिकरण (एनएए) के 12 मार्च 2020 के आदेश को चुनौती देने वाली पतंजलि की याचिका पर यह निर्देश दिया। प्राधिकरण ने कहा था कि कंपनी ने नवंबर 2017 से मार्च 2019 के बीच माल एवं सेवा कर (जीएसटी) में कटौती के फायदों को ग्राहकों तक नहीं पहुंचने दिया।

हाई कोर्ट ने केंद्र, प्राधिकरण और मुनाफा रोधी महानिदेशक (डीजीएपी) को भी नोटिस जारी कर कंपनी की याचिका पर अपना रुख बताने को कहा है। कंपनी ने अपनी याचिका में दावा किया है कि प्राधिकरण यह देख पाने में नाकाम रहा है कि पतंजलि आयुर्वेद ने उपभोक्ताओं को 151 करोड़ रुपये से अधिक का फायदा पहुंचाया।

पतंजलि आयुर्वेद की पैरवी अधिवक्ता अमन सिन्हा कर रहे हैं। कंपनी ने केंद्रीय जीएसटी अधिनियम की धारा 171 की संवैधानिकता को भी चुनौती दी है, जो यह प्रावधान करता है कि किसी भी वस्तु या सेवा की आपूर्ति पर कर की दर में कोई भी कटौती या ‘इनपुट टैक्स क्रेडिट’ (वस्तु का उप्तादन करने वाले कारोबारियों को सरकार की तरफ से मिलने वाली छूट) मूल्य में कमी कर ग्राहक को मुहैया की जाएगी।

पतंजलि के मुताबिक उसने कर में कटौती का फायदा कैशबैक योजना और छूट सहित विभिन्न माध्यमों से उपभोक्ताओं तक पहुंचाया। साथ ही, कर की दर बढ़ने के बावजूद भी कुछ वस्तुओं का बिक्री मूल्य नहीं बढ़ाया।

सिन्हा ने दलील दी कि इन दावों पर विचार किये बगैर प्राधिकरण ने यह करार दिया कि उसने करीब 75 करोड़ रुपये का मुनाफा कमाया और उसे उपभोक्ता कल्याण कोष में जमा करने का निर्देश दिया। उसने कंपनी के खिलाफ जुर्माना लगाने की कार्यवाही भी शुरू कर दी। वहीं, केंद्र का प्रतिनिधित्व कर रहे अतिरिक्त सॉलीसीटर जनरल चेतन शर्मा, अधिकरण और डीजीएपी का प्रतिनिधित्व कर रहे केंद्र सरकार के वकील रवि प्रकाश और अधिवक्ता फरमान अली मागरे तथा जोहेब हुसैन ने कंपनी की याचिका का विरोध किया।

उन्होंने यह भी कहा कि कंपनी के जबरदस्त वार्षिक कारोबार को देखते हुए उसे यह रकम एकमुश्त जमा करने का निर्देश देना चाहिए, ना कि किस्तों में। हालांकि, अदालत ने सैमसोनाइट साउथ एशिया प्रा. लि. की इसी तरह की एक याचिका पर हाल ही में जारी अपने इसी तरह के आदेश की तर्ज पर पतंजलि आयुर्वेद को आदेश जारी किया। बहरहाल, अदालत ने इस तरह के सभी विषयों की एक साथ सुनवाई 24 अगस्त के लिये निर्धारित कर दी।