BREAKING NEWS

इस्लाम की पैरवी करते मौलाना; निकाह में नृत्यु, संगीत पर लगाई पाबंदी, जानें पूरा मामला ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾खट्टर ने केजरीवाल को लिया आड़े हाथ, कहा- जैन को नहीं हटाया तो... कोर्ट या फिर लोग हटा देंगे◾सांप्रदायिक आधार पर प्रचार कर रही BJP, देश को आगे ले जाने का नहीं है कोई विजन : खड़गे◾दहशत में राष्ट्रीय राजधानी, स्कूल को ईमेल से मिली बम की धमकी, जांच में जुटा प्रशासन ◾गोवा में ड्रग्स का कहर, भाजपा विधायक बोले- राज्य में नए तस्कर आ रहे हैं ◾गहलोत द्वारा पायलट को 'गद्दार' कहे जाने पर बोले राहुल-दोनों नेता कांग्रेस की संपत्ति◾पांडव नगर हत्याकांड : खून बहने के लिए गला काटकर छोड़ा शव, फिर किए 10 टुकड़े◾पश्चिम बंगाल : CM ममता बनर्जी कर सकती हैं दो नए जिलों की आधिकारिक घोषणा ◾Vijay Hazare Trophy: रुतुराज गायकवाड़ का धमाल, एक ओवर में सात छक्के जड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड◾CM अरविंद केजरीवाल ने किया दावा, कहा- गुजरात में मिल रहा है महिलाओं और युवाओं का भारी समर्थन ◾इस्लामिक कट्टरपंथियों का एजेंडा बेनकाब, महिला के जबरन धर्मांतरण की कोशिश के आरोप में 3 लोगों पर केस दर्ज◾Gujarat Polls: भाजपा को झटका! पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास ने थामा कांग्रेस का दामन ◾चीन : राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जीरो-कोविड नीति को लेकर हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, 'आजादी-आजादी' के लगे नारे ◾Border dispute: सीएम बोम्मई जाएंगे दिल्ली, महाराष्ट्र सीमा विवाद पर नड्डा, शीर्ष अधिवक्ता से करेंगे मुलाकात◾गुजरात : कांग्रेस खेमे में गए BJP के पूर्व मंत्री, टिकट कटने से नाराज जयनारायण व्यास ने छोड़ी पार्टी◾लोकप्रिय लेखक चेतन भगत को आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद उर्फी जावेद ने लिया निशाने पर◾दिल्ली : मां-बेटे ने पिता की हत्या कर फ्रिज में रखा शव, नाले और रामलीला मैदान में फेंके टुकड़े◾मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई लोगों की आंखों की रोशनी, प्रशासन ने नेत्र शिविरों पर लगाई रोक◾

दिल्ली HC का निर्देश -सरकार जिन वकीलों की सेवाएं ले, उनकी फीस के भुगतान में न करे विलंब

दिल्ली उच्च न्यायालय ने सरकार और सरकारी विभागों को निर्देश दिया है कि वह यह सुनिश्चित करें कि जिन वकीलों की उन्होंने सेवाएं ली हैं उनकी फीस का भुगतान नियम समय पर कर दिया तथा वकीलों को अपना बकाया प्राप्त करने के लिए याचिका दायर करने पर मजबूर नहीं होना पड़े। 

न्यायमूर्ति प्रतिभा एम सिंह ने कहा कि किसी भी परिस्थिति में यह नहीं होना चाहिए कि जिन वकीलों की सेवा ली गई है उन्हें फीस के भुगतान के लिए अपने मुवक्किल पर मुकदमा दायर करना पड़े। एक वकील ने फीस का भुगतान नहीं किए जाने के कारण दिल्ली सरकार के खिलाफ उच्च न्यायालय में याचिका दायर की थी। अदालत ने दिल्ली सरकार को लंबित भुगतान एक महीने के भीतर अदा करने का निर्देश देते वक्त यह टिप्पणी की। 

न्यायमूर्ति सिंह ने कहा, ‘‘याचिकाकर्ता वकील को इस अदालत में आने पर मजबूर होना पड़ा और यह बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण बात है। संबंधित सरकारों/विभागों से उम्मीद की जाती है कि वे नियत समय पर वकीलों के बिलों का भुगतान करेंगे।’’ 

याचिकाकर्ता वकील के मुताबिक दिल्ली सरकार ने उन्हें 24 जून 2016 को अतिरिक्त स्थायी वकील (दीवानी) नियुक्त किया था। जुलाई 2016 से अगस्त 2017 के बीच उन्होंने पेशेवर सेवाएं देने के बदले कुल 26,31,200 रूपये के 124 बिल जमा करवाए जिन्हें मंजूरी नहीं मिली जिसके बाद वकील को अदालत का दरवाजा खटखटाना पड़ा। 

दिल्ली की शादियों में अब शामिल हो पाएंगे 50 से ज्यादा मेहमान, सरकार ने जारी किए आदेश