BREAKING NEWS

सुप्रीम कोर्ट में MCD मेयर चुनाव के लिए आप की याचिका पर बुधवार को होगी सुनवाई ◾युवा कांग्रेस ने अडाणी समूह के मामले को लेकर किया प्रदर्शन◾मनोज तिवारी : केजरीवाल मंदिर के पुजारियों के साथ अन्याय कर रहे हैं, इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा◾Bilkis Bano case: सुप्रीम कोर्ट ने दोषियों की सजा में छूट के खिलाफ याचिका पर जल्द सुनवाई का दिया आश्वासन◾अमित शाह बोले- नयी सहकारिता नीति बनने से देश में सहकारी आंदोलन मजबूत होगा◾'कांग्रेस की अडाणी से नजदीकी...', राहुल गांधी के बयानों पर भाजपा सांसद निशिकांत दुबे का पलटवार ◾ममता बनर्जी बोलीं- सिर्फ TMC ही ‘डबल इंजन’ सरकार को सत्ता से कर सकती है बाहर◾असम : बाल विवाह के खिलाफ कार्रवाई के बाद अब समय सीमा के अंदर आरोपपत्र दाखिल करने की बड़ी चुनौती ◾श्रद्धा वाकर हत्याकांड में अदालत ने चार्जशीट पर लिया संज्ञान, 21 को सुनवाई◾ UP Politics: राहुल गांधी का बड़ा आरोप, बोले- 'CM योगी धार्मिक नेता नहीं, बल्कि एक मामूली ठग, बीजेपी कर रही अधर्म'◾AgustaWestland Scam: सुप्रीम कोर्ट ने बिचौलिये क्रिश्चियन मिशेल को जमानत देने से इंकार किया◾CM हिमंत बोले- त्रिपुरा की क्षेत्रीय अखंडता से समझौता नहीं करेगी भाजपा◾झारखंड : मंडी शुल्क के खिलाफ अनाज व्यापारियों का आंदोलन, दुकानें और प्रतिष्ठान बंद रखने का निर्णय ◾गृह मंत्रालय का बड़ा ऐलान, 'देश के 31 जिलों में अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने का प्रावधान'◾पुजारियों को वेतन देने की मांग को लेकर BJP ने केजरीवाल के घर के बाहर किया प्रदर्शन◾Chinchwad bypoll: नाना काटे होंगे एमवीए के उम्मीदवार, भाजपा ने अश्विनी जगताप को दिया चांस ◾आंध्रप्रदेश : आरपीआई नेता के कार्यालय में लगाई आग, दफ्तर पूरी तरह जलकर खाक◾रोडवेज बसों का बढ़ा किराया, अखिलेश यादव बोले- यूपी सरकार ‘‘इन्वेस्टर्स समिट’’ का खर्च जनता से चाहती है वसूलना◾HAL की आलोचना पर कर्नाटक BJP ने कांग्रेस पर साधा निशाना, कहा- माफी मांगें राहुल गांधी◾उत्तर प्रदेश : पुलिस की गौ तस्करों से मुठभेड़, दो इनामी बदमाश समेत एक सिपाही घायल◾

दिल्ली : उच्च न्यायालय ने दिनेश शर्मा को UAPA ट्रिब्यूनल का पीठासीन अधिकारी किया नियुक्त

दिल्ली उच्च न्यायालय के न्यायाधीश दिनेश कुमार शर्मा को पॉपुलर फ्रंट ऑफ इंडिया (पीएफआई) और इससे जुड़े संगठनों पर प्रतिबंध से निपटने वाले यूएपीए न्यायाधिकरण का प्रमुख बनाया गया है। कानून मंत्रालय के न्याय विभाग द्वारा जारी एक कार्यालय ज्ञापन के अनुसार, न्यायमूर्ति शर्मा का गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) न्यायाधिकरण के प्रमुख के रूप में कार्यकाल "बुनियादी सेवा" के तहत आएगा। न्यायमूर्ति शर्मा को दिल्ली उच्च न्यायालय का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया। 

न्यायाधिकरण के पीठासीन अधिकारी के रूप में नामित

एस. सी. शर्मा ने नामित किया। गौरतलब है कि यूएपीए के तहत किसी संगठन के प्रतिबंधित होने के बाद सरकार द्वारा एक ट्रिब्यूनल का गठन किया जाता है, जो यह तय करता है कि संबंधित निर्णय के लिए पर्याप्त आधार है या नहीं। प्रक्रिया के अनुसार, केंद्रीय गृह मंत्रालय कानून मंत्रालय से अनुरोध करता है कि वह उच्च न्यायालय के एक मौजूदा न्यायाधीश को न्यायाधिकरण के पीठासीन अधिकारी के रूप में नामित करे। 

PFI और उससे जुड़े संगठनों पर पांच साल का प्रतिबंध

इस पर, कानून मंत्री संबंधित उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से न्यायाधिकरण का नेतृत्व करने के लिए एक न्यायाधीश की सिफारिश करने का अनुरोध करते हैं। न्याय विभाग ने 3 अक्टूबर को एक कार्यालय ज्ञापन जारी किया था। सरकार ने 28 सितंबर को कड़े आतंकवाद निरोधी अधिनियम के तहत PFI और उससे जुड़े संगठनों पर पांच साल का प्रतिबंध लगाया गया था।

देश में शांति भंग करना और लोगों के मन में भय पैदा

गृह मंत्रालय ने PFI पर लगे आरोपों की लिस्ट जारी की है. बताया गया है कि पीएफआई पिछले कुछ सालों में देश के अलग-अलग राज्यों में हुई हत्याओं में शामिल रहा है. केरल में साल 2018 में अभिमन्यु, ए. संजीत, साल 2021 में ही नंदू की हत्या में इस संगठन का हाथ है। इसके अलावा वर्ष 2019 में तमिलनाडु में रामलिंगम, वर्ष 2016 में शशि कुमार, कर्नाटक में वर्ष 2017 में शरथ, वर्ष 2016 में आर. रुद्रेश, प्रवीण पुजारी और 2022 में प्रवीण नेट्टारू की निर्मम हत्याएं भी की गईं। इस संगठन द्वारा। इन हत्याओं का एकमात्र उद्देश्य देश में शांति भंग करना और लोगों के मन में भय पैदा करना था।