BREAKING NEWS

दिल्ली बॉर्डर सील मामले में SC ने तीनों राज्यों को NCR में आवागमन के लिए कॉमन नीति बनाने के दिए निर्देश◾वर्चुअल समिट में PM मोदी ने ऑस्ट्रेलिया के साथ भारत के संबंधों को मजबूत करने के लिए जाहिर की प्रतिबद्धता ◾राहुल के साथ बातचीत में राजीव बजाज ने कहा- लॉकडाउन से देश की अर्थव्यवस्था तबाह हो गई◾केरल में हथिनी की हत्या पर केंद्र गंभीर, जावड़ेकर बोले-दोषी को दी जाएगी कड़ी सजा◾कांग्रेस को मिल सकता है झटका,पंजाब विधानसभा चुनाव से पहले AAP का दामन थाम सकते हैं सिद्धू ◾World Corona : दुनियाभर में करीब 4 लाख लोगों ने गंवाई जान, संक्रमितों का आंकड़ा 65 लाख के करीब ◾देश में कोरोना से संक्रमितों की संख्या 2 लाख 17 हजार के करीब, अब तक 6000 से अधिक लोगों की मौत◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ऑस्ट्रेलिया के पीएम स्कॉट मॉरिसन आज वर्चुअल शिखर सम्मेलन में लेंगे हिस्सा◾US में वैश्विक महामारी का कहर जारी, संक्रमितों का आंकड़ा 18 लाख के पार ◾लद्दाख सीमा पर कम हुआ तनाव, गलवान और चुसूल में दोनों देश की सेनाएं पीछे हटीं◾नोएडा में भूकंप के झटके हुए महसूस , रिक्टर स्केल पर तीव्रता 3.2 मापी गई◾दिल्ली में कोरोना ने तोड़े सारे रिकॉर्ड, बीते 24 घंटों में 1513 नए मामले आये सामने ◾कोविड-19: अब तक 40 लाख से अधिक नमूनों की जांच की गई , 48.31 फीसदी मरीज स्वस्थ ◾महाराष्ट्र में 24 घंटे में कोरोना से 122 लोगों की मौत, संक्रमितों की संख्या 74,860 हुई◾गृह मंत्रालय ने विदेशी कारोबारियों, स्वास्थ्यसेवा पेशेवरों और इंजीनियरों को भारत आने की अनुमति दी ◾केंद्रीय मंत्रिमंडल के फैसलों पर पीएम मोदी बोले - किसानों की आय में होगी वृद्धि, बंदिशें हुई खत्म◾गुजरात में फैक्टरी की भट्ठी में भीषण विस्फोट, पांच की मौत, 40 कर्मी झुलसे ◾मुंबई में चक्रवाती तूफान निसर्ग का कहर खत्म, कम हुई हवाओं की रफ्तार◾महाराष्ट्र के रायगढ़ में निसर्ग तूफान ने मचाई तबाही, कई जगह गिरे पेड़ और बिजली के खंभे ◾मोदी कैबिनेट ने किसानों के हित में लिया बड़ा फैसला, वन नेशन-वन मार्केट पर की चर्चा◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली उच्च न्यायालय ने निजी स्कूल को फीस न भरने पर छात्रों का नाम काटने से रोका

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एयर फोर्स बाल भारती स्कूल को ट्यूशन फीस और अन्य शुल्क न चुकाने के लिए नौंवी कक्षा के ईडब्ल्यूएस श्रेणी के 10 छात्रों के नाम काटने से बुधवार को रोक दिया। न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने 10 छात्रों की याचिका पर अंतरिम आदेश दिया। छात्रों ने कहा कि स्कूल उन्हें फीस चुकाने या स्थानांतरण प्रमाणपत्र ले जाने के लिए कथित तौर पर विवश कर रहा है। 

अदालत ने याचिका पर स्कूल और दिल्ली सरकार से जवाब मांगे और इस पर सुनवाई के लिए अगले साल सात फरवरी की तारीख तय की। छात्रों ने वकील अशोक अग्रवाल के जरिए दायर की याचिका में दावा किया कि स्कूल ट्यूशन फीस और अन्य शुल्क न चुकाने पर उन्हें बर्खास्त करने की धमकी दे रहा है जबकि उन्हें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) श्रेणी के तहत आठवीं कक्षा के आगे और 12वीं कक्षा तक अपनी पढ़ाई जारी रखने का कानूनी अधिकार है। 

याचिका में कहा गया है कि यह स्कूल सरकारी जमीन पर बना है और दिल्ली के बच्चों को निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा अधिकार नियम 2011 के प्रावधानों के अनुसार, सरकारी जमीन पर बने निजी स्कूल आठवीं कक्षा के आगे और 12वीं कक्षा तक ईडब्ल्यूएस छात्रों को पढ़ने देने के लिए बाध्य है। 

इन छात्रों ने अकादमिक सत्र 2018-19 में आठवीं कक्षा पास कर ली और अब नौंवी कक्षा में पढ़ रहे हैं। ज्यादातर बच्चे निजामुद्दीन बस्ती में रहते हैं। छात्रों ने अपनी याचिका में कहा कि उनके माता-पिता ने मई में स्कूल को व्यक्तिगत तौर पर पत्र लिखा था जिसमें उनके बच्चों को ईडब्ल्यूएस श्रेणी के तहत 12वीं तक वहां पढ़ाई जारी रखने देने का अनुरोध किया था लेकिन प्रशासन से उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। 

बच्चों को 13 अगस्त को स्कूल से अंतिम चेतावनी मिली जिसमें उन्हें दो अकादमिक तिमाही के लिए फीस भरने या स्कूल से अपना नाम कटने के लिए तैयार रहने को कहा गया। छात्रों ने 13 अगस्त के पत्रों को लागू करने से स्कूल को रोकने के लिए निर्देश देने की अपील की।