BREAKING NEWS

राष्ट्रपति कोविंद और PM मोदी ने गुरु नानक जयंती की दी शुभकामनाएं◾भारत को गुजरात में बदलने के प्रयास : तृणमूल कांग्रेस सांसद ◾विदेश मंत्री एस जयशंकर ने अपने डच समकक्ष के साथ विभिन्न विषयों पर चर्चा की ◾महाराष्ट्र गतिरोध : राकांपा नेता अजित पवार राज्यपाल से मिलेंगे ◾महाराष्ट्र : शिवसेना का समर्थन करना है या नहीं, इस पर राकांपा से और बात करेगी कांग्रेस ◾महाराष्ट्र : राज्यपाल ने दिया शिवसेना को झटका, और वक्त देने से किया इनकार◾CM गहलोत, CM बघेल ने रिसॉर्ट पहुंचकर महाराष्ट्र के नवनिर्वाचित विधायकों से मुलाकात की ◾दोडामार्ग जमीन सौदे को लेकर आरोपों पर स्थिति स्पष्ट करें गोवा CM : दिग्विजय सिंह ◾सरकार गठन फैसले से पहले शिवसेना सांसद संजय राउत की तबीयत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती◾महाराष्ट्र: सरकार गठन में उद्धव ठाकरे को सबसे बड़ी परीक्षा का करना पड़ेगा सामना !◾महाराष्ट्र गतिरोध: उद्धव ठाकरे ने शरद पवार से की मुलाकात, सरकार गठन के लिए NCP का मांगा समर्थन ◾अरविंद सावंत ने दिया इस्तीफा, बोले- महाराष्ट्र में नई सरकार और नया गठबंधन बनेगा◾महाराष्ट्र में सरकार गठन पर बोले नवाब मलिक- कांग्रेस के साथ सहमति बना कर ही NCP लेगी फैसला◾CWC की बैठक खत्म, महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर शाम 4 बजे होगा फैसला◾कांग्रेस का महाराष्ट्र पर मंथन, संजय निरुपम ने जल्द चुनाव की जताई आशंका◾महाराष्ट्र में शिवसेना को समर्थन देने पर कांग्रेस-NCP ने नहीं खोले पत्ते, प्रफुल्ल पटेल ने दिया ये बयान◾BJP अगर वादा पूरा करने को तैयार नहीं, तो गठबंधन में बने रहने का कोई मतलब नहीं : संजय राउत◾महाराष्ट्र सरकार गठन: NCP ने बुलाई कोर कमेटी की बैठक, शरद पवार ने अरविंद के इस्तीफे पर दिया ये बयान ◾संजय राउत का ट्वीट- रास्ते की परवाह करूँगा तो मंजिल बुरा मान जाएगी◾शिवसेना सांसद अरविंद सावंत ने मंत्री पद से इस्तीफे की घोषणा की◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली उच्च न्यायालय ने निजी स्कूल को फीस न भरने पर छात्रों का नाम काटने से रोका

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एयर फोर्स बाल भारती स्कूल को ट्यूशन फीस और अन्य शुल्क न चुकाने के लिए नौंवी कक्षा के ईडब्ल्यूएस श्रेणी के 10 छात्रों के नाम काटने से बुधवार को रोक दिया। न्यायमूर्ति राजीव शकधर ने 10 छात्रों की याचिका पर अंतरिम आदेश दिया। छात्रों ने कहा कि स्कूल उन्हें फीस चुकाने या स्थानांतरण प्रमाणपत्र ले जाने के लिए कथित तौर पर विवश कर रहा है। 

अदालत ने याचिका पर स्कूल और दिल्ली सरकार से जवाब मांगे और इस पर सुनवाई के लिए अगले साल सात फरवरी की तारीख तय की। छात्रों ने वकील अशोक अग्रवाल के जरिए दायर की याचिका में दावा किया कि स्कूल ट्यूशन फीस और अन्य शुल्क न चुकाने पर उन्हें बर्खास्त करने की धमकी दे रहा है जबकि उन्हें आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) श्रेणी के तहत आठवीं कक्षा के आगे और 12वीं कक्षा तक अपनी पढ़ाई जारी रखने का कानूनी अधिकार है। 

याचिका में कहा गया है कि यह स्कूल सरकारी जमीन पर बना है और दिल्ली के बच्चों को निशुल्क और अनिवार्य शिक्षा अधिकार नियम 2011 के प्रावधानों के अनुसार, सरकारी जमीन पर बने निजी स्कूल आठवीं कक्षा के आगे और 12वीं कक्षा तक ईडब्ल्यूएस छात्रों को पढ़ने देने के लिए बाध्य है। 

इन छात्रों ने अकादमिक सत्र 2018-19 में आठवीं कक्षा पास कर ली और अब नौंवी कक्षा में पढ़ रहे हैं। ज्यादातर बच्चे निजामुद्दीन बस्ती में रहते हैं। छात्रों ने अपनी याचिका में कहा कि उनके माता-पिता ने मई में स्कूल को व्यक्तिगत तौर पर पत्र लिखा था जिसमें उनके बच्चों को ईडब्ल्यूएस श्रेणी के तहत 12वीं तक वहां पढ़ाई जारी रखने देने का अनुरोध किया था लेकिन प्रशासन से उन्हें कोई जवाब नहीं मिला। 

बच्चों को 13 अगस्त को स्कूल से अंतिम चेतावनी मिली जिसमें उन्हें दो अकादमिक तिमाही के लिए फीस भरने या स्कूल से अपना नाम कटने के लिए तैयार रहने को कहा गया। छात्रों ने 13 अगस्त के पत्रों को लागू करने से स्कूल को रोकने के लिए निर्देश देने की अपील की।