BREAKING NEWS

भ्रष्टाचार के मामले में 180 देशों में 80वें स्थान पर भारत◾अमित शाह ने केजरीवाल पर लगाया दिल्ली में दंगा भड़काने का आरोप ◾मैंने अपना भगवा रंग नहीं बदला है : उद्धव ठाकरे◾राज की मनसे ने अपनाया भगवा झंडा, घुसपैठियों को बाहर करने के लिए मोदी सरकार को समर्थन◾भाजपा नेता ने मोदी को चेताया, देश बढ़ रहा है दूसरे विभाजन की तरफ◾पासवान से मिला ब्राजील का प्रतिनिधिमंडल, एथेनॉल प्रौद्योगिकी साझेदारी पर बातचीत◾हिंदू समाज में साधु-संतों को ऐसी भाषा शोभा नहीं देती : अखिलेश◾पदाधिकारी पार्टी के खिलाफ सोशल मीडिया पर टिप्पणी करने से बचें : ठाकरे◾दिल्ली की जनता तय करे, कर्मठ सरकार चाहिए या धरना सरकार चाहिए : शाह◾वन्य क्षेत्रों में अनधिकृत कॉलोनियों को नियमित नहीं किया जा सकता : दिल्ली सरकार◾मानसिक दिवालियेपन से गुजर रहा है कांग्रेस नेतृत्व : नड्डा◾निर्भया के दोषियों से पूछा : आखिरी बार अपने-अपने परिवारों से कब मिलना चाहेंगे , तो नहीं दिया कोई जवाब !◾विपक्ष की तुलना पाकिस्तान से करना भारत की अस्मिता के खिलाफ : कांग्रेस◾ब्राजील के राष्ट्रपति 24-27 जनवरी तक भारत यात्रा पर रहेंगे, गणतंत्र दिवस परेड में होंगे मुख्य अतिथि◾उत्तर प्रदेश : किसानों के मुद्दे पर सड़क पर उतरेगी कांग्रेस ◾कश्मीर मुद्दे पर विदेश मंत्रालय ने कहा-किसी तीसरे पक्ष की कोई भूमिका नहीं◾निर्भया मामले में आरोपियों के खिलाफ डेथ वारंट जारी करने वाले जज का हुआ ट्रांसफर◾CM नीतीश की चेतावनी पर पवन वर्मा बोले- मुझे चिट्ठी का जवाब नहीं मिला◾भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा बोले- देश हित में लिए प्रधानमंत्री के फैसलों से देश में नई ऊर्जा एवं उत्साह पैदा हुआ◾नेताजी ने हिंदू महासभा की विभाजनकारी राजनीति का विरोध किया था : ममता बनर्जी◾

जनसंख्या विस्फोट से दिल्ली भी है त्रस्त

नई दिल्ली : देश की लगातार बढ़ती जनसंख्या पर बोलते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारे यहां बेतहाशा जनसंख्या विस्फोट हो रहा है। यह जनसंख्या विस्फोट हमारी आने वाली पीढ़ियों के लिए भी संकट पैदा कर रहा है। दिल्ली भी इस जनसंख्या विस्फोट से त्रस्त है। 2021 में अभी दिल्ली की जनसंख्या की गणना होनी है। लेकिन यह 100 सालों में 2 करोड़ से ऊपर जा चुकी है। प्राप्त आंकड़ों के हिसाब से 1911 में दिल्ली की जनसंख्या मात्र 4.14 लाख थी। 

1941 तक यहां के लोगों ने जनसंख्या पर काफी नियंत्रण किया हुआ था। 1941 में 9.18 लाख दिल्ली की जनसंख्या दर्ज की गई। लेकिन देश के आजाद होने के बाद जैसे जनसंख्या बढ़ोतरी में बाढ़ सी आनी शुरू हो गई। 1951 में 17.44 लाख जनसंख्या दिल्ली की दर्ज की गई। वास्तव में इस दशक में दिल्ली में लोगों की बढ़ने की संख्या पाकिस्तान बंटवारे के दौरान की है। उस समय बहुत पाकिस्तान से आने वाले रिफ्यूजियों की संख्या बहुत अधिक थी, उन सभी ने दिल्ली में शरण ली। यह उस हिसाब से बहुत अधिक थी और जो जनसंख्या यहां से बढ़नी शुरू हुई। 

उसने थमने का नाम ही नहीं लिया। जो 2011 में 1 करोड़ 67 लाख 88 हजार पर पहुंच गई थी। और अभी 2021 में जनसंख्या गणना होनी है। लेकिन अभी 2 करोड़ से ऊपर यहां की जनसंख्या दर्ज हो चुकी है। केवल 1950 के दशक में ही सबसे अधिक 6.42 की वार्षिक दर से दिल्ली में ​जनसंख्या बढ़ी। इसके अलावा प्रतिवर्ष दिल्ली में जनसंख्या 4.35 के औसत दर से जनसंख्या बढ़ी है।

जरूरी है परिवार नियोजन... लाल किले पर अपने दिए भाषण में प्रधानमंत्री ने इस समस्या की ओर संकेत किया है। दिल्ली के इन आंकड़ों को देखे तो इसके मद्देनजर परिवार नियोजन की आवश्यकता है। प्रधानमंत्री ने भी जनसंख्या नियंत्रण को भी देश भक्ति से जोड़ा है। इसलिए उन्होंने सीमित परिवार को समझाने वालों को बधाई का पात्र माना है। 

और यह जरूरी भी है। अब कुछ नहीं किया गया तो आगे कुछ नहीं किया जा सकेगा। इसलिए उन्होंने भी युवाओं से मांग की है कि आबादी नियंत्रण के लिए छोटे परिवार पर जोर दें। ताकि देश को समृद्ध बनाया जा सके।