BREAKING NEWS

PM मोदी आज वाराणसी में अखिल भारतीय शिक्षा समागम का करेंगे उद्घाटन ◾आज का राशिफल ( 07 जुलाई 2022)◾नकवी और आरसीपी सिंह ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से दिया इस्तीफा ; स्मृति ईरानी बनीं अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री, सिंधिया को मिला इस्पात मंत्रालय◾एकनाथ शिंदे ने शरद पवार से मुलाकात का किया खंडन ◾दक्षिणी राज्यों की चार दिग्गज हस्तियां राज्यसभा के लिये मनोनीत◾देवी काली विवाद : Twitter ने निर्देशक का Tweet हटाया, महुआ मोइत्रा के खिलाफ FIR दर्ज◾PM मोदी 12 जुलाई को देवघर में अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे, एम्स का करेंगे उद्घाटन ◾राष्ट्रपति ने नकवी और इस्पात मंत्री रामचंद्र प्रसाद सिंह के इस्तीफे को किया मंजूर◾Lalu Yadav Health : लालू को बेहतर उपचार के लिए दिल्ली के एम्स लाया जा रहा है - तेजस्वी ◾'भारत में रोजाना विमान संबंधी करीब 30 घटनाएं घटती हैं, अधिकतर में कोई सुरक्षा संबंधी परिणाम नहीं'◾ शिवसेना की टीम ठाकरे ने लोकसभा में बदला पार्टी का चीफ व्हिप, भावना गवली की जगह राजन विचारे हुए नामित◾COVID-19: कोविड-19 टीके की दूसरी एवं एहतियाती खुराक के बीच अंतराल घटाकर छह माह किया गया◾ Farooq Abdullah News: अपने घर रखना... 'हर घर तिरंगा' के सवाल पर फारूक अब्दुल्ला का अजीबों खरीब बयान◾Kerala resigns News: केरल के मंत्री साजी चेरियन ने मुख्यमंत्री को दिया अपना इस्तीफा, जानें- ऐसा क्यों किया? ◾ Rajasthan Politics: राजस्थान में चढ़ा सियासी पारा, अशोक गहलोत ने बताया क्यों कहते हैं सचिन पायलट को 'निकम्मा'◾LPG Price Hike: जनता के बजट पर महंगाई का बुलडोजर चला रही केंद्र....., कांग्रेस ने साधा BJP पर निशाना ◾Shiv Sena Crisis: शिंदे होंगे बाला साहेब के उत्तराधिकारी? बागी विधायक ने किया बड़ा दावा, जानें क्या कहा ◾ मुख्तार अब्बास नकवी और आरसीपी सिंह ने कैबिनेट पद से किया रिजाइन, PM मोदी से मुलाकात बाद लिया ये फैसला◾पीएम बोरिस जॉनसन की सरकार को जोरदार झटका! मंत्रियों ने छोड़े अपने पद, जानें- इसके पीछे की मिस्ट्री◾Umesh Kolhe murder case: अमरावती मर्डर का मास्टरमाइंड इरफान पहले भी जा चुका हैं जेल, रेप केस में हुई थी गिरफ्तार ◾

ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा से संबंधित मामलों की जांच करेगी दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच, एक्शन शुरू

दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले, आईटीओ और सात अन्य स्थानों पर हुई हिंसा से संबंधित मामलों की जांच करेगी। एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। अधिकारी ने कहा कि पुलिस 26 जनवरी को हुई हिंसा के संबंध में अब तक 33 प्राथमिकियां दर्ज कर चुकी है। 

हिंसा में 394 पुलिसकर्मी घायल हो गए थे और एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई थी। उन्होंने कहा कि 44 लोगों के खिलाफ ‘लुकआउट’ नोटिस जारी किये गये है। केन्द्र के तीन नये कृषि कानूनों को निरस्त करने की मांग को लेकर किसान यूनियनों की ट्रैक्टर परेड के दौरान 26 जनवरी को प्रदर्शनकारी किसानों की पुलिस के साथ झड़प हो गई थी। कई प्रदर्शनकारी लाल किले पहुंच गये थे। 

दिल्ली पुलिस की विशेष यूनिट्स क्राइम ब्रांच और स्पेशल सेल ने गणतंत्र दिवस के मौके पर राष्ट्रीय राजधानी में हुई हिंसा के सिलसिले में हिंसक प्रदर्शनकारियों और एफआईआर में नामजद लोगों के खिलाफ सबूत इकट्ठा करना शुरू कर दिया है। 

गणतंत्र दिवस पर किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा की कई वीडियो और सीसीटीवी फुटेज सामने आई हैं। पुलिस ने अब विरोध के दिन पुलिसकर्मियों की ओर बनाई गई वीडियो रिकॉर्डिग एकत्र करना शुरू कर दिया है और इसके साथ ही विभिन्न टेलीविजन चैनलों पर प्रसारित फुटेज के अलावा अन्य लोगों के मोबाइल में बनाई गई वीडियो और खींची गई तस्वीरों को खंगालना शुरू कर दिया है। 

प्रस्तावित ट्रैक्टर रैली के दौरान प्रदर्शनकारी किसानों के एक गुट की ओर से गणतंत्र दिवस पर हिंसा देखने को मिली थी। उन्हें रोकने की कोशिश कर रही पुलिस के साथ उनकी हिंसक झड़प भी हुई, जिसमें कम से कम 394 पुलिसकर्मी घायल हो गए। लाठी के साथ ही भाले और तलवार लिए प्रदर्शनकारियों में से कई ने पुलिस पर हमला किया, जिसके बाद घायलों को राष्ट्रीय राजधानी के विभिन्न अस्पतालों में भर्ती कराया गया। 

प्रदर्शनकारियों और पुलिसकर्मियों के बीच हिंसक झड़प की सूचना आईटीओ, लाल किला, नांगलोई, मुकरबा चौक, गाजीपुर और एनएच-24 से भी मिली। इससे पहले दिल्ली पुलिस आयुक्त एस.एन. श्रीवास्तव ने कहा कि हिंसा करने वालों की पहचान के लिए चेहरा पहचानने वाली तकनीक (एफआरटी) का प्रयोग किया जाएगा। 

डीसीपी भी अपने क्षेत्रों में हिंसा के सबूतों पर कड़ी नजर रखते रहे हैं। डीसीपी (पूर्व) दीपक यादव ने कहा, "गैरकानूनी कामों में शामिल सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।"अस्पतालों में भर्ती घायल पुलिसकर्मी भी मामले में मुख्य गवाह होंगे। 

दिल्ली पुलिस ने हिंसा के संबंध में एफआईआर में नामित किसान नेताओं के खिलाफ एक लुकआउट सर्कुलर भी जारी किया है। अधिकारियों ने यह भी कहा कि वे यह सुनिश्चित करेंगे कि हिंसा के आरोपी देश छोड़कर न जा पाए।