BREAKING NEWS

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा- धर्म, संस्कृति व राष्ट्र रक्षा के प्रति आग्रही बनाती है सिख गुरुओं की परंपरा◾सरकार का बड़ा ऐलान: मदरसों में आठवीं तक के छात्रों को नहीं मिलेगी छात्रवृत्ति◾खट्टर ने केजरीवाल को लिया आड़े हाथ, कहा- जैन को नहीं हटाया तो... कोर्ट या फिर लोग हटा देंगे◾सांप्रदायिक आधार पर प्रचार कर रही BJP, देश को आगे ले जाने का नहीं है कोई विजन : खड़गे◾दहशत में राष्ट्रीय राजधानी, स्कूल को ईमेल से मिली बम की धमकी, जांच में जुटा प्रशासन ◾गोवा में ड्रग्स का कहर, भाजपा विधायक बोले- राज्य में नए तस्कर आ रहे हैं ◾गहलोत द्वारा पायलट को 'गद्दार' कहे जाने पर बोले राहुल-दोनों नेता कांग्रेस की संपत्ति◾पांडव नगर हत्याकांड : खून बहने के लिए गला काटकर छोड़ा शव, फिर किए 10 टुकड़े◾पश्चिम बंगाल : CM ममता बनर्जी कर सकती हैं दो नए जिलों की आधिकारिक घोषणा ◾Vijay Hazare Trophy: रुतुराज गायकवाड़ का धमाल, एक ओवर में सात छक्के जड़कर बनाया वर्ल्ड रिकॉर्ड◾CM अरविंद केजरीवाल ने किया दावा, कहा- गुजरात में मिल रहा है महिलाओं और युवाओं का भारी समर्थन ◾इस्लामिक कट्टरपंथियों का एजेंडा बेनकाब, महिला के जबरन धर्मांतरण की कोशिश के आरोप में 3 लोगों पर केस दर्ज◾Gujarat Polls: भाजपा को झटका! पूर्व मंत्री जयनारायण व्यास ने थामा कांग्रेस का दामन ◾चीन : राष्ट्रपति शी जिनपिंग की जीरो-कोविड नीति को लेकर हिंसक हुआ विरोध प्रदर्शन, 'आजादी-आजादी' के लगे नारे ◾Border dispute: सीएम बोम्मई जाएंगे दिल्ली, महाराष्ट्र सीमा विवाद पर नड्डा, शीर्ष अधिवक्ता से करेंगे मुलाकात◾गुजरात : कांग्रेस खेमे में गए BJP के पूर्व मंत्री, टिकट कटने से नाराज जयनारायण व्यास ने छोड़ी पार्टी◾लोकप्रिय लेखक चेतन भगत को आपत्तिजनक टिप्पणी के बाद उर्फी जावेद ने लिया निशाने पर◾दिल्ली : मां-बेटे ने पिता की हत्या कर फ्रिज में रखा शव, नाले और रामलीला मैदान में फेंके टुकड़े◾मोतियाबिंद के ऑपरेशन के बाद चली गई लोगों की आंखों की रोशनी, प्रशासन ने नेत्र शिविरों पर लगाई रोक◾कांग्रेस अध्यक्ष का PM मोदी पर हमला, कहा-‘लोग आपकी चाय तो पीते हैं, मेरी तो पीते ही नहीं’◾

दिल्ली: PUC उल्लंघन पर पुलिस ने एक से 17 नवंबर के बीच 3446 चालान किए

देश की राजधानी दिल्ली में पिछले काफी दिनों से हवा का स्तर बेहद ही खराब श्रेणी में बना हुआ है। ऐसे में एक आंकड़ा सामने आया है, जिसने सबको हैरान कर दिया है। दिल्ली में बिगड़ती वायु गुणवत्ता के बीच, दिल्ली परिवहन विभाग ने वैध पीयूसी (प्रदूषण नियंत्रण) प्रमाण पत्र के बिना वाहन मालिकों को दंडित करने के लिए प्रवर्तन अभियान तेज कर दिया है और एक से 17 नवंबर के बीच 3.5 करोड़ रुपये से अधिक के लगभग 3,500 चालान जारी किए गए हैं। 

आधिकारिक आंकड़े बताते हैं कि अक्टूबर में विभाग की प्रवर्तन शाखा के दस्तों ने 8,25,681 वाहनों की जांच की और 9.5 करोड़ रुपये से अधिक के 9,522 चालान जारी किए। इसके अलावा इसी महीने में आठ लाख से अधिक प्रदूषण नियंत्रण (पीयूसी) प्रमाण पत्र जारी भी किए गए। 

शहर में बिना वैध पीयूसी प्रमाण पत्र के लगभग 17.71 लाख वाहन चल रहे थे 

मोटर वाहन अधिनियम 1993 के अनुसार, वैध पीयूसी प्रमाण पत्र नहीं रहने पर वाहन मालिकों का धारा 190 (2) के तहत चालान किया जा सकता है, जिसके लिए छह महीने तक की कैद या 10,000 रुपये तक का जुर्माना या दोनों हो सकते हैं। इसके साथ ही चालक तीन महीने के लिए अपना ड्राइविंग लाइसेंस भी गंवा सकता है। 

परिवहन विभाग के आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, अक्टूबर के मध्य तक शहर में बिना वैध पीयूसी प्रमाण पत्र के लगभग 17.71 लाख वाहन चल रहे थे। दिल्ली में कुल 1.34 करोड़ पंजीकृत वाहन हैं। जिन वाहनों के लिये पीयूसी प्रमाण पत्र नहीं था उनमें अधिकतर दोपहिया (लभगग 13 लाख) थे, जबकि 4.20 लाख चार पहिया वाहन परिवहन विभाग के डेटाबेस के अनुसार वैध प्रमाण पत्र के बिना पाए गए। 

अगस्त में रोजाना करीब 10,000 पीयूसी प्रमाणपत्र जारी किए गए  

आंकड़े दर्शाते हैं कि प्रवर्तन दस्तों ने 17 नवंबर तक वाहनों के वैध पीयूसी का पालन न करने के लिए 3,446 चालान जारी किए। नवंबर में इस अवधि के दौरान 3.34 लाख से अधिक पीयूसी प्रमाण पत्र भी जारी किए गए। परिवहन विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, “हमने ईंधन स्टेशनों और चिन्हित चौराहों जैसे सुविधाजनक स्थानों पर 50 से अधिक टीमों को तैनात किया है। पीयूसी अनुपालन बढ़ाने के लिए टीमों द्वारा प्रवर्तन और जागरूकता दोनों कार्य किए जा रहे हैं।” 

कांग्रेस इन तीन राज्यों में दिसंबर तक करेगी उम्मीदवारों का ऐलान, सियासी जमीन मजबूत करने का मिलेगा वक्त

शहर में करीब 1,000 अधिकृत पीयूसी जांच केंद्र हैं, जिन्होंने सितंबर में 5.44 लाख प्रमाण पत्र जारी किए थे। परिवहन विभाग द्वारा प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों के खिलाफ अभियान शुरू करने के बाद से यह संख्या काफी बढ़ गई है। अधिकारियों ने कहा कि अगस्त में रोजाना करीब 10,000 पीयूसी प्रमाणपत्र जारी किए गए और सितंबर में खराब वायु गुणवत्ता के बाद से इनकी संख्या बढ़ने लगी। 

परिवहन विभाग के डेटाबेस के अनुसार, सितंबर के मध्य से पीयूसी प्रमाण पत्र जारी करने का दैनिक औसत बढ़कर लगभग 20,000 हो गया। परिवहन विभाग द्वारा शुरू किए गए अभियान ने अक्टूबर के दूसरे सप्ताह से संख्या को बढ़ाकर लगभग 38,000 प्रति दिन कर दिया। यह वर्तमान में प्रतिदिन 30,000 से अधिक की है।