BREAKING NEWS

महाराष्ट्र में लॉकडाउन बढ़ाए जाने के बाद शरद पवार ने CM उद्धव ठाकरे से की मुलाकात ◾दिल्ली में कोविड-19 के 1163 नए मामले की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 18 हजार को पार◾देशभर में 30 जून तक बढ़ा लॉकडाउन, 8 जून से रेस्टोरेंट, मॉल और धार्मिक स्थल खोलने की मिली अनुमति ◾लॉकडाउन, अनुच्छेद 370 खत्म करना, राम मंदिर ट्रस्ट बड़ी उपलब्धियों में शामिल : गृह मंत्रालय ◾हिन्दुस्तान में बहुत सारे लोग कष्ट में हैं और भाजपा सरकार जश्न मना रही है : प्रियंका गांधी वाड्रा ◾लद्दाख सीमा तनाव पर रक्षामंत्री बोले- चीन से डिप्लोमैटिक और मिलिट्री लेवल पर चल रही है बातचीत ◾लॉकडाउन 5.0 लागू करने पर पीएमओ में महामंथन, गृहमंत्री अमित शाह ने की पीएम मोदी से मुलाकात◾कोरोना के बढ़ते केसों से घबराएं नहीं, महामारी से चार कदम आगे है आपकी सरकार : CM केजरीवाल◾मोदी सरकार 2.0 की पहली वर्षगांठ पर कांग्रेस ने कसा तंज, ‘बेबस लोग, बेरहम सरकार’ का दिया नारा ◾मोदी जी की इच्छा शक्ति की वजह से सरकार ने साहसिक लड़ाई लड़ी एवं समय पर निर्णय लिये : नड्डा ◾कोविड-19 पर पीएम मोदी का आह्वान - 'लड़ाई लंबी है लेकिन हम विजय पथ पर चल पड़े हैं'◾दिल्ली में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले को लेकर कांग्रेस, भाजपा के निशाने पर केजरीवाल सरकार◾राम मंदिर , सीएए, तीन तलाक, धारा 370 जैसे मुद्दों का हल दूसरे कार्यकाल की प्रमुख उपलब्धियां : PM मोदी ◾बीस लाख करोड़ रूपये का आर्थिक पैकेज ‘आत्मनिर्भर भारत’ की दिशा में बड़ा कदम : PM मोदी◾Coronavirus : दुनियाभर में वैश्विक महामारी का खौफ जारी, संक्रमितों की संख्या 60 लाख के करीब ◾कश्मीर के कुलगाम में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में दो आतंकवादी मारे गए◾कोविड-19 : देश में अब तक 5000 के करीब लोगों की मौत, संक्रमितों का आंकड़ा 1 लाख 73 हजार के पार ◾मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल का एक वर्ष पूरे होने पर अमित शाह, नड्डा सहित कई नेताओं ने दी बधाई◾PM मोदी का देश की जनता के नाम पत्र, कहा- कोई संकट भारत का भविष्य निर्धारित नहीं कर सकता ◾लद्दाख के उपराज्यपाल आर के माथुर ने गृहमंत्री से की मुलाकात, कोरोना के हालात की स्थिति से कराया अवगत◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

दिल्ली हिंसा : डर-डर कर बीती सोमवार की रात, खौफ में हैं लोग

पूर्वी दिल्ली के अशांत भजनपुरा और यमुना विहार इलाकों में दंगाइयों ने सोमवार की रात और मंगलवार की सुबह जो कहर बरपाया उससे इलाके के लोग बुरी तरह से दहशत में हैं । इलाके में रह रहे लोगों पर यह रात बहुत भारी बीती । वे इतने खौफजदा हैं कि घटना का ब्यौरा देते हुए उनके चेहरे पीले पड़ जा रहे हैं और वे हाथ जोड़कर उनका नाम न छापने की अपील कर रहे हैं । 

हिंसक माहौल में फंसे एक बुजुर्ग को अपनी जान बख्श देने के लिए दंगाइयों के हाथ तक जोड़ने पड़े । यह बुजुर्ग अस्पताल से लौट रहे थे जहां उनका पोता भर्ती है। यमुना विहार के सी ब्लॉक में रहने वाले इस बुजुर्ग व्यक्ति ने आपबीती कुछ इस तरह सुनाई, ‘‘मैं गंगाराम अस्पताल से लौट रहा था जहां मेरा पोता भर्ती है। घर वापस पहुंचना बहुत मुश्किल था। मुझे सड़क पर हर कदम पर दंगाइयों से अपनी जान की भीख मांगनी पड़ी। ’’ उन्होंने कहा, ‘‘केवल मैं जानता हूं कि मैं घर कैसे लौटा !’’ 

भजनपुरा में सोमवार को एक पेट्रोल पंप भी जला दिया गया। स्थानीय लोगों ने बताया कि भीड़ मुख्य सड़कों के साथ ही गलियों तक में घुस आई थी जबकि सुरक्षाकर्मी केवल उस मुख्य सड़क पर ही तैनात थे जो एक तरफ से भजनपुरा, रोहिणी जाती है तो दूसरी तरफ से गोकलपुरी फलाईओवर के जरिए लोनी, गाजियाबाद जाती है। 

यमुना विहार के एक अन्य निवासी ने नाम उजागर न करने का आग्रह करते हुए कहा, ‘‘फोर्स कम है। वे वहां हैं भी, तो भी कुछ नहीं कर रहे...मेरी समझ में नहीं आ रहा कि क्यों?’’ भीड़ ने बाजारों में तोड़फोड़ की, दुकानों को आग लगा दी, लोगों के हुजूमों ने कुछ लोगों के घरों को घेर लिया, मुख्य द्वारों पर लाठी-डंडों और पत्थरों से हमला किया। 

उन्होंने कहा, ‘‘मेरे पड़ोस में रात को करीब 200 लोगों की भीड़ ने एक परिवार के घर को घेर लिया। उस परिवार के लोग मदद के लिए चिल्लाते रहे । हमें भी पुकारा, पुलिस को भी बुलाया लेकिन कोई भी उनकी मदद नहीं कर सका।’’ यमुना विहार के एक जाने-माने व्यक्ति ने कहा, ‘‘आज सुबह उस परिवार ने मुझे हमले की एक फुटेज दिखाई जो उनके सीसीटीवी में कैद हो गई थी। यह भयावह है। यहां हर कोई डरा हुआ है।’’ 

इस व्यक्ति ने भी अपना नाम उजागर न करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि उनका नाम उजागर होने से उनका परिवार भी परेशानी में पड़ सकता है। उत्तर पूर्वी दिल्ली के मौजपुर, जाफराबाद, बाबरपुर, भजनपुरा, यमुना विहार और चांदबाग क्षेत्रों में सोमवार से हिंसा में कम से कम सात लोग मारे जा चुके हैं। उल्लेखनीय है कि इलाके में संशोधित नागरिकता कानून को लेकर हिंसक प्रदर्शन हो रहे हैं ।