BREAKING NEWS

हैदराबाद गैंगरेप: जिस फ्लाईओवर के नीचे जिंदा जलाई गई थी डॉक्टर, उसी जगह मारे गए आरोपी◾हैदराबाद गैंगरेप: आरोपियों के एनकाउंटर पर पीड़िता के परिवार का बयान, कहा- 'न्याय मिला'◾हैदराबाद गैंगरेप केस के चारों आरोपियों को पुलिस ने मुठभेड़ में मार गिराया◾झारखंड चुनाव : बिना 'कप्तान' के मैदान में डटे JDU के 'खिलाड़ी' मायूस!◾भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि पर उपराष्ट्रपति, पीएम मोदी और अमित शाह ने दी श्रद्धांजलि◾थानों में महिला हेल्प डेस्क की स्थापना के लिए 100 करोड़ रुपये आवंटित◾कर्नाटक उपचुनाव में 62.18 प्रतिशत मतदान, 12 सीटों पर त्रिकोणीय मुकाबला ◾प्याज को लेकर भाजपा सांसद ने कांग्रेस पर कसा तंज ◾मोदी को तानाशाह के रूप में बदनाम करने की साजिश : स्वामी◾आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री पहुंचे दिल्ली, मिलेंगे प्रधानमंत्री एवं केंद्रीय मंत्रियों से ◾उन्नाव बलात्कार पीड़िता दिल्ली हवाई अड्डे पहुंची, पुलिस ने अस्पताल तक बनाया ग्रीन कॉरीडोर ◾अनुच्छेद 370 : लाइव स्ट्रीमिंग संबंधी याचिका पर सुनवाई करेगा सुप्रीम कोर्ट◾हफ्ते भर बाद भी मंत्रियों को नहीं मिला विभाग, भाजपा ने की आलोचना ◾बैंक धोखाधड़ी : ईडी ने रतुल पुरी की जमानत अर्जी का किया विरोध◾राहुल गांधी ने प्याज पर सीतारमण के बयान को लेकर तंज कसा ◾TOP 20 NEWS 05 December : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾PNB घोटाला : नीरव मोदी भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित ◾DTC और क्लस्टर बसों में लगेंगे CCTV कैमरे, पैनिक बटन, GPS : केजरीवाल ◾मायावती ने केंद्र द्वारा लाए गए नागरिकता संशोधन विधेयक को बताया विभाजनकारी और असंवैधानिक◾चिदंबरम ने पहले ही दिन जमानत की शर्तों का उल्लंघन किया: प्रकाश जावड़ेकर◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

दिल्ली के अस्पताल : दवाओं पर उठे सवाल

 medicines

नई दिल्ली : दिल्ली सरकार के अरुणा आसफ अली अस्पताल में ग्लूकोज की बोतल में फंगस मिलने का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि दिल्ली ड्रग कंट्रोल विभाग ने एक और बड़ा खुलासा किया है। इसके अनुसार विभाग द्वारा पिछले छह महीने में किए गए जांच में दिल्ली के तीन अस्पतालों और एक जिला मेडिकल स्टोर में दवाएं गुणवत्ता से कमतर मिली हैं। वहीं राजधानी की तीन दुकानों पर नकली दवाएं भी पकड़ी गई हैं।

दिल्ली ड्रग कंट्रोलिंग अथॉरिटी एके नासा बताते हैं कि दिल्ली ड्रग कंट्रोलर एके कौशल के नेतृत्व में पिछले छह महीने में विभाग ने 51 स्पेशल इंस्पेक्शन कार्यक्रम चलाए। इसमें 609 डीलरों और रिटेलरों की जांच की गई। इसमें 144 में फार्मासिस्टों की अनुपस्थिति, बिना पर्ची के आदत बनाने वाली दवाएं बेचने और कैशमेमो नहीं देने जैसी गलतियां पाई गईं। जिसके लिए गलतियों के अनुसार उनके लाइसेंस को सस्पेंड भी किया गया।

इसके अलावा विभाग ने इस दौरान 390 लीगत सैंपल लिए गए, जिन्हें लॉरेंस रोड स्थित सरकार के लैब में जांच के लिए भेजा गया। वहीं दवाओं की क्वालिटी जांच के लिए 1073 सर्वे सैंपल लिए गए। इनमें से आठ दवाएं अपनी घोषित गुणवत्ता से कम मिलीं। खास बात यह है कि इनमें से तीन दवाएं सरकारी अस्पताल से और एक जिला मेडिकल स्टोर से ली गई थीं। इसके साथ ही 45 दवाओं की सपेसीमीन सैंपल लिए गए। इनमें से तीमारपुर स्थित दो और भागीरथ पैलेस स्थित एक दवा दुकान से नकली दवा पकड़ी गई। इनके खिलाफ मामला दर्ज कराया जाएगा।

- विकास कुमार