BREAKING NEWS

Today's Corona Update : देश में कोरोना संक्रमण के सामने आए 15,510 नए मामले, 106 मरीजों की मौत◾दुनिया में कोरोना मरीजों की संख्या 11.4 करोड़ से अधिक, 25.3 लाख से ज्यादा मरीजों की मौत◾डोनाल्ड ट्रंप ने किया बड़ा ऐलान, कहा- नई पार्टी शुरू करने की योजना नहीं, रिपब्लिकन का दूंगा साथ ◾देश में आज से कोरोना वैक्सीन का दूसरा चरण शुरू, 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को लग रहा है टीका ◾TOP - 5 NEWS 01 MARCH : आज की 5 सबसे बड़ी खबरें◾PM मोदी ने एम्स में लगवाई कोरोना वैक्सीन, देश को कोविड-19 से मुक्त बनाने की अपील की ◾वैज्ञानिक नवाचार के लिए हब के रूप में उभर रहा भारत : जितेंद्र सिंह ◾कोरोना योद्धाओं के प्रति कृतज्ञता व्यक्त करने के लिए शब्द नहीं : हर्षवर्धन◾राज्य, जिलों को कोविड-19 टीकाकरण केंद्रों का पूर्व पंजीकरण को-विन 2.0 पर कराना होगा ◾वाम, कांग्रेस व आईएसएफ गठबंधन ने जनहित सरकार पर दिया जोर, पहले दिन दिखी दरार ◾अमित शाह ने तमिलनाडु, पुडुचेरी में तमिल भाषा और संस्कृति की सराहना की ◾जम्मू-कश्मीर : फारूक अब्दुल्ला का बड़ा बयान, बोले- चाहता हूं कांग्रेस मजबूत हो◾कृषि कानून वापस नहीं होगा तब तक किसानों का आंदोलन जारी रहेगा : राकेश टिकैत◾गणतंत्र दिवस हिंसा के लिए केजरीवाल ने केंद्र को ठहराया जिम्मेदार, कहा- तीनों कृषि कानून किसानों के डेथ वारंट◾महाराष्ट्र सरकार के वन मंत्री संजय राठौड़ ने दिया इस्तीफा, टिकटॉक स्टार की आत्महत्या के बाद उठ रहे थे सवाल◾भाजपा के शासन में अमीरी-गरीबी की खाई बढ़ी, कांग्रेस सत्ता में आएगी तो न्याय योजना को किया जाएगा लागू : राहुल◾किसान आंदोलन को धार देने की जुगत में लगी BKU, मार्च महीने में होगी दर्जन भर महापंचायत◾ मन की बात के कार्यक्रम में मोदी ने तमिल भाषा न सीख पाने को बताया अपनी कमी◾BJP अध्यक्ष नड्डा 2 दिवसीय दौरे पर पहुंचे वाराणसी, CM योगी समेत कई पार्टी नेताओं ने किया स्वागत◾मन की बात : PM मोदी बोले- जल सिर्फ जीवन ही नहीं, आस्था और विकास की धारा भी◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

गाजीपुर विरोध स्थल पर भारी पुलिस बल की तैनाती, टिकैत बोले - आंदोलन नहीं रुकेगा

दिल्ली-उत्तर प्रदेश की गाजीपुर सीमा पर सुरक्षाकर्मियों की भारी तैनाती की गई है, जहां उत्तर प्रदेश के किसान पिछले दो महीनों से तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे हैं। 

इस बीच, भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के प्रवक्ता राकेश टिकैत भी साइट पर नजर आए और कहा कि साइट से पानी और बिजली की आपूर्ति बाधित करने के मुद्दे को प्रशासन के समक्ष उठाएंगे। टिकैत को 26 जनवरी की हिंसा के लिए दिल्ली पुलिस की एफआईआर में नामित किया गया है। टिकैत ने 'किसान गणतंत्र परेड' के दौरान भी अपनी उपस्थिति दर्ज कराई थी। 

गुरुवार दोपहर को दिल्ली पुलिस, उत्तर प्रदेश पुलिस, केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल(सीआरपीएफ)और क्षेत्र में रैपिड एक्शन फोर्स की भारी तैनाती थी। पुलिस ने गाजीपुर के विरोध स्थल पर निगरानी के लिए ड्रोन को भी काम पर लगाया है, जहां किसान पिछले साल नवंबर से तीनों कृषि कानूनों के विरोध में धरने पर बैठे हैं। 

मीडिया को संबोधित करते हुए टिकैत ने कहा, "मैं पुलिस और प्रशासन से मिलूंगा क्योंकि उन्होंने बिजली की आपूर्ति में कटौती की है और कल रात से पीने के पानी की सुविधा भी बंद कर दी गई है और इसकी आपूर्ति नहीं होने पर हमारा आंदोलन प्रभावित हो जाएगा।"

भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने गुरुवार को कहा कि उत्तर प्रदेश पुलिस आंदोलनकारी किसानों को गिरफ्तार करने के लिए आई है। टिकैत को गणतंत्र दिवस पर 'किसान गणतंत्र परेड' के दौरान हुई हिंसा के सिलसिले में दिल्ली पुलिस की एफआईआर में नामजद किया गया है। 

गाजीपुर धरना स्थल पर टिकैत ने कहा, "उत्तर प्रदेश पुलिस हमें गिरफ्तार करने की कोशिश कर रही है। यहां तक कि सुप्रीम कोर्ट ने भी शांतिपूर्ण प्रदर्शन का समर्थन किया है। गाजीपुर के विरोध स्थल पर कोई हिंसा नहीं हुई।"उन्होंने कहा, "गाजीपुर विरोध स्थल पर कोई हिंसा नहीं होने के बावजूद सरकार किसानों के आंदोलन को कुचलने की कोशिश कर रही है। उत्तर प्रदेश सरकार का असली चेहरा यही है।"

गाजीपुर विरोध स्थल पर पुलिस और सुरक्षा कर्मियों की भारी तैनाती के बाद उनकी यह टिप्पणी आई है। टिकैत ने यह भी जोर देकर कहा कि किसी भी किसान ने भारतीय राष्ट्रीय ध्वज का अनादर नहीं किया है। उन्होंने पंजाबी अभिनेता दीप सिद्धू के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की मांग की, जो लाल किले की प्राचीर पर झंडा फहराने वालों में शामिल थे। 

टिकैत ने कहा कि पंजाब में लोगों ने सिद्धू का बहिष्कार किया है। उन्होंने कहा, "किसानों के प्रदर्शन को समाप्त करने के लिए एक साजिश रची जा रही है। भाजपा किसानों के विरोध को खत्म करने के लिए हिंसा में लिप्त है।"गाजियाबाद के जिलाधिकारी और कई अन्य वरिष्ठ अधिकारी गाजीपुर के किसान विरोध स्थल पर पहुंचे हैं। 

-