BREAKING NEWS

विदेश सचिव श्रृंगला ने अफगानिस्तान मामलों के यूरोपीय संघ के विशेष दूत से मुलाकात की◾ममता के बयान पर वेणुगोपाल का पलटवार, बोले- यह महज एक सपना है..कि कांग्रेस के बिना BJP को हरा सकते है◾मुंबई हवाई अड्डे पर पहुंचने वाले घरेलू यात्रियों को RTPCR की निगेटिव रिपोर्ट लेकर आना अनिवार्य : BMC ◾PM मोदी के कुशल नेतृत्व के चलते भारत आज वैश्विक अर्थव्यवस्था में एक ‘‘ब्राइट स्पॉट’’ के रूप में उभर रहा है: BJP◾पंजाब इलेक्शन से पहले SAD को लगा झटका, मनजिंदर सिंह सिरसा ने थामा BJP का कमल◾केजरीवाल के पेट्रोल की कीमतों पर देर से लिए फैसले से दिल्ली वासियों को करोड़ों रुपये का नुकसान हुआ : मनोज तिवारी◾कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों की सुरक्षा पर केंद्र ने झाड़ा पल्ला, कहा- इसकी जिम्मेदारी राज्य सरकारों की◾प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जागरूकता मिशन की शुरुआत करेंगे ‘गोल्डन ब्वाय’ नीरज चोपड़ा ◾'ओमिक्रोन' के चलते सरकार ने पीछे खींचे अपने कदम, 15 दिसंबर से शुरू नहीं होंगी अंतर्राष्ट्रीय उड़ानें◾सरकार ने राज्यसभा में बताया- देश में नक्सली हिंसा की घटनाओं में 70 फीसदी की आई कमी ◾किसानों की मौत के 'जीरो' रिकॉर्ड पर भड़की कांग्रेस, खड़गे बोले-यह किसानों का अपमान◾जम्मू-कश्मीर में आतंकी घटनाओं में आई बड़ी गिरावट, सरकार ने राज्यसभा में बताया पिछले एक साल में इतने जवान हुए शहीद ◾UP चुनाव : BJP ने खेला धार्मिक कार्ड, केशव मौर्य का नारा 'अयोध्या-काशी.... जारी, अब मथुरा की तैयारी' ◾अखिलेश का BJP पर कटाक्ष, बोले- जिनके पास परिवार नहीं है, वे जनता का दर्द नहीं समझ सकते ◾दिल्ली में 8 रुपए सस्ता हुआ पेट्रोल, केजरीवाल सरकार ने VAT में कटौती का किया ऐलान◾SKM का दावा '700 से ज्यादा किसानों ने गंवाई जान', तोमर बोले- सरकार के पास मौतों का कोई रिकॉर्ड नहीं...◾4 दिसंबर को होगी SKM की अहम बैठक, रणनीति को लेकर होगी बड़ी घोषणा, टिकैत बोले- आंदोलन रहेगा जारी ◾मप्र में शिवराज सरकार के लिए मुसीबत का सबब बने भाजपा के नेताओं के विवादित बयान ◾निलंबन के खिलाफ महात्मा गांधी की प्रतिमा के सामने विपक्ष का प्रदर्शन, राहुल समेत कई नेता हुए शामिल ◾EWS वर्ग की आय सीमा मापदंड पर केंद्र करेगी पुनर्विचार, SC की फटकार के बाद किया समिति का गठन ◾

सीएम बनना तो दूूर, चुनाव प्रबंधन समिति तक में नहीं मिली तवज्जो

नई दिल्ली : प्रदेश भाजपा ने दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर प्रबंधन समिति 2020 की घोषणा कर दी है। जिसमें विजय गोयल को केवल सभी रचनात्मक कार्यों का संयोजक बनाया गया है। देखने वाली बात यह है कि उन्हें चुनाव प्रबंधन समिति और घोषणा पत्र समिति में स्थान नहीं दिया गया। इन समितियों में तरुण चुघ और डॉ. हर्षवर्धन को जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिनसे विजय गोयल कहीं ज्यादा अनुभवी हैं। ऐसा सिर्फ संगठन ने उनकी हरकतों को देखते हुए किया है। 

इसका सीधा सा मतलब राजनीतिक गलियारे में यह भी लगाया जा रहा है कि प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी ने भी ठीक उसी तरह से अपना काम कर दिया, जिस तरह से विजय गोयल तिवारी को एक आंख देखना पसंद नहीं करते हैं। यूं भी विजय गोयल ने कभी किसी दूसरे प्रदेश अध्यक्ष को स्वीकार नहीं किया। बेशक विपक्ष और कार्यकर्ताओं को दिखाने के लिए विजय गोयल संगठन के कार्यक्रमों में शिरकत करते हों, लेकिन मंच पर एक साथ उनका बैठना मजबूरी बन जाता है। 

इसके अलावा तो तिवारी को कार्यक्रम में आते और गोयल को जाते ही देखा जाता है। महत्वाकांक्षी विजय गोयल यूं तो दिल्ली में मुख्यमंत्री का चेहरा बनना चाहते हैं, लेकिन उन्होंने मनोज तिवारी का पत्ता काटकर खुद प्रदेश अध्यक्ष बनने में भी कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। दिल्ली में संगठन के सामानांतर कार्यक्रम कर वे खुद को केन्द्रीय संगठन के समक्ष मजबूती से पेश करने का कोई भी मौका नहीं छोड़ते हैं, लेकिन फिलहाल मोदी-शाह की जोड़ी ने उन्हें तवज्जो नहीं दी।

बताया जाता है कि लोकसभा चुनाव से पूर्व तालकटोरा स्टेडियम में आयोजित व्यापारी सम्मेलन को कैश करने के लिए ही विजय गोयल ने अपने बलबूते कार्यक्रम कर प्रधानमंत्री को बुलवाया था, लेकिन उसका कोई लाभ उन्हें नहीं हुआ। दरअसल गोयल इस कार्यक्रम के बदले अपना दमखम दिखाकर लोकसभा चुनाव में टिकट पाने का पैंतरा चल रहे थे, लेकिन उनकी एक न चल सकी। बेशक उन्होंने टिकट के लिए हाथ-पांव तो मारे मगर निराशा ही हाथ लगी। 

गलतफहमी का शिकार रहने वाले गोयल ने लोकसभा चुनाव के बाद भी हिम्मत नहीं हारी और दिल्ली विधानसभा चुनाव से पूर्व कई महीनों तक खुद को सीएम प्रत्याशी प्रोजेक्ट करवाने के लिए 70 विधानसभाओं में जाकर खूब सभाएं और प्रदर्शन किए, लेकिन इससे वहां के क्षेत्रीय नेताओं में भी असुरक्षा की भावना पनपने लगी। लिहाजा कार्यकर्ताओं ने उनसे दूरी बनाना ही बेहतर समझा। 

दिल्ली विधानसभा चुनाव का बिगुल बज चुका है और चुनाव समिति में जिस तरह से गोयल को तवज्जो नहीं मिली उससे साफ है कि केन्द्रीय संगठन दिल्ली में गोयल को कम से कम अब कोई बड़ी जिम्मेदारी देता नहीं दिखाई दे रहा है। चर्चा है कि दिल्ली में वरिष्ठ और अनुभवी भाजपा नेता होने के बावजूद प्रदेश द्वारा गोयल को वरीयता नहीं दी गई, जबकि डॉ. हर्षवर्धन को घोषणा पत्र का संयोजक बनाया गया जिनसे गोयल कहीं ज्यादा अनुभवी व वरिष्ठ भी हैं। ऐसा सिर्फ इसलिए क्योंकि गोयल भूले से भी कोई अहम जिम्मेदारी मिलते ही मनमानी करने से कतई नहीं चूकते।