BREAKING NEWS

चीन के साथ 1962 के युद्ध ने विश्व मंच पर भारत की स्थिति को काफी नुकसान पहुंचाया : जयशंकर ◾झारखंड में रघुबर दास नहीं, मोदी-शाह करेंगे चुनाव प्रचार का नेतृत्व ◾भारत ने अयोध्या, कश्मीर पर पाकिस्तानी दुष्प्रचार का दिया करारा जवाब◾शी चिनफिंग और मोदी के बीच वार्ता ◾महाराष्ट्र में भाजपा-शिवसेना में विलगाव ने कांग्रेस-राकांपा को किया है एकजुट ◾गृहमंत्री अमित शाह शुक्रवार को जायेंगे सीआरपीएफ के मुख्यालय ◾झारखंड : भाजपा ने 15 उम्मीदवारों की तीसरी सूची जारी की ◾JNU में विवेकानंद की प्रतिमा के चबूतरे पर आपत्तिजनक संदेश◾राफेल की कीमत, ऑफसेट के भागीदारों के मुद्दों पर सरकार के निर्णय को न्यायालय ने सही करार दिया : सीतारमण ◾झारखंड चुनाव के पहले चरण के लिए कांग्रेस के 40 स्टार प्रचारकों की सूची जारी ◾आतंकवाद के कारण विश्व अर्थव्यवस्था को 1,000 अरब डॉलर का नुकसान : PM मोदी◾महाराष्ट्र गतिरोध : कांग्रेस, राकांपा और शिवसेना में बातचीत, सोनिया से मिल सकते हैं पवार ◾मोदी..शी की ब्राजील में बैठक के बाद भारत, चीन अगले दौर की सीमा वार्ता करने पर हुए सहमत ◾कुलभूषण जाधव मामले में पाकिस्तान ने भारत से किसी भी समझौते से किया इनकार ◾राफेल के फैसले से JPC की जांच का रास्ता खुला : राहुल गांधी ◾राफेल पर उच्चतम न्यायालय के फैसले के बाद देवेंद्र फड़णवीस बोले- राहुल गांधी को अब माफी मांगनी चाहिए ◾नोबेल विजेता कैलाश सत्यार्थी ने कहा- शुद्ध हवा सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री को ठोस कदम उठाने चाहिए◾TOP 20 NEWS 14 November : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾RSS-भाजपा को सबरीमाला पर न्यायालय का फैसला मान लेना चाहिए : दिग्विजय सिंह ◾महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाए जाने को लेकर CM ममता ने राज्यपाल कोश्यारी पर साधा निशाना ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

अस्पतालों में हड़ताल खत्म काम पर लौटे डॉक्टर

नई दिल्ली : पिछले चार दिनों से राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग (एनएमसी) विधेयक के खिलाफ चल रही डॉक्टरों की हड़ताल आखिर रविवार को समाप्त हो गई। आज से एम्स सहित दिल्ली के कई अस्पतालों में न सिर्फ इमरजेंसी, बल्कि ओपीडी सेवाएं भी बहाल हो गईं। ऐसे में अंदेशा जताया जा रहा है कि आज स्वास्थ्य सेवाएं वापस पटरी पर लौट आएंगी। 

वहीं चार दिनों बाद अस्पताल ओपीडी बहाल होने की वजह से भीड़ के भी आसार अधिक होंगे। बता दें कि, केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने रविवार दोपहर को एम्स और सफदरजंग अस्पताल के हड़ताली डॉक्टरों को अपने निवास स्थान पर बुलाकर बैठक की थी। सूत्रों की माने तो हर्षवर्धन ने इस दौरान डॉक्टरों को न सिर्फ खरीखोटी सुनाई भी, बल्कि उन्हें काम पर लौटने की अंतिम चेतावनी भी दी। 

हालांकि इसके साथ ही एनएमसी विधेयक को लेकर डॉक्टरों में गलतफहमी होने का जिक्र करते हुए सरकार की ओर से संशोधन की पूरी न होने की जानकारी भी दी। अंतिम चेतावनी मिलने के बाद सभी डॉक्टरों ने एकसाथ बैठक कर हड़ताल समाप्त कराने का फैसला लिया। दिल्ली एम्स आरडीए अध्यक्ष डॉ. अमरिंदर ने कहा केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने उन्हें विश्वास दिलाया है कि एनएमसी बिल के लोगू होने के दौरान सभी चिकित्सीय संगठन से परामर्श अवश्य लिया जाएगा। इसके अलावा एनएमसी के बोर्ड में एम्स निदेशक की भूमिका भी होगी।

मरीजों की हालत देख कर हड़ताल ली गई वापसः फोर्डा 

फेडरेशन ऑफ रेजीडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (फोर्डा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. सुमेध ने कहा, मरीजों की हालत को देखते हुए ही फिलहाल हड़ताल को समाप्त करने का फैसला लिया गया है। सोमवार से फोर्डा से जुड़े लगभग सभी 20 अस्पतालों के रेजीडेंट डॉक्टर काम करेंगे। फोर्डा अब भी एनएमसी बिल के खिलाफ है। वहीं इंडियन मेडिकल एसोसिएशन और दिल्ली मेडिकल एसोसिएशन ने विधेयक को समर्थन देते हुए बैकपुट पर आ चुके हैं।

बैठक में फैसला : सफदरजंग आरडीए

सफदरजंग अस्पताल की आरडीए के अध्यक्ष डॉ. प्रकाश ठाकुर का कहना है कि वह सोमवार सुबह नौ बजे एक बैठक करेंगे। जिसके बाद हड़ताल खत्म करने को लेकर कोई फैसला लिया जाएगा। हालांकि रविवार को तीन दिन बाद इमरजेंसी सेवा बहाल हो गई थी।

एम्स में मरीजों का रहा टोटा

राजधानी दिल्ली में पिछले चार दिनों से चल रही डॉक्टरों की हड़ताल ने देश के सबसे बड़े संस्थान एम्स में सन्नाटा पसार दिया है। रविवार को अस्पताल पूरी तरह खाली दिखा। कभी चलने भर की जगह न मिलने वाले अस्पताल में लोगों को बड़ी ही आसानी से बेड मिल गए।

मरीजों को जबरन निकाल दिया था बाहर

रेजीडेंट डॉक्टरों के हड़ताल पर जाने की वजह से पहले से भर्ती मरीजों के साथ बहुत गलत बर्ताव किया गया था। आलम ये रहा कि हड़ताल का हवाला देकर लगभग सभी मरीजों को अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया। सफदरजंग अस्पताल के 800 बेड वाले वार्ड में केवल 15 मरीज ही भर्ती मिली। एम्स के ट्रामा सेंटर में भी आमदिनों की भांति रविवार को कुछ ही मरीज नजर आए थे।