BREAKING NEWS

महाराष्ट्र : सीएम शिंदे की जान को खतरा, बढाई गई सुरक्षा◾सियासत के धरती पुत्र मुलायम सिंह की बिगड़ी तबीयत, आईसीयू में शिफ्ट◾उद्धव गुट में टूट जारी, वर्ली के 3000 शिवसैनिकों ने थामा शिंदे गुट का दामन ◾फिर उबाल मार रहा हैं खालिस्तान मूवमेंट, बठिंडा में दीवार पर लिखे गए खालिस्तान समर्थक नारे◾पुलवामा में आतंकी हमला, एक पुलिस जवान शहीद, सशस्त्र बल का जवान घायल ◾बीजेपी ने नीतीश कुमार को दी सलाह, कहा - आपकी विदाई तय, बांध लें बोरिया-बिस्तर◾Congress President Election: कांग्रेस अध्यक्ष पद का चुनाव क्यों लड़ रहे हैं मल्लिकार्जुन खड़गे? बताया पूरा प्लान ◾खड़गे से खुले आसमान के नीचे बहस करने के लिए तैयार हूं - शशि थरूर ◾ महात्मा गांधी की विरासत को हथियाना आसान पदचिन्हों पर चलना मुश्किल : राहुल गांधी ◾मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने महात्मा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री को श्रद्धांजलि अर्पित की◾इस बात पर गौर किया जाना चाहिए कि नए मुख्यमंत्री के नाम पर विधायकों में नाराजगी क्यों है : गहलोत◾पायलट को बीजेपी का खुला ऑफर, घर लक्ष्मी आए तो ठुकराए नहीं ◾राजस्थान में बढ़ा सियासी बवाल, अशोक गहलोत ने विधायकों की बगावत पर दिया बड़ा बयान◾राजद नेताओं पर जगदानंद सिंह ने लगाई पाबंदिया, तेजस्वी यादव पर टिप्पणी ना करने की मिली सलाह ◾ इयान तूफान के कहर से अमेरिका में हुई जनहानि पर पीएम मोदी ने जताई संवेदना ◾महात्मा गांधी की ग्राम स्वराज अवधारणा से प्रेरित हैं स्वयंपूर्ण गोवा योजना : सीएम सावंत◾उत्तर प्रदेश: अखिलेश यादव पर राजभर ने कसा तंज, कहा - साढ़े चार साल खेलेंगे लूडो और चाहिए सत्ता◾ पीएम मोदी ने गांधी जयंती पर राजघाट पहुंचकर बापू को किया नमन, राहुल से लेकर इन नेताओं ने भी राष्ट्रपिता को किया याद ◾महाराष्ट्र: शिंदे सरकार का कर्मचारियों के लिए नया अध्यादेश जारी, अब हैलो या नमस्ते नहीं 'वंदे मातरम' बोलना होगा◾Gandhi Jayanti: संयुक्त राष्ट्र की सभा में 'प्रकट' हुए महात्मा गांधी, 6:50 मिनट तक दिया जोरदार भाषण◾

भयावह तस्वीर! आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से शव को ई रिक्शा में डाल अंतिम संस्कार कराने पहुंचा भाई

कोरोना महामारी में एक तरफ स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को पाने के लिए जद्दोजहद करनी पड़ी है तो दूसरी ओर आलम ये है की शवों को श्मशान ले जाने के लिए एंबुलेंस तक नसीब नहीं हो रही है। उस बेबसी और दर्द को क्या कहेंगे जब अपने करीबी का शव भी ई-रिक्शा में ले जाना पड़े ? दिल्ली के शास्त्री पार्क निवासी 40 वर्षीय पवन की गुरुवार शाम तबियत खराब होने के कारण मृत्यु हो गई, मृतक की पत्नी लक्ष्मी और उनका भाई बलराम उन्हें ऑटो से स्थनीय अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन उन्हें मृत घोषित कर दिया गया।

परिवार की आर्थिक स्थिति और ज्यादा जानकारी न होने के कारण भाई के शव को अस्पताल से ई रिक्शा पर ही श्मशान घाट तक ले जाने पर मजबूर होना पड़ा। मृतक के भाई बलराम शर्मा ने बताया कि, "एम्बुलेंस के लिए अस्पताल के बाहर खड़े एक व्यक्ति को बोला था। लेकिन उसने कहा कि ऐसे एम्बुलेंस नहीं मिलती है, आप ई रिक्शा ही करके शव को ले जाओ। ई रिक्शा वाले ने शमशान घाट तक के हमसे 150 रुपए लिए।" दूसरी ओर मृतक की पत्नी लक्ष्मी ने बताया कि,"गुरुवार शाम 4 बजे करीब मेरे पति बेहोश हो गए, मेरे पति की पहले से दिमागी हालात ठीक न होने के कारण उनका इलाज चल रहा था। अचानक दिल का दौरा पड़ा, हम उन्हें स्थनीय जग प्रवेश चंद्र अस्पताल लेकर गए।"

"अस्पताल पहुंचने के बाद डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया, जिसके बाद उनके शव को घर लेकर नहीं आए, सीधे श्मशान घाट ही लेकर गए।" दरअसल परिवार में कोई अधिक लोग न होने के कारण कोई काम करने वाला नहीं था, साथ ही घर में बुजुर्ग मां है जो अपने बेटे को बेहद प्यार करती थी, यदि परिवार घर शव लेकर पहुंचता तो मां की भी तबियत बिगड़ सकती थी। इसी सोच के कारण मृतक पवन के शव को अस्पताल से सीधे श्मशान घाट ले जाया गया।

मृतक पवन की पत्नी लक्ष्मी कपड़ो की फैक्ट्री में काम करती है लेकिन महामारी के दौरान सब कुछ बंद होने के कारण वह घर बैठने पर मजबूर है। वहीं लक्ष्मी की दो छोटी बेटियां भी है जिनकी उम्र 11 और 3 वर्ष है। मृतक के भाई बलराम ने आगे बताते हुए कहा कि, "भाई के शव को निगमबोध शमशान घाट लेकर पहुंचने पर उधर मौजूद लोगों ने हमारी बहुत मदद की वहीं हमारे भी का अंतिम संस्कार भी निशुल्क कराया। क्योंकि मैं घर पर ही पर्स बनाने का काम करते हैं, लेकिन पाबंदियों के चलते काम बंद पड़ा हुआ है और घर की आर्थिक स्तिथी बिगड़ गई है।" शमशान घाट पर NGO चला रहे सुनील और उनके कुछ साथियों ने मिलकर बलराम के भाई का निशुल्क अंतिम संस्कार कराने में मदद की, इतना हीं नही रीति रिवाज में इस्तेमाल होने वाली सभी चीजों को भी खरीदवाया।

जयशंकर ने एंटनी ब्लिंकन से कई मुद्दों पर की बातचीत, भारत का साथ देने के लिए US का जताया आभार