BREAKING NEWS

पाकिस्‍तान: सुप्रीम कोर्ट ने देशद्रोह मामले में फैसले के खिलाफ मुशर्रफ की याचिका पर सुनवाई से किया इनकार ◾सीएए और एनआरसी के खिलाफ लखनऊ में महिलाओं का प्रदर्शन जारी◾NIA ने संभाली आतंकियों के साथ पकड़े गए DSP दविंदर सिंह मामले की जांच की जिम्मेदारी◾वकील इंदिरा जयसिंह की निर्भया की मां से अपील, बोलीं- सोनिया गांधी की तरह दोषियों को माफ कर दें◾ट्रंप ने ईरान के 'सुप्रीम लीडर' को दी संभल कर बात करने की नसीहत◾ राजधानी में छाया कोहरा, दिल्ली आने वाली 20 ट्रेनें 2 से 5 घंटे तक लेट◾निर्भया : घटना के दिन नाबालिग होने का दावा करते हुए पवन पहुंचा सुप्रीम कोर्ट◾PM मोदी ने मंत्रियों से कहा, कश्मीर में विकास का संदेश फैलाएं और गांवों का दौरा करें ◾भाजपा ने अब तक 8 पूर्वांचलियों पर लगाया दांव◾यूरोपीय संघ के उच्च प्रतिनिधि ने PM मोदी से भेंट की◾दिल्ली पुलिस आयुक्त को NSA के तहत मिला किसी को भी हिरासत में लेने का अधिकार◾न्यायालय से संपर्क करने से पहले राज्यपाल को सूचित करने की कोई जरूरत नहीं : येचुरी◾ममता ने एनपीआर,जनसंख्या पर केन्द्र की बैठक में नहीं लिया भाग◾सिंध में हिंदू समुदाय की लड़कियों के अपहरण को लेकर भारत ने पाक अधिकारी को किया तलब◾नड्डा का 20 जनवरी को निर्विरोध भाजपा अध्यक्ष चुना जाना तय◾हमें कश्मीर पर भारत के रुख को लेकर कोई शंका नहीं है : रूसी राजदूत◾IND vs AUS : भारत की दमदार वापसी, ऑस्ट्रेलिया को 36 रनों से हराया, सीरीज में बराबरी◾दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए 48 और नामांकन दाखिल◾राउत को इंदिरा गांधी के बारे में टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी : पवार◾कश्मीर में शहीद सलारिया का सैन्य सम्मान से अंतिम संस्कार, दो महीने की बेटी ने दी मुखाग्नि ◾

मास्क पहनने वाले भी प्रदूषण से नहीं बच पाएंगे : एम्स

नई दिल्ली : 'द मास्क मूवी' का नाम तो ज्यादातर लोगों ने सुना होगा और कुछ ने देखी भी होगी, लेकिन यहां पर हम बात कर रहे हैं दिल्ली में प्रदूषण के चलते लोगों द्वारा पहने जाने वाले मास्क की। एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने स्पष्ट किया है कि अभी तक कोई भी ऐसी रिपोर्ट नहीं मिली जिससे कि मास्क को प्रदूषण से बचाव में कारगर माना जा सके। मास्क लगाना लोगों के लिए 'ऊंट के मुंह में जीरा' वाली कहावत के समान साबित हो रहा है। 

मतलब ये कि भले ही हम घरों से बाहर मास्क लगाकर निकलें, लेकिन वह हमारे स्वास्थ्य के लिए कारगर नहीं है। प्रदूषण का 200 फीसद स्तर बढ़ना साफ संकेत देता है कि हम सभी के लिए खतरे की घंटी तो बहुत पहले ही बज चुकी है, सवाल तो अब बचाव का है। डॉक्टरों की माने तो दिल्ली की हवा में पीएम 2.5 से भी छोटे कण होने की वजह से ज्यादातर मास्क इंसानों के लिए लाभ नहीं पहुंचा सकते। 

किसी भी शोध में यह सामने नहीं आया है कि मास्क पीएम 2.5 या इससे छोटे आकार के प्रदूषण से बचाने में असरदार हैं। उन्होंने बताया कि छोटे कण सांस के जरिए फेफड़ों में पहुंचकर शरीर के सभी अंगों तक पहुंचकर नुकसान पहुंचाने लगते हैं। हालांकि प्रदूषित इलाकों में कुछ बेहतर मास्क का इस्तेमाल किया जाए तो कुछ हद तक राहत मिल सकती है।

एम्स दिल्ली छोड़ने का दे चुका है सलाह

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने राजधानी में पिछले कई दिनों से जारी हेल्थ इमरजेंसी पर टिप्पणी करते हुए कहा था कि अब दिल्ली रहने लायक नहीं है। इसे छोड़ने में ही भलाई होगी। उन्होंने कहा था कि गर्भवती महिलाएं, दमा के मरीज और वृद्ध व्यक्ति तत्काल दिल्ली छोड़ने का प्रबंध करें।