BREAKING NEWS

अमरिंदर सिंह ने प्रधानमंत्री, विदेश मंत्री से मुलाकात की ◾ओवैसी बोले- डराइए मत, शाह बोले- अगर डर जेहन में है तो क्या करें ◾मोदी ने असम के मुख्यमंत्री से फोन पर बात की, बाढ़ का हाल पूछा ◾Top 20 News -15 July : आज की 20 सबसे बड़ी ख़बरें◾विश्वास मत के दौरान अनुपस्थित रह सकते है कर्नाटक के बागी विधायक ◾ बिहार में बाढ़ का कहर जारी, 55 प्रखंड के 18 लाख से ज्यादा लोग प्रभावित ◾उदयपुर में बढ़ा तनाव : उग्र भीड़ ने दो रोडवेज बसें फूंकी, पुलिसकर्मियों पर किया पथराव◾लोकसभा में NIA संशोधन विधेयक 2019 को मिली मंजूरी◾सिद्धू के इस्तीफे पर बोले कैप्टन - यदि वह अपना काम नहीं करना चाहते, तो मैं कुछ नहीं कर सकता◾NIA कानून का इस्तेमाल शुद्ध रूप से आतंकवाद को खत्म करने के लिए ही करेंगे : अमित शाह ◾हिमाचल प्रदेश के राज्यपाल नियुक्त हुए कलराज मिश्रा, आचार्य देवव्रत को भेजा गया गुजरात ◾ओवैसी को शाह की नसीहत, बोले - सुनने की भी आदत डालिए साहब, इस तरह से नहीं चलेगा◾बीजेपी ने CM कुमारस्वामी के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने की मांग की ◾सूरत रेप मामले में सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की आसाराम की जमानत याचिका◾इलाहाबाद हाई कोर्ट से अगवा हुए युवक-युवती फतेहपुर से बरामद, अपहरणकर्ता गिरफ्तार ◾इलाहाबाद HC का आदेश, BJP विधायक की बेटी साक्षी और अजितेश को मिलेगी सुरक्षा◾बागी कर्नाटक विधायकों ने फिर लिखा पुलिस को पत्र, कहा- कांग्रेसी नेताओं से खतरा ◾हिमाचल प्रदेश के सोलन में इमारत ढही , 6 जवान समेत सात लोगों की मौत◾चंद्रयान-2 का काउंटडाउन रोका गया , जल्द ही नई तारीख का होगा ऐलान !◾World Cup 2019 ENG vs NZ : स्टोक्स और ‘बाउंड्री’ के दम पर इंग्लैंड बना विश्व चैंपियन ◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

यौन उत्पीड़न का फर्जी मामला : महिला पर लगा 50 हजार रुपये का जुर्माना

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक अनोखा फैसला देते हुए यौन उत्पीड़न की फर्जी शिकायत दर्ज कराने वाली एक महिला पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है जिसने अपने वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ यह मामला दायर करवाया था। 

अदालत ने महिला की याचिका खारिज कर दी जिसमें वरिष्ठ अधिकारी को संदेह के आधार पर मिले लाभ को चुनौती दी गई थी। 

अदालत ने कहा कि महिला की याचिका सुनवाई योग्य नहीं थी जिसमें उसने आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) के 2012 के आदेश को चुनौती दी थी और अधिकारी को दिए जाने वाले सेवानिवृत्ति के लाभों को रोकने का निर्देश देने की मांग की थी। 

न्यायमूर्ति जे आर मिधा ने कहा, “यह याचिका सुनवाई योग्य नहीं है जिसे याचिकाकर्ता (महिला) पर 50,000 रुपये के जुर्माने के साथ खारिज किया जाता है जिसे चार हफ्तों के भीतर दिल्ली उच्च न्यायालय के अधिवक्ता कल्याण न्यास में जमा कराने होंगे।” 

अदालत ने कहा कि महिला जिस संस्था के लिए काम करती है वह “फर्जी शिकायत दायर करने” के लिए उसके खिलाफ कानून के अनुरूप कार्रवाई करने को स्वतंत्र है।