BREAKING NEWS

अनुच्छेद 370 हटाने के खिलाफ प्रदर्शन कर रहीं फारूक अब्दुल्ला की बहन और बेटी को पुलिस ने हिरासत में लिया◾चरखी दादरी में बोले PM मोदी-हरियाणा की बेटियों ने हर क्षेत्र में साबित की है अपनी प्रतिभा ◾डेंगू मरीजों से मिलने पहुंचे केंद्रीय मंत्री अश्विनी चौबे पर PMCH में फेंकी गई स्याही, देखें VIDEO◾NSG के स्थापना दिवस समारोह में बोले अमित शाह-आतंकवाद के खिलाफ जारी है निर्णायक लड़ाई ◾महाराष्ट्र : BJP ने जारी किया संकल्प पत्र, 1 करोड़ नौकरी और राज्य को सूखा मुक्त बनाने का किया वादा◾PMC बैंक घोटाला : प्रदर्शन के बाद घर लौटे खाताधारक की हार्ट अटैक से मौत, बैंक में जमा थे 90 लाख◾अभिजीत बनर्जी को लेकर सिब्बल का PM मोदी पर कटाक्ष, कहा- काम पर लग जाइए, तस्वीरें कम खिंचवाइए◾भारत में बड़ी वारदात को अंजाम देने की साजिश, बालाकोट में 50 आतंकियों को दी जा रही है ट्रेनिंग◾प्रियंका ने अभिजीत बनर्जी को दी नोबेल की बधाई, बोलीं- आशा है न्याय योजना वास्तविकता बनेगी◾उत्तर प्रदेश में बेरोजगार हुए 25 हजार होमगार्ड, योगी सरकार ने खत्म की ड्यूटी◾FATF में अलग-थलग पड़ा पाकिस्तान, ‘डार्क ग्रे’ सूची में डाला जा सकता है नाम◾महाराष्ट्र चुनाव: उद्धव ठाकरे की रैली के लिए तोड़ी गई स्कूल की दीवार◾राफेल पर PM मोदी का राहुल को जवाब, कहा- वे चाहते थे नया विमान न आने पाए◾CM नीतीश कुमार ने पटना में भारी बारिश से हुये जलजमाव की उच्चस्तरीय समीक्षा की ◾मोबाइल वैन के जरिए प्याज बेचने की दिल्ली सरकार की योजना बेहद सफल रही : केजरीवाल ◾रविशंकर प्रसाद बोले- अफवाह फैलाने वाले संदेशों के स्रोत तक हो एजेंसियों की पहुंच◾भारतीय मूल के अभिजीत बनर्जी को मिला अर्थशास्त्र का नोबेल पुरस्कार, PM ने ट्वीट कर दी बधाई◾TOP 20 NEWS 14 October : आज की 20 सबसे बड़ी खबरें◾ PM नरेंद्र मोदी ने नीदरलैंड के राजा-रानी से वार्ता की ◾हरियाणा विधानसभा चुनाव : PM मोदी बोले- विपक्ष में दम तो कहे कि 370 वापस लाएंगे◾

दिल्ली – एन. सी. आर.

यौन उत्पीड़न का फर्जी मामला : महिला पर लगा 50 हजार रुपये का जुर्माना

दिल्ली उच्च न्यायालय ने एक अनोखा फैसला देते हुए यौन उत्पीड़न की फर्जी शिकायत दर्ज कराने वाली एक महिला पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है जिसने अपने वरिष्ठ अधिकारी के खिलाफ यह मामला दायर करवाया था। 

अदालत ने महिला की याचिका खारिज कर दी जिसमें वरिष्ठ अधिकारी को संदेह के आधार पर मिले लाभ को चुनौती दी गई थी। 

अदालत ने कहा कि महिला की याचिका सुनवाई योग्य नहीं थी जिसमें उसने आंतरिक शिकायत समिति (आईसीसी) के 2012 के आदेश को चुनौती दी थी और अधिकारी को दिए जाने वाले सेवानिवृत्ति के लाभों को रोकने का निर्देश देने की मांग की थी। 

न्यायमूर्ति जे आर मिधा ने कहा, “यह याचिका सुनवाई योग्य नहीं है जिसे याचिकाकर्ता (महिला) पर 50,000 रुपये के जुर्माने के साथ खारिज किया जाता है जिसे चार हफ्तों के भीतर दिल्ली उच्च न्यायालय के अधिवक्ता कल्याण न्यास में जमा कराने होंगे।” 

अदालत ने कहा कि महिला जिस संस्था के लिए काम करती है वह “फर्जी शिकायत दायर करने” के लिए उसके खिलाफ कानून के अनुरूप कार्रवाई करने को स्वतंत्र है।