नई दिल्ली : स्वास्थ्य क्षेत्र के बड़े नाम फोर्टिस और रैनबैक्सी के प्रमोटर रहे सिंह भाइयों के बीच की फूट अब मारपीट तक पहुंच गई है। बड़े भाई मलविंदर सिंह ने एक वीडियो जारी करते हुए छोटे भाई शिविंदर सिंह पर मारपीट का आरोप लगाया है। वीडियो में मलविंदर सिंह ने दावा किया है कि बीते बुधवार को शिविंदर ने उनके साथ मारपीट की है।

अपने हाथ पर लगे चोट को दिखाते मलविंदर ने कहा कि शिविंदर ने उनके छाती और पेट में चोट पहुंचाई और शर्ट का बटन भी तोड़ दिया। इतना ही नहीं शिविंदर ने उन्हें लगातार धमकी दी। यह सब कुछ 55 हनुमान रोड स्थित उनके ऑफिस पर शाम छह बजे के बाद हुआ। बताया जा रहा है।

fortis

उस समय वहां समूह की कंपनी प्रियस रियल इस्टेट की बोर्ड की बैठक चल रही थी, जिसमें शिविंदर की तरफ से दावा किया जा रहा था कि कंपनी ने गुरिंदर सिंह ढिल्लन और उनके परिवार की स्वामित्व वाली कंपनियों को लगभग 2,000 करोड़ रुपये दिए हैं। वहीं मीडिया में चल रहे खबरों के अनुसार शिविंदर सिंह ने मारपीट के आरोपों को गलत बताया है।

उनका कहना है कि उनकी गरिमा को खत्म करने के लिए झूठे आरोप लगाए जा रहे हैं। शिविंदर ने बताया कि वह पांच दिसंबर को अपनी कंपनी के दफ्तर में गए थे। जहां कंपनी में निदेशक उनके बड़े भाइयों के रिश्तेदार वहां कर्मचारियों के साथ जोर-जबर्दस्ती कर रहे थे। उन्होंने कर्मचारियों के हित में उन्हें रोकना चाहा तो मलविंदर ने उनका गिरेबां पकड़कर दीवार से चिपका दिया।