BREAKING NEWS

उत्तर प्रदेश में कोरोना के 5287 नए मामलों की पुष्टि, संक्रमितों की संख्या 3.48 लाख के पार पहुंची◾MI vs CSK IPL 2020 : चेन्नई सुपर किंग्स ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी का फैसला, जानिये प्लेइंग XI◾कोरोना वायरस: अगले हफ्ते पुणे में शुरू होगा ऑक्सफोर्ड वैक्सीन के तीसरे चरण का ट्रायल◾पत्रकार राजीव शर्मा ने जासूसी कर डेढ़ साल में कमाए 40 लाख रुपये, हर जानकारी के बदले मिले 1000 डॉलर◾भारत को कोरोना से लड़ाई में ऐतिहासिक उपलब्धि, स्वस्थ मरीजों के मामले में अमेरिका को पीछे छोड़ बना शीर्ष◾चीन के लिए रक्षा संबंधी जासूसी करने वाले पत्रकार समेत एक चीनी महिला और नेपाली युवक गिरफ्तार◾कृषि बिल को लेकर चिदंबरम का बड़ा हमला : हर पार्टी तय करे कि वह किसानों के साथ है या भाजपा के साथ◾J&K में एक साल के लिए बिजली-पानी के बिल हुए आधे, व्यापारियों के लिए 1350 करोड़ के पैकेज का ऐलान ◾आतंकियों की गिरफ्तारी के बाद राज्यपाल धनखड़ का ममता पर प्रहार, कहा - राज्य बना अवैध बम बनाने का घर◾जयपुर : ब्याज माफियाओं से परेशान होकर आभूषण व्यवसायी ने परिवार सहित लगाई फांसी ◾राहुल ने शेयर किया वीडियो, कहा- 'भारतीय राष्ट्रवाद क्रूरता और हिंसा का साथ नहीं दे सकता'◾कुलभूषण जाधव का प्रतिनिधित्व करने के लिए भारत की ''क्वींस काउंसल'' की मांग को पाक ने किया खारिज◾देश में कोरोना पॉजिटिव मामलों की संख्या 53 लाख के पार, 85 हजार से अधिक मरीजों ने गंवाई जान◾कंगना रनौत की याचिका जुर्माने के साथ खारिज की जानी चाहिए : बीएमसी ◾World Corona : विश्व में महामारी का कहर बरकरार, संक्रमितों का आंकड़ा 3 करोड़ 3 लाख के पार ◾एनआईए ने आतंकवादी अल-कायदा मॉड्यूल का किया भंडाफोड़, 9 लोग गिरफ्तार◾नहीं थम रहा महाराष्ट्र में कोरोना का कहर, बीते 24 घंटे में 21,656 नए केस, 405 की मौत ◾दिल्ली में कोरोना का विस्फोट जारी, बीते 24 घंटे में 4,127 नए केस, 30 की मौत ◾अधीर रंजन चौधरी ने अनुराग ठाकुर पर की विवादित टिप्पणी, लोकसभा में हुआ जमकर हंगामा◾नेपाल के स्कूलों में भारत के खिलाफ जहर, पाठ्य पुस्तकों में भारतीय हिस्सों वाला विवादित नक्शा शामिल ◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaSource : Ministry of Health and Family Welfare

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

‘राष्ट्रीय शिक्षा नीति का मसौदा सुनने में अच्छा पर कैसे होगा लागू’

नई दिल्ली : दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने राष्ट्रीय शिक्षा नीति (एनईपी) के बदलावों के लागू किये जाने पर प्रश्न चिन्ह खड़े किये हैं। सिसोदिया ने कहा कि एनईपी का मसौदा सुनने में तो बहुत अच्छा लग रहा है लेकिन इसमें यह नहीं बताया गया कि इन बदलावों को लागू कैसे किया जाएगा। उन्होंने कहा कि एनईपी को अगर चरणबद्ध तरीके से लागू नहीं किया गया, तो इसका अंत भी ‘किसी भी छात्र को फेल नहीं करने की नीति’(नो डिटेंशन पॉलिसी) की तरह एक 'आपदा’ के रूप में हो सकता है। 

उन्होंने कहा कि कुछ चीजों को छोड़कर यह एक अच्छा मसौदा है, जिन सिद्धान्तों की उन्होंने बात की है वे अच्छे हैं। उन्होंने उच्च लक्ष्य निर्धारित किए हैं लेकिन नीति में यह नहीं बताया गया कि इसे कैसे हासिल किया जाएगा। सिसोदिया ने कहा कि यही नो-डिटेंशन पॉलिसी के साथ हुआ था, शिक्षा के अधिकार को मौलिक अधिकार बनाया गया और नो-डिटेंशन पॉलिसी को बिना किसी तैयारी के लागू किया गया। 

शिक्षामंत्री ने कि वे कह सकते थे कि बी.एड कार्यक्रम में बदलाव होगा, अगले साल किताबें बदली जाएंगी, तृतीय वर्ष की परीक्षाओं के प्रारूप को बदला जाएगा और फिर ‘नो-डिटेंशन पॉलिसी’लागू की जाएगी। लेकिन शिक्षकों को ही नहीं पता कि क्या और कैसे करना है। उन्हें बस इतना पता है कि उन्हें बच्चों को फेल नहीं करना। यह इसके साथ भी हो सकता है, एनईपी का भी हाल नो-डिटेंशन पॉलिसी वाला हो सकता है। 

सिसोदिया ने कहा कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के पूर्व प्रमुख के कस्तूरीरंगन की अध्यक्षता में एक पैनल ने केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' को एनईपी पर एक मसौदा सौंपा था। मौजूदा एनईपी का ढांचा 1986 में तैयार किया गया था और उसे 1992 में संशोधित भी किया गया। 2014 आम चुनाव में भाजपा के घोषणापत्र में नई शिक्षा नीति का वादा किया गया था।