BREAKING NEWS

राज्य सरकारों के अनुरोध पर बढ़ सकती है लॉकडाउन की अवधि, केंद्र कर रही है विचार◾कोरोना को मात देने के लिए केजरीवाल सरकार ने बनाई खास '5T' योजना, होगा महामारी का सफाया◾कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया ने PM मोदी को लिखा पत्र, कोविड-19 से निपटने की दी सलाह◾महबूबा मुफ्ती को जेल से स्थानांतरित कर भेजा गया घर, PSA के तहत जारी रहेगी हिरासत◾मलेरिया रोधी दवा पर हटी पाबंदी को लेकर राहुल बोले- सभी देशों की करनी चाहिए मदद लेकिन पहले भारतीयों को कराया जाए मुहैया◾शर्मनाक : नरेला में 2 जमातियों ने क्वारनटीन सेंटर के दरवाजे पर किया शौच, दर्ज हुई FIR◾दुनियाभर में मलेरिया रोधी हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन दवा की मांग के बीच मोदी सरकार ने आपूर्ति पर हटाया प्रतिबन्ध◾UP के बागपत में अस्पताल से फरार हुआ कोरोना पॉजिटिव जमाती, प्रशासन में मचा हड़कंप◾Coronavirus : विश्व में लगभग 14 लाख पॉजिटिव केस आए सामने वहीं 74,000 के करीब पहुंचा मौत का आंकड़ा◾कोविड-19 : देश में 4,421 संक्रमित मामलों की पुष्टि , पिछले 24 घंटे में हुई 5 मौत◾भारत से हाइड्रोक्सीक्लोरोक्वीन की आपूर्ति पर ट्रम्प बोले- भेजेंगे तो सराहनीय वरना करेंगे आवश्यक कार्रवाई◾विश्व स्वास्थ्य दिवस के अवसर पर PM मोदी ने किया ट्वीट,लिखा-फिर मुस्कुराएगा इंडिया और फिर जीत जाएगा इंडिया◾जम्मू-कश्मीर में LOC के पास आज सुबह पाकिस्तान ने की गोलीबारी, सेना की जवाबी कार्रवाई जारी ◾चीन से आई कोविड-19 की अच्छी खबर, पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस से नहीं हुई किसी भी व्यक्ति की मौत ◾coronavirus : तमिलनाडु में कोविड-19 से 621 लोग संक्रमित, 574 मामलें तबलीगी जमात से जुड़े◾Coronavirus : तेलंगाना मुख्यमंत्री कार्यालय की सफाई, कहा- सीएम ने लॉकडाउन बढ़ाने की सलाह दी लेकिन कोई घोषणा नहीं ◾स्वास्थ्य मंत्रालय : तबलीगी जमात से जुड़े 1,445 लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए, 25 हजार से अधिक एकांतवास में◾दिल्ली में कोरोना से अब तक 523 लोग हुए संक्रमित, पिछले 24 घंटे में 20 नए मामले आए सामने ◾कोरोना से हुई कुल मौतों में 73 प्रतिशत पुरुष जबकि 27 प्रतिशत महिलाएं : स्वास्थ्य मंत्रालय◾केंद्र का बड़ा फैसला, PM सहित कैबिनेट मंत्रियों और सांसदों के वेतन में 30 फीसदी की होगी कटौती◾

भारत में कोरोना के आँकड़े #GharBaithoNaIndiaLast Update :

कोरोना की पुष्टि

इलाज चल रहा है

ठीक हो चुके

मृत लोग

पुलिस के लिए सिरदर्द जेएनयू केस

नई दिल्ली : जेएनयू कैंपस में हुई हिंसा का मामला पुलिस के लिए सिरदर्द ही बनता नजर आ रहा है। एक तरफ जहां चारों तरफ से पुलिस पर केस को जल्द से जल्द सुलझाने का प्रेशर है, वहीं अभी तक पुलिस इस केस का राजफाश नहीं कर पाई है। पुलिस नकाबपोश हमलावरों के बारे में जानकारी जुटाने में लगी हुई है। 

पुलिस का दावा है कई नकाबपोश की पहचान हाे चुकी है, लेकिन उनके खिलाफ अभी प्रर्याप्त सबूत नहीं मिल सके हैं। सूत्रों के मुताबिक शुरुआती जांच में हिंसा के पीछे दोनों ही संगठन के छात्रों का हाथ होना सामने आया है। इसमें कुछ भारी लोग भी शामिल थे। उधर, पुलिस कुछ संदिग्धों की तलाश में भी जुटी है। 

सूत्रों का कहना है जेएनयू अध्यक्ष आइशी घोष ने रविवार को हुई हिंसा को लेकर वसंतकुंज नार्थ थाने के पुलिस इंस्पेक्टर और नई दिल्ली रेंज के ज्वाइंट सीपी आनंद मोहन को वाट्सएप मैसेज भेजा था। इस मैसेज में पुलिस को बताया गया था कि कैंपस में बड़ी संख्या में हमलावर घुस आए हैं जो मारपीट कर रहे हैं। उस वक्त पुलिस पहले से ही हाईकोर्ट के आदेश पर कैंपस के अंदर मौजूद थी। ऐसे में वसंतकुंज नार्थ थाना पुलिस की भूमिका को भी चैक किया जा रहा है।

फिर जेएनयू पहुंची क्राइम ब्रांच की टीम

क्राइम ब्रांच की अपील के बावजूद जेएनयू के किसी भी छात्र अध्यापक ने अभी तक कोई डायरेक्ट वीडियो या मोबाइल फुटेज पुलिस को नहीं दी है। हारकर गुरुवार को क्राइम ब्रांच की टीम एक बार फिर जांच के सिलसिले में जेएनयू पहुंची। वहां कुछ छात्रों और शिक्षकों से हिंसा को लेकर बात की गई। इन छात्रों का किसी भी संगठन से कोई लेना देना नहीं है। 

उन्हाेंने पुलिस को जानकारी दी कि हमलावर मुंह पर कपड़ा लगाए हुए थे, ऐसा लग रहा था कि वे कैंपस के नहीं थे। पुलिस द्वारा अनुरोध करने के बाद भी वे बयान देने के लिए राजी नहीं हुए। एक तरफ जहां पुलिस खुद छात्रों से संपर्क साध रही है, वहीं छात्र कानून पचड़े में नहीं पड़ना चाहते।