BREAKING NEWS

‘आप' ने की महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध परिस्थितियों में मृत्यु मामले की सीबीआई जांच की मांग◾महाराष्ट्र में फड़णवीस सरकार के शासनकाल में हुए भ्रष्टाचार को सामने लाने का वक्त आ गया: कांग्रेस◾PM मोदी ने अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेंद्र गिरि के निधन पर जताया शोक, कहा- संत समाज की धाराओं को जोड़ने में निभाई बड़ी भूमिका◾अब इस राज्य में भी विधानसभा का चुनाव लड़ेगी 'AAP', केजरीवाल ने सियासी पिच पर लगाया छक्का!◾UP: अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि का संदिग्ध परिस्थितियों में निधन, पुलिस को मिला सुसाइड नोट◾पंजाब कांग्रेस के घमासान के बाद छत्तीसगढ़ में भी सत्ता को लेकर हलचल, दिल्ली पहुंचे टी एस सिंहदेव ◾पोर्नोग्राफी केस में राज कुंद्रा को मिली जमानत, कहा- बिना सबूत मुझे बनाया गया बलि का बकरा ◾पंजाब के नए नवेले CM चन्नी पर 'मी टू' के आरोप, NCW अध्यक्ष ने की कांग्रेस से यह मांग◾भाजपा का तंज - अगर कांग्रेस पंजाब चुनाव सिद्धू के नेतृत्व में लड़ेगी तो क्या चन्नी सिर्फ 'नाइट वॉचमैन' हैं◾रावत के बयान पर कांग्रेस की सफाई- CM के तौर पर चन्नी और PCC अध्यक्ष के रूप में सिद्धू होंगे चेहरा ◾ममता दीदी के साथ मुलाकात बहुत संगीतमय रही, उनका हर शब्द मेरे लिए संगीत जैसा रहा - बाबुल सुप्रियो ◾'चन्नी' को CM बनाने पर BJP का तंज- दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत ◾बंगाल राज्यसभा उपचुनाव : BJP नहीं उतारेगी उम्मीदवार, सुष्मिता के निर्विरोध चुने जाने की संभावना◾पीएम मोदी दलितों के नाम पर वोट मांगते हैं, लेकिन देश में किसी दलित को सीएम नहीं बनाया : रणदीप सुरजेवाला ◾रूसी यूनिवर्सिटी में बंदूकधारी छात्रों ने की गोलीबारी, अंधाधुंध फायरिंग में आठ लोगों की मौत◾CM बनते ही एक्शन में आए चरणजीत सिंह चन्नी, कहा- तीनों कृषि कानूनों को निरस्त करे केंद्र सरकार ◾जावेद अख्तर मानहानि केस में बड़ा ट्विस्ट, मुंबई कोर्ट में पेश हुईं कंगना, कहा-अदालत से उठ गया विश्वास ◾मायावती का वार- पंजाब में दलित CM बनाना चुनावी हथकंडा, हार को लेकर घबरायी हुई है कांग्रेस ◾कोलकाता में भारी बारिश से जनजीवन प्रभावित, जलजमाव से जगह-जगह लगा ट्रैफिक जाम ◾UP में घमासान, ओवैसी और अखिलेश पर तंज कसने के लिए BJP ने बनाया 'अब्बा जान' कार्टून◾

हाईकोर्ट ने सुशांत राजपूत की ‘असाधारण जिंदगी’ पर आधारित फिल्म की रिलीज पर रोक लगाने से किया इनकार

दिल्ली उच्च न्यायालय ने दिवंगत बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत पर कथित तौर पर आधारित फिल्म ‘न्याय: द जस्टिस’ की सिनेमाघरों तथा ओटीटी मंचों पर रिलीज पर रोक लगाने से शुक्रवार को इनकार कर दिया और कहा कि ऐसे व्यक्ति के ‘‘असाधारण’’ जीवन की कहानी में कोई ‘‘खराब हित’’ नहीं है। 

न्यायमूर्ति अनूप जयराम भम्भानी और न्यायमूर्ति जसमीत सिंह की अवकाशकालीन पीठ ने कहा कि ऐसा दिखाने के लिए कुछ नहीं है जिसका राजपूत की छवि पर ‘‘कोई हानिकारक असर’’ पड़ेगा क्योंकि उनके जीवन पर बन रही फिल्में उन बातों पर आधारित है ‘‘जो पहले ही जनता को मालूम हैं।’’ 

राजपूत के पिता ने एकल पीठ के फिल्म ‘न्याय: द जस्टिस’ की रिलीज या किसी को भी उनके बेटे के नाम या उससे मिलते जुलते नाम का इस्तेमाल करने पर रोक लगाने से इनकार करने के फैसले को चुनौती दी थी। उच्च न्यायालय ने कहा कि ऐसी कोई लिखित पटकथा या कहानी नही है जो फिल्म निर्माता ने इस्तेमाल की और उसने सुशांत के पिता की अपील पर कोई अंतरिम आदेश पारित करने से इनकार कर दिया। 

अदालत ने कहा, ‘‘ऐसा कुछ नहीं है जो निर्माताओं ने इस्तेमाल किया या कर सकते हैं जो पहले से ही जनता को उपलब्ध जानकारी से अलग हो। जीवन की ऐसी कहानी में कोई खराब हित नहीं है क्योंकि उस व्यक्ति का जीवन असाधारण था।’’ पीठ ने फिल्म के निर्देशक दिलीप गुलाटी और प्रोड्यूसर सरला सरावगी और राहुल शर्मा तथा अन्य से इस पर जवाब मांगा है। अदालत ने मामले पर अगली सुनवाई के लिए 14 जुलाई की तारीख तय की। 

पीठ ने वरिष्ठ अधिवक्ता चंदर लाल की इस दलील पर गौर किया कि फिल्म को निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार 11 जून को वेबसाइट और एक मोबाइल ऐप पर रिलीज किया गया। राजपूत के पिता की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने दलील दी कि फिल्म के प्रोड्यूसर और निर्देशक ने अभिनेता के जीवन की कहानी का कमर्शियल उद्देश्य के लिए गलत इस्तेमाल किया है। अभिनेता ने पिछले साल मुंबई में अपने घर में कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। 

साल्वे ने दलील दी कि एकल न्यायाधीश ने पुट्टास्वामी मामले (निजता के अधिकार) में उच्चतम न्यायालय द्वारा दिए कानून की गलत व्याख्या की और गलत निर्देश दिए। सुनवाई की शुरुआत में फिल्म के निर्देशक की ओर से पेश वकील ने अदालत को बताया कि फिल्म को लपालप ऑरिजिनल नाम के ओटीटी मंच पर रिलीज किया गया है। 

साल्वे ने कहा, ‘‘यह कोई अस्पष्ट मंच है और भगवान ही जानता है कि यह किस तरह की वेबसाइट है।’’ उन्होंने कहा कि यह फिल्म हर दिन निजता के अधिकार और निष्पक्ष मुकदमे के अधिकार का उल्लंघन कर रही है और अभिनेता की छवि खराब कर रही है। उन्होंने कहा, ‘‘इस फिल्म में उनके जीवन को दिखाने की कोशिश की गई है। उनके साथ असल में क्या हुआ था, उसकी जांच अब भी चल रही है। आप इतनी जल्दी कुछ कह नहीं सकते।’’ 

उच्च न्यायालय ने पहले पूछा था कि राजपूत की जिंदगी पर कथित तौर पर आधारित ‘न्याय: द जस्टिस’ 11 जून को रिलीज की जा चुकी है क्योंकि फिल्म के निर्देशक और अभिनेता के पिता ने इस पर विरोधाभासी बयान दिए थे। एकल न्यायाधीश ने 10 जून को ‘न्याय : द जस्टिस’ समेत कई फिल्मों की रिलीज पर रोक लगाने से इनकार करते हुए कहा था कि ये फिल्में न तो बायोपिक के तौर पर और न ही अभिनेता की जिंदगी में जो हुआ उसे तथ्यात्मक रूप से दिखाती हैं। 

अभिनेता की जिंदगी पर आधारित कुछ आगामी या प्रस्तावित फिल्मों में ‘सुसाइड ओर मर्डर : ए स्टार वाज लोस्ट’, ‘शशांक’ और एक बेनाम फिल्म शामिल है।